Gwalior : पुलिस चौकी में स्टाफ सुबह रहता है रात में नहीं
जिला अस्पतालRaj Express

Gwalior : पुलिस चौकी में स्टाफ सुबह रहता है रात में नहीं

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : स्टाफ की मांग को लेकर सिविल सर्जन आज मिलेंगे एसएसपी से। जिला अस्पताल में आए दिन हो रहीं मारपीट की घटनाएं।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। जिला अस्पताल की पुलिस चौकी में सुबह पुलिसकर्मी तैनात रहता है। लेकिन रात को चौकी वीरान हो जाती है। इससे मरीज के साथ आने वाले अटेण्डर भय मुक्त होकर अस्पताल के चिकित्सक या स्टाफ के साथ मारपीट की घटना को अंजाम दे देते हैं। इन घटनाओं पर विराम लगाने के लिए सिविल सर्जन डॉ. राजेश शर्मा मंगलवर को एसएसपी अमित सांघी से मिलने जायेंगे और रात के समय स्टाफ की तैनाती की मांग करेंगे।

अस्पताल में होने वाली मारपीट और चोरी की घटनाओं पर विराम लगाने के लिए परिसर में पुलिस चौकी की स्थापना की गई। चौकी मेंं स्टाफ की मांग को लेकर अस्पताल के चिकित्सक वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित सांघी से मिले थे। इस पर एसएसपी ने वहां एक पुलिसकर्मी को तैनात कर दिया। यह पुलिसकर्मी सुबह से अपनी ड्यूटी करता है और शाम होते ही वहां से चला जाता है। इससे रात के समय जिला अस्पताल की पुलिस चौकी वीरान हो जाती है। इससे मरीज के साथ आने वाले अटेण्डरों का भय खत्म हो जाता है और वह गुस्से में आकर मारपीट कर देते हैं। हालांकि इन घटनाओं पर विराम लगाने के लिए सिविल सर्जन डॉ.राजेश शर्मा ने तैयारी कर ली है। डॉ.राजेश शर्मा ने बताया कि वह मंगलवार को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित सांघी से मिलने के लिए एसपी ऑफिस जायेंगे और रात के समय भी स्टाफ की तैनाती करने की मांग करेंगे।

गत दिवस ही हुई थी डॉक्टर के साथ मारपीट :

जिला अस्पताल में शनिवार-रविवार की देर रात्रि डॉ. अमर शर्मा के साथ कुछ लोगों ने मारपीट कर दी थी। डॉ.अमर का दोष सिर्फ इतना था कि उन्होंने मरीज की जान को बचाने के लिए अटेण्डरों को इमरजेंसी सर्जरी जेएएच में कराने की सलाह दे दी थी। इस पर अटेण्डर भड़क गए थे और उन्होंने डॉ.अमर के साथ मारपीट करने के साथ ही जान से मारने की धमकी दी थी। हालांकि उक्त घटना के बाद डॉ.अमर शर्मा ने मुरार थाना में एफआईआर दर्ज करा दी है।

जेएएच के ट्रॉमा सेंटर से गायब हुई चौकी :

जयारोग्य अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर में भी आए दिन मारपीट की घटनायें होती थीं। इस पर तत्कालीन जयारोग्य अस्पताल अधीक्षक डॉ.अशोक मिश्रा ने ट्रॉमा सेंटर में पुलिस चौकी की स्थापना कराई थी। इस पर स्टाफ भी तैनात रहता था। डॉ. अशोक मिश्रा के अस्पताल अधीक्षक पद से जाते ही इस ओर किसी ने ध्यान नहीं दिया तो धीरे-धीरे ट्रॉमा सेंटर की पुलिस चौकी भी खत्म हो गई। अब ट्रॉमा सेंटर की पुलिस चौकी की जगह पर मरीजों के पलंग डले हुए हैं।

एसएसपी की सामने अभी बल की समस्या :

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित सांघी के पास भी अभी पुलिस बल की समस्या है, क्योंकि चुनाव की तैयारियों जोरों पर हैं। कई हिस्सों में बांटकर पुलिस कर्मियों को जगह-जगह तैनात किया गया है। ताकि चुनाव के समय किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना का सामना नहीं करना पड़े।

इनका कहना है :

पुलिस चौकी में अभी सुबह एक पुलिसकर्मी तैनात रहता है। रात के समय कोई नहीं रहता। मंगलवार को सुबह 11:30 बजे हम वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित सांघी से मिलने जायेंगे और रात के समय भी स्टाफ की तैनाती की मांग करेंगे।

डॉ. राजेश शर्मा, सिविल सर्जन, जिला अस्पताल मुरार

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co