शहडोल : जंगली हाथियों के झुंड ने किसानों की फसलों को रौंदा

शहडोल, मध्य प्रदेश : जिन ग्रामीणों की फसलों को नुकसान पहुंचा है उसकी क्षतिपूर्ति के लिए वन विभाग सहित राजस्व का अमला सर्वे कर रहा है।
शहडोल : जंगली हाथियों के झुंड ने किसानों की फसलों को रौंदा
जंगली हाथियों के झुंड ने किसानों की फसलों को रौंदाAfsar Khan

शहडोल, मध्य प्रदेश। जिले के ब्योहारी उत्तर वनमंडल के अंतर्गत गोदावल वन परिक्षेत्र के जंगल में फिर जंगली हाथियों ने अपनी आमद दर्ज कराई है। लगभग तीन दर्जन की संख्या में हाथियों का झुंड रात में जंगल में रहता है और शाम होते ही आस-पास के ग्रामीण इलाकों में किसानों के खेतों में लगी फसलों को नुकसान पहुंचाने धावा बोल देता है। जंगली हाथियों के द्वारा जिन ग्रामीणों की फसलों को नुकसान पहुंचाया गया है, उसकी क्षतिपूर्ति के लिए राजस्व अमले को संबंधित क्षेत्र का सर्वे कर रिपोर्ट तैयार करने हेतु उप वनमंडलाधिकारी विद्याभूषण मिश्रा ने पत्र लिखा है।

बनाए रखे हाथियों से दूरी :

जंगली हाथियों का झुंड गोदावल रेंज के सौंता, घोरसा, बेंडरा, कोठिया , मडऊडोल, पथरहंटा गांव के ज्यादातर किसानों के खेतों में लगी धान, अरहर, मक्का आदि की फसलों को नुकसान पहुंचा गया है। जंगली हाथियों की हरकत पर विभाग निरंतर नजर बनाए हुए हैं। वहीं आसपास के ग्रामीण अंचलों में मुनादी व समझाइश के द्वारा लोगों को जंगली हाथियों से दूरी बनाए रखने तथा उनसे छेड़छाड़ न करने की अपील एसडीओ फारेस्ट विद्याभूषण मिश्रा ने की है।

क्षतिपूर्ति का किया जायेगा भुगतान :

लोगों से हाथियों के झुंड को आसानी से निकलने देंने, उन्हें परेशान व तंग ना करने, उनके ऊपर पत्थर लाठी डंडा व पटाखे न फोड़ने, शोर न करने, दूरी बनाए रखने की समझाइश विभागीय अमले के द्वारा निरंतर दी जा रही है। ग्रामीण, किसानों को परेशान नहीं होना है, जिनकी फसलों को जंगली हाथियों ने नुकसान पहुंचाया है, प्रत्येक खेत में राजस्व विभाग के साथ वन विभाग का अमला सर्वे अनुसार शासन के निर्धारित दर से क्षतिपूर्ति का भुगतान किया जाएगा।

विद्युत विभाग रखे ध्यान :

जंगल में विद्युत सप्लाई को सुधारने सहित जंगल में अवैध तरीके से कटी तार खींचकर लुग्गी लगाने वालों की निगरानी विभाग कर ही रहा है। साथ ही विद्युत मंडल को पत्र लिखकर अपनी विद्युत सप्लाई लाइन का निरीक्षण कर सुधार करने हेतु पत्र लिखा गया है। जंगलों में लगी विद्युत लाइनों से कुछ लोग छेड़छाड़ कर खुला छोड़ देते हैं, जिससे अबोध जंगली जानवर करंट का शिकार हो काल के गाल में समा जाते हैं। इसके अलावा ग्रामीण इलाकों से लगे जंगलों में हाथियों के आवागमन में कोई व्यवधान उत्पन्न न हो शांति व्यवस्था बनाने थाना प्रभारी को भी पत्र भेजा गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co