Gwalior : प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष सलूजा की मुश्किले बढ़ीं

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : विवादित राजनीतिक ऑडियो वायरल का मामला। आज ग्वालियर क्राइम ब्रांच ने किया तलब।
नरेंद्र सलूजा की मुश्किल बढ़ीं
नरेंद्र सलूजा की मुश्किल बढ़ींSocial Media

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। सोशल मीडिया पर अब वीडियो व ऑडियो वायरल करना किसी को भी महंगा पड़ सकता है। ऐसे ही एक मामले में प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष नरेंद्र सलूजा की मुश्किलें अब बढ़ती दिख रही हैं। अब उनको ग्वालियर क्राइम ब्रांच पुलिस ने सोमवार को तलब किया है। वहीं कांग्रेस इस मामले को राजनीतिक दवाब बनाने का आरोप बता रही है।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के मीडिया सलाहकार एवं कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष नरेंद्र सलूजा को एक विवादित राजनीतिक ऑडियो वायरल किए जाने के मामले में ग्वालियर पुलिस ने जांच के लिए सोमवार को तलब किया है। ग्वालियर क्राइम बांच ने एक नोटिस भेजकर उन्हें पांच सितंबर को ग्वालियर हाजिर होने के लिए कहा है। उल्लेखनीय है कि टिकट के बदले पैसों की मांग किए जाने वाले कथित ऑडियो को लेकर भाजपा ने कांग्रेस नेता सलूजा की 27 अगस्त को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से शिकायत करते हुए मांग की थी कि फर्जी ऑडियो जारी करने वाले कांग्रेस नेता के खिलाफ मामला दर्ज किया जाए। भाजपा नेताओं की शिकायत पर पुलिस ने अब सलूजा को सबूतों के साथ सोमवार को हाजिर होने की नोटिस जारी किया है।

यह है पूरा मामला :

कांग्रेस नेता सलूजा ने विगत दिनों टिकट के बदले पैसे मांगे जाने वाला कथित ऑडियो जारी कर यह दावा किया था कि वह भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य जयप्रकाश राजौरिया का है। भाजपा ने इस पर कड़ा ऐतराज जताते हुए कहा है कि ट्वीटर के माध्यम से झूठा आरोप लगाकर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की छवि को धूमिल करने का प्रयास है जो सरासर मानहानि एवं अपराध की श्रेणी में आता है। इस ऑडियो क्लिप का प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से पार्टी का कोई लेना देना नहीं है। भाजपा नेताओं ने पत्र के माध्यम से एसपी अमित सांघी से इसकी जांच कर सलूजा के खिलाफ प्रकरण पंजीबद्ध किए जाने की मांग की थी।

सत्ता के दवाब में दिया गया नोटिस : केके मिश्रा

प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष केके मिश्रा ने अपनी मीडिया टीम के उपाध्यक्ष नरेंद्र सलूजा के खिलाफ ग्वालियर पुलिस की अपराध शाखा द्वारा जारी नोटिस को बदले की भावना,सत्ता के दुरुपयोग बताया है। मिश्रा ने कहा कि एक सोशल मीडिया समूह में डाली गई एक पोस्ट जो तुरंत डिलिट भी कर दी गई थी, जिसमें ग्वालियर के किसी भाजपा नेता का नाम भी नहीं था, उसे आधार बना कर सलूजा के विरुद्ध यह एक साजिश रची गई है, ताकि भाजपा की असलियत उजागर करने वाले चिन्हित चेहरों की आवाज बंद की जा सके। सत्ता के इस प्रकार के हर दुरुपयोग का पार्टी एकजूटता के साथ मैदानी व कानूनी जवाब देगी। कांग्रेस नेता मिश्रा का कहना है कि सलूजा को लेकर पुलिस प्रशासन यदि इतना मुस्तैद है तो अभी तक वह बलात्कारी भाजपा नेता व अतिक्रमणकारी होटल रामाया के मालिक रामनिवास शर्मा को गिरफ्तार क्यों नहीं कर पाया है?

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co