बाल भवन में रविवार को आयोजित हुई बैठक में उठा मामला
बाल भवन में रविवार को आयोजित हुई बैठक में उठा मामलाRaj Express

Gwalior : तिघरा से कम मिल रहा पानी, चीफ इंजीनियर से बात करेंगे अधीक्षण यंत्री

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : शहर में जल आपूर्ति व्यवस्था लड़खड़ा गई है। कई जगहों पर लोगों को पानी नहीं मिल रहा। रोज शिकायतें आ रही हैं। पेजयल आपूर्ति की अव्यवस्था दूर करने के दिए निर्देश।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। शहर में जल आपूर्ति व्यवस्था लड़खड़ा गई है। कई जगहों पर लोगों को पानी नहीं मिल रहा। रोज शिकायतें आ रही हैं। इस मसले पर चर्चा के लिए निगमायुक्त किशोर कन्याल ने रविवार को बाल भवन में बैठक आयोजित की। बैठक में अधिकारियों ने बताया कि तिघरा बांध से कम पानी मिल रहा है जिससे पेजयल आपूर्ति में परेशानी आ रही है। इसे देखते हुए निगमायुक्त ने पीएचई अधीक्षण यंत्री आरएलएस मौर्य को निर्देश दिए कि वह जल संसाधन विभाग के चीफ इंजीनियर से चर्चा करें। हमें हर हाल में बांध से पर्याप्त पानी चाहिए। बैठक के दौरान निगमायुक्त ने कहा कि जहां भी पेजयल की किल्लत है वहां अधिकारी स्वंय मौके पर पहुंचकर निराकरण करें। जहां पानी नहीं मिल रहा वहां टेंकर से आपूर्ति कराएं।

पीएचई की समीक्षा बैठक में निगमायुक्त ने साफ हिदायत दी कि शहर के कई इलाकों में पानी नहीं पहुंच रहा। रोज शिकायतें आ रही हैं। जहां भी पानी की किल्लत है वहां हर हाल में आपूर्ति बहाल करें। जिन क्षेत्रों में नलों से पानी नहीं पहुंच रहा वहां टैंकर भेजे। कुल मिलाकर कहीं से भी पानी के लिए लोगों के परेशान होने की शिकायत नहीं आनी चाहिए। अधिकारियों ने बताया कि पहले तिघरा से रोज 10 से 12 एसीएफटी पानी प्रतिदिन मिल रहा था। लेकिन वर्तमान में 8 से 9 एमसीएफटी पानी मिल रहा है जिससे पेयजल आपूर्ति पूरी नहीं हो पा रही। अधिकारियों ने बताया कि तिघरा के स्लूस गेट की चूडिय़ां 28 पर फिक्स कर दी गई हैं जबकि बांध का लेबल लगातार घट रहा है जिससे पानी लगातार कम मिल रहा है। जल संसाधन विभाग के अधिकारी स्लूस गेट की चूडिय़ा नहीं बढ़ा रहे। उनके द्वारा बताया गया कि गेट की बेयरिंग खराब है और उसे छेड़ा तो गेट या तो फ्री हो जाएगा या फिर पूरी तरह बंद हो जाएगा। ऐसा हुआ तो पेयजल सप्लाई में दिक्कत आएगी। निगमायुक्त ने कहा कि हमें बांध से पर्याप्त पानी देने की जिम्मेदारी जल संसाधन विभाग की है। वह कैसे आपूर्ति बढ़ाएंगे यह उनकी जिम्मेदारी है। सोमवार को पीएचई अधीक्षण यंत्री आरएलएस मौर्य जल संसाधन विभाग के चीफ इंजीनियर आरसी झा के साथ बैठक करेंगे। इस बैठक में तय होगा कि किस तरह बांध से पर्याप्त पानी नगर निगम को दिया जा सके।

बारिश शुरू होने तक की परेशानी :

गर्मी के चलते आम जनता को प्रतिदिन पानी की सप्लाई आवश्यक है। एक दिन भी बिना पानी के काम नहीं चलता। यह मारामारी बारिश शुरू होने तक है। जैसे ही बारिश शुरू होगी पानी की किल्लत कम हो जायगी। साथ ही तिघरा बांध का जल स्तर बढऩे से अपने आप पानी अधिक मिलना शुरू हो जायगा। हालांकि अभी बारिश के दूर-दूर तक कोई आसार नहीं है इसलिए जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को स्लूस गेट का कोई न कोई इंतजाम करना होगा।

इनका कहना :

तिघरा से कम पानी मिल रहा है जिसके चलते सप्लाई प्रभावित हो रही है। इस संबंध में निगमायुक्त को जानकारी दी थी तो उन्होंने जल संसाधन विभाग के चीफ इंजीनियर से चर्चा के निर्देश दिए हैं।

आरएलएस मौर्य, अधीक्षण यंत्री, पीएचई, नगर निगम

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co