ग्वालियर : जब फण्ड मौजूद नहीं फिर विजन डॉक्यूमेंट तैयार करके क्या होगा
नगर निगम मुख्यालय, ग्वालियरSocial Media

ग्वालियर : जब फण्ड मौजूद नहीं फिर विजन डॉक्यूमेंट तैयार करके क्या होगा

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : बाल भवन की टीएलसी में मंगलवार को विभिन्न विभागों की बैठक बुलाई गई थी। शहर विकास की रूप रेखा तय करने बैठे थे अधिकारी, लेकिन बेनतीजा रही बैठक।

हाइलाइट्स :

  • बाल भवन में विभिन्न विभागों के अधिकारियों की बुलाई गई थी बैठक

  • शहर विकास की रूप रेखा तय करने बैठे थे अधिकारी, लेकिन बेनतीजा रही बैठक

  • अधिकारियों ने कहा कि वेतन देने के पैसे नहीं हैं, कैसे होंगे काम

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। बाल भवन की टीएलसी में मंगलवार को विभिन्न विभागों की बैठक बुलाई गई थी। बैठक में निगमायुक्त संदीप माकिन एवं एडीएम किशोर कन्याल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। इस बैठक में अधिकारियों को शहर का विजन डॉक्यूमेंट तैयार करना था। इसमें शहर की मुख्य सड़कों का निर्माण एवं अन्य कार्य किए जाने थे। लेकिन जब चर्चा की गई तो अधिकारियों ने कहा कि हमारे पास फण्ड नहीं है और सरकार ने कुछ भी स्पष्ट नहीं किया है। ऐसे में विजन डॉक्यूमेंट बनाने का भी कोई फायदा नहीं है। विभागों में वेतन तो बंट नहीं पा रहा फिर काम कैसे होंगे। कुल मिलाकर यह बैठक बेनतीजा साबित हुई।

दरअसल सोमवार को शहर प्रवास पर आए नगरीय प्रशासन विभाग के आयुक्त निकुंज श्रीवास्तव ने शहर की सभी सड़कों के चौड़ीकरण एवं निर्माण के लिए सभी विभागों की बैठक बुलाकर चर्चा करने के निर्देश दिए थे। इस संबंध में मंगलवार सुबह भी भोपाल से दिशा निर्देश प्राप्त हुए और इसी आधार बाल भवन की टीएलसी में बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में प्रशासन, नगर निगम, पीडब्लूडी, टाउन एण्ड कन्ट्री प्लानिंग, संभाग सेतू विभाग, पीआईयू एवं स्मार्ट सिटी के अधिकारी उपस्थित थे।

बैठक में चर्चा करते हुए निगमायुक्त संदीप माकिन ने संभाग सेतू विभाग के कार्यपालन यंत्री मोहर सिंह जादौन से चर्चा की। उन्होंने पूछा कि जो तीन आरओबी का काम अभी चल रहा है वह कब तक पूरा हो जाएगा। इस पर मोहर सिंह ने बताया कि विवेकानंद नीडम वाले पुल में हमारे विभाग का काम पूरा हो चुका है और रेलवे को टेण्डर करना है। सिर्फ रेलवे का हिस्सा बचा हुआ है। इसी तरह यादव धर्मकांटे से शताब्दी पुरम की तरफ बनने वाले पुल का काम लगभग पूरा हो चुका है और इसे मार्च 2020 में चालू कर दिया जाएगा। तानसेन नगर आरओबी का काम भी शुरू हो गया है और इसे भी जल्द पूरा कर लेंगे। इसके बाद निगमायुक्त ने कहा कि कौन-कौन से सड़कें ऐसी हैं जिन्हें फस्ट फेज में शामिल किया जा सकता है और कौन से सड़कें दूसरे फेज में शामिल होंगी। इस पर अधिकारियों ने अपना-अपना मत रखा। अधिकारियों का कहना था कि हम सड़कों की सूची तैयार कर लेंगे लेकिन इनका निर्माण किस मद से पूरा किया जाएगा। हमारे पास पैसा नहीं है और शासन से यह पता नहीं चला है कि कितना फण्ड मिल सकता है। इसी आधार पर ही विजन डॉक्यूमेंट तैयार करना ठीक रहेगा। अधिकारियों की यह बात एडीएम किशोर कन्याल को ना गवार गुजरी और उन्होंने कहा कि आप सभी अपने सुझाव देकर विजन डॉक्यूमेंट तो तैयार करें बाकी बातों पर शासन स्वयं निर्णय लेगा। लेकिन चर्चा बेनतीजा साबित हुई।

आपको तैयार करना है विजन डॉक्यूमेंट, हम सहयोग करेंगे :

सूत्रों के अनुसार बैठक में एडीएम किशोर कन्याल फण्ड उपलब्ध न होने वाली बात को लेकर नाराज हो गए। उन्होंने कहा कि हम सभी को मिलकर शहर विकास के लिए विजन डॉक्यूमेंट तैयार करना है। फण्ड कहां से आयगा यह शासन के ऊपर छोड़ दें। इस पर अधिकारियों ने कहा कि विजन डॉक्यूमेंट आपको तैयार करना है। अन्य विभाग तो समन्वय के लिए हैं। कुल मिलाकर अधिकारियों के बीच खींचतान चलती रही जिसके चलते किसी बात पर सहमति नहीं बन पाई।

इनका कहना है :

बैठक में विजन डॉक्यूमेंट तैयार करने को लेकर चर्चा की गई थी। कौन से काम एक साल में पूरे होंगे और कौन से तीन साल में पूरे होंगे इसे लेकर सभी अधिकारियों ने अपने विचार रखे। सड़कों का निर्माण किस तरह किया जाना है इसे लेकर भी चर्चा हुई है।

मोहर सिंह जादौर, कार्यपालन यंत्री, संभाग सेतू निगम

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co