ग्वालियर : साख सहकारी में हड़ताल जारी, पंजीयन का काम ठप्प
साख सहकारी में हड़ताल जारी, पंजीयन का काम ठप्पसांकेतिक चित्र

ग्वालियर : साख सहकारी में हड़ताल जारी, पंजीयन का काम ठप्प

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : पिछले 15 दिनों से साख सहकारी संस्थाओं के प्रबंधक और सेल्समैन हड़ताल कर रहे हैं। हड़ताल की वजह नियमितीकरण, बकाया कमीशन का भुगतान सहित अन्य मांगे हैं।

हाइलाइट्स

  • 15 दिन से जारी है सहकारी संस्थाओं की हड़ताल

  • प्रबंधक और सेल्समैन के हड़ताल पर जाने से ठप्प पड़ा है कामकाज

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। पिछले 15 दिनों से साख सहकारी संस्थाओं के प्रबंधक और सेल्समैन हड़ताल कर रहे हैं। हड़ताल की वजह नियमितीकरण, बकाया कमीशन का भुगतान सहित अन्य मांगे हैं। इस हड़ताल की वजह से गेंहू आदि की फसलों के लिए होने वाले पंजीयन का काम ठप्प पड़ गया है। इसको लेकर सोसायटी पर पंहुचने वाले किसान परेशान हो रहे हैं। इसके अलावा जिन क्षेत्रों में प्राथमिक सहकारी समितियों के जरिए राशन वितरण होता है वहां भी असर पड़ा है। हितग्राहियों को अन्न उत्सव में भी सामग्री का वितरण ठीक तरीके से नहीं हो सका है।

आखिर कब खत्म होगी हड़ताल

हडताल के कारण सहकारिता और खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के अधिकारियों ने ऑपरेटरों के जरिए काम कराने की कोशिश तो की, लेकिन यह कोशिश कारगर नहीं हो पा रही है। वहीं किसान परेशान होकर बोल रहे हैं कि आखिर ये हड़ताल खत्म क्यों नहीं होती। किसानों की परेशानी है कि खसरे से उनका आधार लिंक नहीं है। पटवारी के पास पहुंचने पर समस्या का समाधान नहीं निकल पा रहा है। सोसायटी पर कर्मचारी काम नहीं कर रहे हैं। ऐसे में 20 फरवरी तक कैसे पंजीयन होगा इसको लेकर किसान परेशान हैं।

किसानों को लौटना पड़ रहा वापस

समर्थन मूल्य पर फसल बेचने के लिए किसानों का पंजीयन तभी होगा जब वह आधार लिंक होगा। हड़ताल के कारण काम न होने से किसानों का आधार खसरे से लिंक नहीं हो पा रहा है। हालांकि सोसायटी पर पटवारी मिलते तो हैं, लेकिन उनके पास किसानों की समस्या का पूरा समाधान नहीं मिल पा रहा है। नतजीतन किसानों को वापस लौटना पड़ रहा है।

संभाग में हुए पंजीयन की संख्या

जिला पंजीयन

  • ग्वालियर 1765

  • भिंड 3617

  • श्योपुर 4295

  • मुरैना 3566

  • दतिया 2822

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co