नेताओं ने दी शुभकामनाएं
नेताओं ने दी शुभकामनाएं|Social Media
मध्य प्रदेश

गणतंत्र दिवस पर नेताओं ने प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

मध्यप्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री, वन मंत्री और पिछड़ा वर्ग एवं अल्प संख्यक कल्याण मंत्री ने प्रदेशवासियों को दी गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। हर साल की तरह इस बार भी गणतंत्र दिवस के जश्न की धूम। इस साल हम अपना 71वां गणतंत्र दिवस सेलिब्रेट करने जा रहे हैं। इस खास दिन के लिए मध्यप्रदेश के कोने-कोने में तैयारियां जोरो-शोरो से। 71वें गणतन्त्र दिवस पर CM, गृह एवं जेल मंत्री बाला बच्चन, वन मंत्री उमंग सिंघार और पिछड़ा वर्ग एवं अल्प संख्यक कल्याण मंत्री आरिफ अकील ने प्रदेशवासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं।

कमलनाथ ने गणतंत्र दिवस पर नागरिकों को दी बधाई और शुभकामनाएं

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गणतंत्र दिवस पर नागरिकों को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए आज कहा कि, राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस भारत के संविधान में आस्था व्यक्त करने का दिन है।

CM कमलनाथ ने कहा कि

1950 में संविधान लागू होने के बाद से संविधान भारत के गण की आत्मा बन चुका है। आत्मा को शुद्ध रखना, इसे बुराइयों से बचाना और सुरक्षित रखना हर नागरिक का कर्तव्य है। अशुद्ध आत्मा के साथ शरीर दीर्घायु नहीं रह सकता। मुख्यमंत्री ने कहा कि, प्रगति और समृद्धि के लिए शरीर और आत्मा दोनों का बेहतर स्वास्थ्य जरूरी है। उन्होंने नागरिकों का आव्हान किया अपने संवैधानिक कर्तव्यों का पालन करते हुए गणतंत्र को और मजबूत बनाएं।

श्री बच्चन ने अपने शुभकामना संदेश में कहा

प्रदेश में कानून-व्यवस्था बनाये रखने, सभी क्षेत्रों में माफिया का अन्त करने और नागरिकों की सुरक्षा के प्रति राज्य सरकार कृत-संकल्पित है। उन्होंने प्रदेश के विकास में सभी नागरिकों से सहयोग की अपील की है।

वन मंत्री उमंग सिंघार ने अपने शुभकामना संदेश में कहा

भारत को विश्व में महान लोकतांत्रिक देश के रूप में पहचान और प्रतिष्ठा मिली है। श्री सिंघार ने कहा कि भारतीय संविधान ने देश के विभिन्न राज्य, भाषा, वेश-भूषा, जाति और संस्कृति को एक सूत्र में पिरोया है। गणतंत्र दिवस इन्हीं संवैधानिक अधिकारों और कर्तव्यों के प्रति जागरूक होने का पर्व है। श्री सिंघार ने गणतंत्र दिवस पर प्रदेशवासियों से संवैधानिक मूल्यों की रक्षा का संकल्प लेने का आह्वान किया है।

पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसख्यंक कल्याण मंत्री आरिफ अकील ने अपने शुभकामना संदेश में कहा कि राज्य सरकार सभी वर्गों के कल्याण और प्रदेश में छोटे उद्योग स्थापित कर युवाओं को रोजगार से जोड़ने के लिये प्रयासरत है। श्री अकील ने नागरिकों से अपील की है कि, गणतंत्र दिवस के राष्ट्रीय पर्व को हर्षोल्लास और आपसी सद्भाव से मनायें। साथ ही प्रदेश के विकास में सभी नागरिक अपनी निजी सहभागिता सुनिश्चित करें।

गणतंत्र दिवस पर रिहा मप्र की जेलों में निरुद्ध 186 बंदी - बच्चन

मध्यप्रदेश शासन द्वारा गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को प्रदेश की विभिन्न जेलों से आजीवन कारावास से दंडित 5 महिला बंदी सहित कुल 186 बंदी रिहा किए। आधिकारिक जानकारी के अनुसार गृह एवं जेल मंत्री बाला बच्चन ने रिहा होने वाले बंदियों से कहा है कि, वह रिहाई बाद अपराध की दुनिया से नाता तोड़कर अपने परिवार की खुशहाली के लिये काम करें।

गणतंत्र दिवस पर रिहा सभी बंदी हत्या के अपराध में दंडित हुए थे। इन्होंने 14 वर्ष से लेकर 20 वर्ष तक की सजा भुगती है। इन बंदियों की शेष सजा राज्य शासन ने माफ कर दी है। बलात्कार और पॉक्सो प्रकरण में दंडित बंदियों को माफी नहीं दी गई है। रिहा किए जा रहे बंदियों को जेल में निरुद्ध रहते हुए टेलरिंग, कारपेन्ट्री, लोहारी, भवन मिस्त्री, भवन सामग्री निर्माण आदि का प्रशिक्षण दिया गया है, जिससे रिहा होने के बाद वे जीवकोपार्जन के साधन अर्जित कर सकें। रिहा होने वाली बंदियों में केन्द्रीय जेल उज्जैन के 20, सतना के 13, ग्वालियर के 27, बड़वानी के 11, होशंगाबाद के 8, जबलपुर के 22, रीवा के 23, सागर के 17, नरसिंहपुर के 3, इंदौर के 23 और केन्द्रीय जेल भोपाल के 19 बंदी शामिल हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co