भोपाल से घूमने निकलीं तीन मासूम, ग्वालियर में उतारीं
भोपाल से घूमने निकलीं तीन मासूम, ग्वालियर में उतारींसांकेतिक चित्र

भोपाल से घूमने निकलीं तीन मासूम, ग्वालियर में उतारीं

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : भोपाल के पॉश इलाके में रहने वाले दो परिवारों की तीन मासूमों ने आपस में दिल्ली घूमने की प्लानिंग करी और ट्रेन में सवार हो गईं। ग्वालियर में जीआरपी ने ट्रेन से उतारा।

हाइलाइट्स :

  • घर में हुईं बोर तो निकलीं दिल्ली घूमने।

  • जीआरपी पुलिस ने किया तीनों मासूमों को किया परिजन के सुपुर्द।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। भोपाल के पॉश इलाके में रहने वाले दो परिवारों की तीन मासूमों ने आपस में दिल्ली घूमने की प्लानिंग परिजनों को बिना बताए कर ली। तीनों नाबालिग मंगलवार की रात भोपाल रेलवे स्टेशन पर पहुंचकर दिल्ली जा रही कालका एक्सप्रेस में सवार हो गईं। परिजनों ने तीनों के गायब होने की सूचना भोपाल पुलिस के साथ जीआरपी को दी। सूचना मिलते ही अलर्ट हुई जीआरपी ने मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात डेढ़ बजे ग्वालियर पहुंची कालका एक्सप्रेस में मिली तीनों नाबालिग को ग्वालियर में सुरक्षित उतारने के साथ ही भोपाल पुलिस व परिजनों को सूचना रात में ही दे डाली।

सूचना मिलते ही परिजन उन्हें लेने के लिए भोपाल से ग्वालियर के लिए रवाना हो गए हैं। जीआरपी एडीशनल एसपी प्रतिभा मैथ्यू व डीएसपी शुभ श्रीवास्तव, टीआई बलराम यादव ने बताया कि भोपाल निवासी तीनों नाबालिकों के पिता मोबाइल व रस्सी कारोबारी हैं। तीनों नाबालिग लॉकडाउन के चलते बीते डेढ़ साल से घर में रहकर परेशान हो चुकी थीं। इन तीनों ने मिलकर दिल्ली घूमने का प्लान बना डाला। तीनों नाबालिग मुनमुन आहूजा, दीपाली व नीतिका (परिवर्तित नाम) तीनों की उम्र 13 से 14 साल है। मंगलवार की शाम घर से निकलकर सीधे रेलवे स्टेशन पहुंची। यहां से वे बिना टिकट भोपाल से कालका जा रही कालका एक्सप्रेस के जनरल कोच में बैठ गईं। जीआरपी ग्वालियर से मिली जानकारी के अनुसार तीनों नाबालिग संपन्न परिवार से हैं। इनमें से दो नाबालिग के पिता का मोबाइल का कारोबार है वहीं तीसरी नाबालिग के पिता का रस्सी का कारोबार है। लेकिन दिल्ली घूमने के लिए तीनों के पास से महज चौंतीस रुपए ही मिले हैं। तीनों के ग्वालियर में होने की सूचना परिजनों को रात में ही देने के बाद परिजन उन्हें लेने भोपाल से ग्वालियर के लिए रवाना हो गए हैं।

मैगी से लेकर बिरयानी तक से हुई आवभगत :

तीनों मासूमों का जीआरपी स्टॉफ पूरा ध्यान रख रहा है। सुबह तीनों को चाय-कॉफी के साथ मैगी व बिरयानी का नाश्ता परोसा गया साथ ही स्टॉफ ने बाजार से चॉकलेट लाकर भी उन्हें खिलाई। तीनों को ग्वालियर उतारने में मुख्य भूमिका जीआरपी एएसआई सुखनंदी पेंड्रो, अंकित तोमर, महिला आरक्षी रूचि दुबे, आरक्षक अनुज तोमर की रही।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co