Raj Express
www.rajexpress.co
हिंगोट युद्ध
हिंगोट युद्ध|Sudha Choubey - RE
मध्य प्रदेश

परंपरा के नाम पर जानलेवा है हिंगोट युद्ध, प्रशासन ने की व्यवस्था

हर साल की तरह इस साल भी दीपावली के ठीक दूसरे दिन इंदौर से 60 किमी दूर गौतमपुरा में दो गांवों के ग्रामीणों के बीच हिंगोट युद्ध होगा।

Sudha Choubey

Sudha Choubey

राज एक्सप्रेस। हर साल की तरह इस साल भी दीपावली के ठीक दूसरे दिन इंदौर से 60 किमी दूर गौतमपुरा में दो गांवों के ग्रामीणों के बीच हिंगोट युद्ध होगा। परंपरा निभाने के नाम पर खेले जाने वाले मौत के इस खेल को देखने के लिए भी हजारों लोग जुटेंगे। युद्ध देखने के लिए आसपास के शहरों और ग्रामीण क्षेत्र से हजारों लोग आएंगे।

तुर्रा और कलंगी दल लेते हैं भाग:

इस युद्ध में तुर्रा और कलंगी दल भाग लेते हैं। दोनों दल के योद्धा आमने-सामने खड़े होकर सूर्यास्त का इंतजार करते हैं और संकेत मिलते ही एक दूसरे पर जलते हुए हिंगोट बरसाना शुरू कर देते है। परंपरा के नाम पर खेले जाने वाले हिंगोट युद्ध में अंत में न किसी की हार होती है और न किसी की जीत।