Raj Express
www.rajexpress.co
सभापति आशा सिंह ने दी आत्मदाह की धमकी
सभापति आशा सिंह ने दी आत्मदाह की धमकी|Satyendra Chouhan
मध्य प्रदेश

स्वास्थ्य महिला एवं बाल विकास समिति की सभापति ने दी आत्मदाह की धमकी, मचा हड़कंप

सागर: स्वास्थ्य महिला एवं बाल विकास समिति की सभापति आशा सिंह ने जिला पंचायत सीईओ को लिखित में सूचना दी कि, वे 30 अक्टूबर को आयोजित जिला पंचायत की साधारण सभा की बैठक में आत्मदाह करे लेंगी।

Satyendra Chouhan

राज एक्‍सप्रेस। जिला पंचायत में व्याप्त भ्रष्टाचार एवं आरक्षित वर्ग के जनप्रतिनिधि द्वारा विभिन्न प्रस्तावों को जिला पंचायत की बैठकों में बार-बार उठाने के बाद भी उचित कार्रवाई नहीं करने के विरोध को लेकर जिला पंचायत की स्वास्थ्य महिला एवं बाल विकास समिति की सभापति आशा सिंह ने आत्मदाह करने की चेतावनी दे दी, जिससे जिला पंचायत में हड़कंप मच गया। उन्होंने जिला पंचायत सीईओ को लिखित में सूचना देते हुए अवगत कराया गया कि वे 30 अक्टूबर को आयोजित जिला पंचायत की साधारण सभा की बैठक में आत्मदाह करेंगी।

पुलिस विभाग को दी सूचना :

मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी सूचना पुलिस विभाग को दी गई, जिसके बाद जिला पंचायत में भारी पुलिस बल के बीच सोमवार को साधारण सभा की बैठक आयोजित हुई। श्रीमति सिंह को अधिकारी मनाते हुए नजर आए। उन्होंने यह भी कहा कि, उनकी जो भी जायज मांग है, उन्हें पूरा किया जाएगा, लेकिन आशा सिंह अधिकारियों की कार्यशैली को लेकर नाराज थी। उनका कहना था कि, वे लगातार बैठक में क्षेत्र से जुड़ी विभिन्न समस्याओं के निदान को लेकर आवाज उठाती हैं, लेकिन उनकी एक भी समस्या को पूरा नहीं किया जाता।

पंचायत सभाकक्ष में साधारण सभा की बैठक :

दोपहर 3 बजे जैसे ही जिला पंचायत सभाकक्ष में साधारण सभा की बैठक आयोजित की गई। बैठक में उपस्थित आशा सिंह पर पुलिस पूरी तरह से अपनी निगाह लगाए हुये थी। इस बीच आशा सिंह जिला पंचायत सभाकक्ष से 2 बार बाहर आई, तो उनके पीछे महिला पुलिस बल लगा रहा। उनका कहना था कि, शिकायत करने के बाद भी भ्रष्ट कर्मचारी पर कार्रवाई नहीं की जाती। विकास विस्तार अधिकारी बीसी जैन आरक्षित वर्ग के कर्मचारियों के खिलाफ भेदभाव पूर्ण कार्य करते हैं। उनकी पदस्थापन देवरी जनपद पंचायत में है, जबकि उन्हें जिला पंचायत में अटैच किया गया है। जनपद पंचायत केसली में पदस्थ लेखापाल का अन्य दूसरे स्थान पर स्थानांतरण करने का प्रस्ताव देने के बाद भी उन्हें नहीं हटाया गया। मेढकी से पुतर्रा मार्ग को लेकर विगत 5 साल से मांग कर रहे है, जिसकी वन विभाग द्वारा मार्ग निर्माण करने की स्वीकृति दी गई, लेकिन निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया। आदिम जाति कल्याण विभाग द्वारा ग्राम रामजी, ढुंगरिया, पठा खुर्द में मंगल भवन स्वीकृत नहीं करने के अलावा लोनिवि द्वारा जीएडी कालोनी 4/3 का मरम्मत कार्य नहीं करने को लेकर भी उनकी नाराजगी देखी गई।

उनके द्वारा जिन मांगों को लेकर आत्मदाह करने की चेतावनी दी गई है, अगर वे मांगे समय रहते पूरी नहीं की गई, तो वह अपनी बात पर अडिग रहेंगी। उन्होंने कहा कि, अधिकारियों के द्वारा लिखित में आश्वासन भी दिया गया है। अब आगे पता चलेगा की, उनकी मांगे कब तक पूरी होती हैं।

जिला पंचायत स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास सभापति आशा सिंह

3 माह बाद साधारण सभा की बैठक आयोजित :

बता दें कि, सोमवार को जिला पंचायत सभाकक्ष में करीब 3 माह बाद साधारण सभा की बैठक आयोजित की गई। बैठक में मुख्य रूप से विगत बैठक में अनुमोदित प्रस्तावों पर कार्रवाई को लेकर चर्चा की गई। बैठक में उपस्थित जिला पंचायत अध्यक्ष दिव्या अशोक सिंह बामोरा, जिला पंचायत कृषि सभापति अनीता राजकुमार महेरिया, अरविंद तोमर, गुलाबचंद गोलन, जनपद अध्यक्ष कमला यादव, देवप्रशांत सिंह, श्रीमति जशवंती, जिला पंचायत सीईओ चंद्रशेखर शुक्ला सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में दिए गए पिछले प्रस्तावों पर कार्रवाई नहीं होने को लेकर सदस्यों ने नाराजगी भी जताई। सदस्यों को कहना था कि, जब उनके द्वारा दिए गए प्रस्तावों पर कोई कार्रवाई नहीं की जाती है।