Raj Express
www.rajexpress.co
Yuvraj Singh Chauhan Murder
Yuvraj Singh Chauhan Murder|Shailenda Singh Rathore
मध्य प्रदेश

एसआरएम केबल नेटवर्क के संचालक गोलीकांड में खुलासा विवादों के चलते की गयी हत्या

मंदसौर में बुधवार की सुबह सनसनी खेज घटना में अज्ञात बदमाशों ने एसआरएम केबल नेटवर्क के संचालक युवराज सिंह चौहान को गोली मार दी, जिससे मौके पर ही उसकी दर्दनाक मौत हो गई,बदमाश बाइक पर सवार होकर आए थे।

राज एक्‍सप्रेस। प्रदेश में आए दिन बच्‍चों, महिलाओं से जुड़ी वारदातों की घटनाएं सामने आती रहती हैं, ले‍किन अब तो नेता भी सुरक्षित नहीं हैं, देखा जाए तो अब बदमाशों को पुलिस का डर बिल्‍कुल रह ही नहीं गया है। आज ही 9 अक्‍टूबर को दिनदहाड़े ही शहर में हत्या मामले से सनसनी फैली हुई है, यहां मंदसौर में एक नेता की हत्या की खबर सामने आई हैं। बीएचपी और आरएसएस से जुड़े नेता युवराज सिंह चौहान को अज्ञात हमलावरों ने गोली मार (Yuvraj Singh Chauhan Murder) दी। सूचना के बाद हजारों की संख्या में लोग जमा हो गए, साथ ही मौके पर एसपी सहित बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है।

जाने पूरा मामला :

बुधवार सुबह करीब 11 बजे के आस-पास युवराज सिंह चौहान गीता भवन अंडर ब्रिज के पास स्थित बिजली कांउटर पर बिल जमा करने पहुंचे थे, बिल जमा करने के बाद वे पास की ही एक होटल में जाकर बेंच पर बैठ ही रहे थे कि, इतने में बाइक पर सवार तीन हमलावर आए और उन्‍होंने पीछे से एक के बाद एक उनके सिर व व अन्य जगह पर तीन गोली मारी, गोली लगने के तुरंत ही वह जमीन पर गिरे व वहां मौजूद लोग जब तक कुछ समझ पाते, इतने में तो हमलावर गोली चलाकर जल्‍द ही वहां से भाग गए, घटना के बाद पूरे क्षेत्र में अफरा-तफरी मच गई।

लोगों ने सिर्फ इतना ही देखा कि, इन 3 हमलावरों में से जो गाड़ी चला रहा था, उसका मुंह खुला हुआ एवं 2 लोगों ने अपना मुंह ढंक रखा था, इस कारण इन हमलावरों की कोई पहचान नहीं हो पाई हैं। वहीं इस वारदात के बाद वहां उपस्थित लोगों ने तत्काल ही युवराज सिंह को टैक्सी से अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उन्‍हें मृत घोषित कर दिया।

हमलावारों की तलाश में शहर में नाकेबंदी :

नेता युवराज सिंह चौहान की मौत खबर के बाद उनके शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजकर पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने हमलावारों की तलाश में शहर में नाकेबंदी कर दी है, वहीं ये हमलावर गोली मार कर किस दिशा की ओर निकले है,पुलिस इस बात का भी पता लगा रही है। इसके लिए पुलिस क्षेत्र में लगे CCTV कैमरे चेक किए जा रहे है।

क्‍या है हत्या का कारण :

बताया जा रहा है कि, नेता के हत्‍या की वजह विवाद के कारण हुई हैं, वहीं प्रारंभिक जानकारी में भी विवाद के कारण हत्या किए जाने की बात सामने आ रही है। बता दे कि, युवराजसिंह चौहान वर्तमान में विश्व हिंदू परिषद के सहमंत्री थे और आरएसएस से भी जुड़े हुए थे। इसके अलावा वे शहर में एसआरएम केबल नेटवर्क का संचालन भी करते थे। माना जा रहा है कि, इसी केबल नेटवर्क को लेकर उन पर हमला किया गया है।

व्यावसायिक विवाद में हुई थी युवराजसिंह की हत्या :

विहिप नेता एवं केबल संचालक युवराजसिंह चौहान की हत्या का खुलासा गुरुवार की पुलिस ने कर दिया। एसपी हितेश चौधरी के मुताबिक केबल और अन्य व्यवसायिक विवादों के चलते हत्याकांड को अंजाम दिया गया था। दीपक तंवर ने पूरे हत्याकांड की साजिश को रचा और अंकित तंवर ने गोलियां चलाई। इस दौरान नागेश गोस्वामी ने गाड़ी चलाकर हत्याकांड में मदद की। पुलिस ने हत्याकांड से जुड़े संदिग्ध 30 से 35 लोगों को हिरासत में लिया है। जिनसे गहन पूछताछ की जा रही है। पुलिस की अलग-अलग टीमें अभी भी विभिन्न पहलुओं पर जांच कर रही है। मुख्य आरोपी दीपक तिंवर के वर्ड2000 सेलेकर अब तक हत्या, 420, मारपीट सहत प्रकरण दर्ज है। वही मृतक युवराज सिंह के भी कई मामले थाने में दर्ज है। थाना कोतवाली मंदसौर में धारा 420 भादव एविं 37,51,63,65,68 व कापीराईट एक्ट,धारा 63,65 कापीराईट एक्ट और थाना औद्योयगक क्षेत्र रतलाम - अपराध क्रमांक 136-17 धारा 25, 27 एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज है।संभावना है कि मुख्य आरोपी समेत सभी बदमाश शीघ्र ही पुलिस की गिरफ्त में आ जाएंगे।

भाजपा ने किया एसपी कार्यालय का घेराव

भाजपा ने मंदसौर में हो रहे अपराधों को लेकर एसपी कार्यलय का घेराव किया। वही भाजपा नेता युवराज सिंह की हत्या पर एसआईटी जाँच की मांग की है। भाजपा द्वारा श्रीकोल्ड चौराहे से जुलुस निकलकर बड़ी संख्या में एसपी कार्यलय पहुंचे जहा पुलिस फाॅर्स लगाया गया था।