भोपाल : झमाझम बारिश से भीगी राजधानी, अगस्त में पहली बार हुई इतनी बारिश

भोपाल, मध्य प्रदेश : भोपाल में मौसम के करवट बदलने से फिजा में ठंडक घुल गई लेकिन लगातार हो रही बारिश अपने साथ परेशानियां भी लेकर आई। मौसम विभाग ने शनिवार तक भारी बारिश की दी चेतावनी।
भोपाल : झमाझम बारिश से भीगी राजधानी, अगस्त में पहली बार हुई इतनी बारिश
झमाझम बारिश से भीगी राजधानीKshitij Vyas

भोपाल, मध्य प्रदेश। बंगाल की खाड़ी में बने सिस्टम ने राजधानी की सडकों को भिगो दिया। इस महीने में यह अब तक की सबसे ज्यादा एक दिन की बारिश है। शुक्रवार को सुबह से ही हल्की तो कभी तेज बारिश का दौर जारी रहा। हालांकि बैरागढ़ इलाके में भोपाल शहर की अपेक्षा कम बरसात होने से राजधानी की बारिश का आंकड़ा बहुत अधिक नहीं बढ़ा। ज्ञात हो कि भोपाल की भोपाल की वर्षा का आंकड़ा, बैरागढ़ में दर्ज हुई बारिश के आधार पर लिया जाता है।शुक्रवार को सुबह 8:30 बजे तक बीते 24 घंटों में भोपाल शहर में 80.4 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई है। हालांकि, बैरागढ़ में यह 51.2 मिमी रही। गुरुवार रात भोपाल के बाहरी इलाके बैरागढ़ की अपेक्षा शहर में 30 मिमी ज्यादा पानी गिरा। वहीं, शुक्रवार सुबह 8:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक भोपाल शहर में 36 मिमी, जबकि बैरागढ़ में यह 9.8 मिमी वर्षा ही हुई। मौसम विभाग के अनुसार आगामी तीन से चार दिन बारिश का सिलसिला जारी रहने की संभावना है। शनिवार को भोपाल में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

रात का पारा सीजन में सबसे कम :

शहर में शुक्रवार को सुबह से ही बादल छाए रहे और हल्की से मध्यम बारिश का दौर दिनभर ही जारी रहा। इस दौरान तेज बारिश के एक दो दौर भी देखे गए। लगातार हो रही बारिश की वजह से तापमान भी कम हो गए। अधिकतम पारा गुरुवार के मुकाबले 3.3 डिग्री नीचे लुढककर 28.3 पर पहुंच गया। रात का पारा भी सीजन में पहली बार सामान्य से नीचे चला गया। यह 22.4 डिग्री सेल्सियस रहा। जो इस सीजन में सबसे कम है। राजधानी में शुक्रवार शाम से एक बार फिर इसी तरह तेज पानी गिरने की संभावना है। अब मौसम विभाग ने अगले दो दिन तक बंगाल के इस सिस्टम के एमपी की तरफ आने के कारण भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।

लगातार हो रही बारिश ने बढ़ाई परेशानी :

भोपाल में मौसम के करवट बदलने से फिजा में ठंडक घुल गई लेकिन लगातार हो रही बारिश अपने साथ परेशानियां भी लेकर आई। दोपहर 1:30 बजे के आसपास हुई तेज बारिश के कारण कई इलाकों में पानी भर गया। निचले इलाके में पानी जमा होने से लागों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। सुभाष नगर अंडर ब्रिज में पूरी तरह पानी से भर गया। वहीं कई क्षेत्रों में बिजली भी गुल हो गई।

सिस्टम सक्रिय, जारी रहेगा बारिश का दौर :

मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में बना मजबूत सिस्टम छत्तीसगढ़ से होते हुए एमपी की तरफ आ गया है। यह शाम तक भोपाल के ऊपर से आगे बढ़ेगा। इसी कारण राजधानी सहित प्रदेश के कई इलाकों में झमाझम बारिश का दौर देखा जा रहा है। शुक्रवार शाम से लेकर शनिवार सुबह तक तेज बारिश होने की संभावना बनी हुई है। मानसून द्रोणिका (ट्रफ) जबलपुर से होकर गुजर रही है। इन दो सिस्टम के कारण राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के कई स्थानों पर भारी बरसात होने के आसार हैं। साहा ने बताया कि शहर में गुरुवार से बारिश कस दौर हुआ, लेकिन यह सिस्टम पूर्वी मध्य प्रदेश से होते हुए पश्चिम की ओर आगे बढ़ेगा, यही वजह है कि शहर में 21 व 22 अगस्त को भारी बारिश कराएगा। इस सिस्टम के बाद 24 व 25 अगस्त को बंगाल की खाड़ी में नया सिस्टम विकसित हो जाएगा। इस सिस्टम से भी बारिश के आसार हैं।

अगस्त में बने चौथे सिस्टम ने दिखाया असर :

जून की शुरूआत में तूफान निसर्ग की वजह से अच्छी बारिश हुई। लेकिन उसके बाद से लेकर जुलाई में बंगाली खाड़ी में मानसून सुस्त पड़ गया था, जिसकी वजह से औसत बारिश नहीं हो सकी थी। अगस्त में बंगाल की खाड़ी सक्रिय हुई। 1 से 14 अगस्त के बीच जो तीन सिस्टम बने, वह आधे रास्ते में ही कमजोर हो गए, जिससे खंड वर्षा जारी रही। 19 अगस्त को जो सिस्टम विकसित हुआ, वह झारखंड के पास आते-आते अति निम्नदाब के क्षेत्र में बदल गया है। इस सिस्टम का असर पूर्वी पश्चिम मध्य प्रदेश में अधिक है, जिसका असर राजधानी में देखा जा रहा है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co