ग्वालियर : कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ अब होने लगी बगावत!

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : कांग्रेस कार्यकर्ता बोलने लगे उप चुनाव में नहीं किया कोई काम। दीपावली बाद खिलाफत की आवाज हो सकती है बुलंद।
ग्वालियर : कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ अब होने लगी बगावत!
कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ अब होने लगी बगावत!Social Media

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। जिले में प्रदेश संगठन के कई पदाधिकारी हैं, लेकिन उप चुनाव के दौरान यह पदाधिकारी कहां गायब रहे इसको लेकर अब सवाल उठने लगे हैं। वहीं शहर कांग्रेस अध्यक्ष की भूमिका को लेकर भी शिकवे-शिकायतें होने लगी हैं। कांग्रेसियों का कहना है कि अध्यक्ष ने शहर की दो विधानसभाओं में से किसी में भी अपनी प्रचार करने का काम नहीं किया, यही कारण है कि दीपावली बाद अध्यक्ष के खिलाफ कांग्रेसी मुखर होकर उनको हटाने की मांग कर सकते हैं।

शहर कांग्रेस अध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा की कार्यप्रणाली को लेकर पहले से ही शहर के कांग्रेसी नाराज चल रहे हैं। इसके पीछे कारण यह है कि वह कार्यकर्ताओं को अधिक महत्व न देकर स्वयं अपने हिसाब से काम कर रहे हैं। शिकवे शिकायतें हुईं, लेकिन उसके बाद उप चुनाव आ गया जिसके कारण प्रदेश कांग्रेस ने उनको हटाना उचित नहीं समझा था। देवेन्द्र शर्मा स्वंय ग्वालियर पूर्व से टिकट मांग रहे थे, लेकिन जब टिकट सतीश सिकरवार को मिला तो उसके बाद से ही वह कांग्रेस दफ्तर तक सीमित हो गए थे। शहर कांग्रेस अध्यक्ष संगठन का प्रमुख होता है और उसकी जिम्मेदारी बनती है कि वह कांग्रेस प्रत्याशियों के लिए संगठन को चुनाव प्रचार के लिए लगाएं साथ ही स्वयं भी लगे। इसके लिए अध्यक्ष किसी प्रत्याशी के बुलावे का इंतजार नहीं करता, लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष प्रत्याशी के बुलावे का इंतजार करते रहे। ग्वालियर पूर्व विधानसभा के साथ ही ग्वालियर में भी उन्होंने प्रचार से अपने आपको दूर रखा था। हां जब कोई बड़ा नेता आता था तो जरूर सभा में जरूर अपना चेहरा दिखाने के लिए पहुंच जाते थे। अब उप चुनाव में ग्वालियर विधानसभा में कांग्रेस की हार के बाद उनके खिलाफ कांग्रेसियों की बगावत दीपावली बाद सुनाई दे सकती है। कांग्रेस के कुछ नेताओ का कहना है कि संगठन को सक्रिय करने की जगह वह स्वंय भी प्रचार से दूर रहे, ऐसे में संगठन को सक्रिय अध्यक्ष की जरूरत है।

प्रदेश नेतृत्व के पास पहुंचने लगीं शिकायतें :

कांग्रेस के शहर अध्यक्ष के खिलाफ उप चुनाव के बाद अब शिकवे शिकायते पहुंचने लगी है। इसके पीछे कारण यह है कि शहर के कांग्रेस कार्यकर्ताओं को भी अध्यक्ष एकजुट नहीं कर सके। कांग्रेस सूत्र का कहना है कि दीपावली बाद शहर कांग्रेस अध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा को पद से हटाने की मुहिम तेज हो सकती है और संभावना है कि उनको बदला भी जा सकता है। कांग्रेस अब उप चुनाव के बाद संगठन को मजबूत करने पर ध्यान देगी ओर कार्यकर्ताओं को सम्मान मिले ऐसे अध्यक्ष बनाना चाहेगी। अब देखना है कि दीपावली बाद देवेन्द्र शर्मा की खिलाफत करने की पहल करने वालो में कौन शामिल होता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co