सागौन के वृक्षों की अवैध कटाई
सागौन के वृक्षों की अवैध कटाई| Ashish Saini
मध्य प्रदेश

नहीं थम रही हरे-भरे सागौन के वृक्षों की अवैध कटाई

सिलवानी, रायसेन: सिलवानी वन परिक्षेत्र की चौका बीट वन विभाग की मिली भगत से बेश कीमती सागौन के वृक्षों पर वन माफियाओं द्वारा बेरहमी से आरी और कुल्हाड़ी चलाई जा रही है।

Ashish Saini

राज एक्‍सप्रेस। मिलान 10 वर्ष पुराने रिकॉर्ड से किया जाए तो आज लहलहाते खेतों में जंगल नजर आएगा, लेकिन रिकॉर्ड दिखाएगा कौन? विनाश में यहां सबकी भागीदारी है, यानि संलिप्तता कनिष्ठ से वरिष्ठ तक की प्रतीत होती है। संभवतः यही कारण है कि, रक्षक खुलेआम भक्षक बने हुए हैं।

दिन दहाड़े जंगल से अवैध लकड़ी सप्लाई :

आरोप है कि, दिन दहाड़े जंगल से अवैध लकड़ी सप्लाई होती है। फर्नीचर उद्योग अवैध सागौन पर आश्रित है। जेबें अतिक्रमण, वनभूमि पर खेती, वन क्षेत्र से अवैध खनिज, ईट भट्टे, फर्जी फर्नीचर बिलों पर सील-हस्ताक्षर आदि से गर्म होती हैं। कड़वी बात यह कि, जांच हो तो इस विनाश में सरकारी चोरों की भागीदारी अधिक दिखाई देगी।

Raj Express
www.rajexpress.co