Gwalior : कोरोना से राहत तो डेंगू ने मचाई हाहाकार, 671 पर पहुंची मरीजों की संख्या
671 पर पहुंची मरीजों की संख्याSyed Dabeer Hussain - RE

Gwalior : कोरोना से राहत तो डेंगू ने मचाई हाहाकार, 671 पर पहुंची मरीजों की संख्या

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : जीआरएमसी की जांच में 60 निकले संक्रमित, इसमें 30 शहर के। डेंगू ने पिछले तीन वर्षों का तोड़ा रिकार्ड। 8 वार्डों को किया अतिसंवेदनशील घोषित।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। कोरोना से राहत है लेकिन गुरूवार को डेंगू के 60 मरीज और मिले हैं। इसके बाद ग्वालियर में पीडि़तों की संख्या 671 के ऊपर पहुंच गई है। गुरूवार को 165 डेंगू के संदिग्ध मरीजों की जांच की गई। इसमें 30 ग्वालियर व शेष अन्य जिलों के हैं। यह जांच गजराराजा मेडिकल की कालेज की माइक्रोबायलॉजी विभाग में की गई हैं। डेंगू मरीजों की संख्या ने पिछले तीन वर्षों का रिकार्ड तोड दिया है।

शहर में डेंगू के बढ़ते हुए मरीजों की संख्या को देखते हुए 66 वार्डों में से 8 वार्डों को अति संवेदनशील घोषित किया गया है। लगातार सर्वे व डेंगू का लार्वा विनिष्टीकरण के करने के बाद इन सभी आठ वार्डो से रोजाना ही डेंगू रोग से पीड़ित मरीज सामने आ रहे हैं। सबसे बुरी हालत डीडी नगर इलाके की है, यहां से अभी तक एक सैकड़ा से अधिक मरीज डीडी नगर व आसपास के इलाकों से ही मिल चुके हैं। डेंगू पर तत्काल काबू पाने के लिए स्वास्थ्य महकमें ने अपनी रणनीति में बदलाव किया है। जिला मलेरिया अधिकारी डॉ.नीलम सक्सेना ने बताया कि डेंगू रोग पर तत्काल काबू पाया जा सके इसके लिए रणनीति में बदलाव किया गया है। शहर के आठ वार्ड जिसमें 18,19,20,21 जिसमें मुरार के सभी मुख्य इलाके शामिल हैं साथ ही वार्ड 29 दर्पण कॉलोनी वाला इलाका, वार्ड नंबर 56 जेएएच कैंपस, वार्ड 55 कंपू व अवाड़पुरा के साथ गुडागुड़ी का नाका के साथ ही वार्ड 65 जिसमें सिकं दर कंपू, वीरपुर, सैनिक कॉलोनी व ग्राम अजयपुर शामिल हैं, इन सभी आठ वार्डों के सभी इलाकों को डेंजर जोन में शामिल किया गया है।

उधर,वायरल फीवर के मरीज भी तेजी से बढ़ रहे हैं। इसका असर सरकारी अस्पतालों की स्वास्थ्य सेवाओं पर दिखाई दे रहा है। दिनों दिन यहां के इंतजामों के दावों की हवा निकलने लगी है। अंचल के सबसे बड़े अस्पताल जयारोग्य हॉस्पिटल की ओपीडी में सैकड़ों लोग पहुंच रहे हैं।

डीडी नगर क्षेत्र अभी भी हाट स्पाट :

ग्वालियर में डेंगू के मरीज सबसे ज्यादा शहर के डीडी नगर, शताब्दीपुरम, पिंटो पार्क, गोला का मंदिर, मुरार, सिकंदर कंपू में मिल रहे हैं। डेंगू और मलेरिया के मामले में यह क्षेत्र बीते दिनों से लगातार हॉट स्पॉट बना हुआ है। यहां लगातार नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग की टीमें पहुंचकर लार्वा की जांच कर रही हैं। फिर भी डेंगू के डंक पर नियंत्रण नहीं हो सका है।

एक नजर पिछले वर्षों के आंकड़ों पर :

  • 2015 में मलेरिया के 3443 और डेंगू 466 मरीज मिले

  • 2016 में मलेरिया के 2500 और डेंगू 707 मरीज मिले

  • 2017 में मलेरिया के 1393 और डेंगू 465 मरीज मिले

  • 2018 में मलेरिया के 421 और डेंगू 1202 मरीज मिले

  • 2019 में मलेरिया के 169 और डेंगू 370 मरीज मिले

  • 2020 में मलेरिया के 49 और डेंगू 16 मरीज मिले

  • 2021 में मलेरिया के 20 और डेंगू 671 मरीज मिले

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.