समाज को जोड़ने वाला है सिखों का इतिहास : सिंधिया
सिंधिया अचानक पहुंचे किला गुरूद्वारेSocial Media

समाज को जोड़ने वाला है सिखों का इतिहास : सिंधिया

सिंधिया ने अपना मत्था टेका और सिख समाज की महान परंपरा को समाज को जोड़ने वाला बताते हुए कहा कि चार शताब्दी पहले गुरु हरगोविंद सिंह मुगल शासकों की कैद से 52 हिंदू राजाओं को आजादी दिलाई थी।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। किला गुरूद्वारे पर आयोजित हो रहे दाताबंदी छोड़ दिवस की 400वें शताब्दी समारोह के शुभारंभ अवसर पर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार शिरकत नहीं कर सके, केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री मंगलवार की सुबह जब अचानक कार्यक्रम में पहुंचे, तो सभी हैरत में पड़ गए। उन्होंने यहां अपना मत्था टेका और सिख समाज की महान परंपरा को समाज को जोड़ने वाला बताते हुए कहा कि चार शताब्दी पहले गुरु हरगोविंद सिंह मुगल शासकों की कैद से 52 हिंदू राजाओं को आजादी दिलाई थी। बताया जा रहा है कि मंगलवार को सिंधिया सिर्फ और सिर्फ किला गुरूद्वारे के कार्यक्रम में ही शिरकत करने आए थे।

इस अवसर पर दाता बंदी छोड़ किला ग्वालियर के परिसर में चित्र प्रदर्शनी , डाकुमेंट्ररी, क्विज प्रतियोगिता भी आयोजित की गई। पंजाबी साहित्य अकादमी म.प्र संस्कृति परिषद द्वारा संस्कृति, विरासत, लोक परम्मंपराओ को प्रत्सोहित करने के लिए आयोजित कार्यक्रम में गुरु हरगोविंद साहिब के जीवन दर्शन पर आयोजित चित्र प्रदर्शनी का हजारों की संख्या करने देश, विदेशों से आए लोगों ने देखा। प्रदर्शनी गुरूमुखी, हिंदी व अंग्रेजी में लगाई गई। सिंधिया के आने की जानकारी लगते ही सुबह समर्थक मोहन सिंह राठोर, रमेश अग्रवाल, सुरेन्द्र शर्मा सहित अन्य समर्थक एयरपोर्ट स्वागत करने पहुंचे ओर किले पर भी साथ में मौजूद रहे।

इस अवसर पर बच्चों के लिए क्विज प्रतियोगिता आयोजित की गई , जिसमें बच्चों को विरासत पर पुस्तकें, पेंन, स्मृति चिन्ह पुस्कार के रूप में दिए गए। अमृत महोत्सव के अंन्तर्गत पंजाबी साहित्य अकादमी द्वारा गुरु हरगोविंद साहिब जी के पर तैयार की गई लघु फिल्म का हजारो की संख्या मे लोगो आंनद लिया। इस अवसर पर पंजाबी साहित्य अकादमी द्वारा सेल्फी पोइंट पर भी अपनी फोटो लेकर आंनद लिया। आज बुधवार को भी प्रदर्शनी लगी रहेगी।

गुरू हरगोविंद को सहनी पड़ी मुगलों की पीड़ा :

दाता बंदी छोड़ दिवस के 400 साला के अवसर पर दौलतगंज स्थित हिंदू महासभा भवन में जिलाध्यक्ष लोकेश शर्मा की अध्यक्षता में विचार गोष्ठी आयोजित की गई, जिसे संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि डॉक्टर जयवीर भारद्वाज ने कहा गुरु हरगोविंद सिंह साहिब को मुगल बादशाह जहांगीर ने ग्वालियर किले में बंदी बना लिया था। उनके साथ 52 हिंदू राजाओं को क्रूर अत्याचारी मृगल आक्रांताओ की पीड़ा सहनी पड़ी थी, लेकिन गुरु हरगोविंद की गुरुवाणी से मुग़ल बादशाह जहांगीर का ह्रदय परिवर्तन हो गया और उन्होंने अपने साथ सभी राजाओं को भी कैद से मुक्त करा लिया। जिला अध्यक्ष लोकेश शर्मा ने बताया कि 6 अक्टूबर को शाम 4.30 बजे उरवाई गेट से दाता बंदी छोड़ ग्वालियर किला पर देश के कल्याण की कामना को लेकर गुरुग्रंथ साहिब पर मत्था टेकने जाएगी। विचार गोष्टि में प्रमोद लोहपात्रे, अखिल सक्सेना, आदित्य शर्मा, पवन माहौर, नितिन कुशवाह, राकेश टेरक, जगपाल सिंह चौहान, राकेश रज्जक सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

ग्वालियर-चंबल से गुजरेगा एक्सप्रेस-वे : सिंधिया

गुरूद्वारे पर मत्था टेकने के बाद केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान दावा किया है कि उपचुनाव की सभी सीटों पर भारतीय जनता पार्टी जीत हासिल करेगी। उन्होंने कहा कि आम लोगों का भरोसा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ है, इसलिए उपचुनाव में भारतीय भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार सभी सीटों पर जीत हासिल करेंगे। सिंधिया ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की कैबिनेट में चंबल एक्सप्रेस-वे के लिए बजट का प्रावधान हो चुका है। सरकार ने जमीन आवंटन कर दिया है और जल्द ही इसके फलस्वरूप ग्वालियर चंबल संभाग से एक्सप्रेस-वे गुजरेगा। यह न सिर्फ हमें उत्तर प्रदेश और राजस्थान से जोड़ेगा बल्कि औद्योगिक रूप से भी इस क्षेत्र में विकास के नए आयाम स्थापित होंगे। जमीन अधिग्रहण का काम पूरा हो चुका है। जल्द से जल्द यहां काम शुरू होने वाला है। यह करीब दस करोड़ रुपए की बेहद महत्वपूर्ण योजना है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.