Raj Express
www.rajexpress.co
रेत के डंप
रेत के डंप|Subodh Tirpathi
मध्य प्रदेश

छतरपुर: रेत के डंप बन गए नए रेत कारखाने

छतरपुर, मध्यप्रदेश : देश भले ही मंदी के दौर से गुजर रहा हो लेकिन छतरपुर जिले में इन दिनों रेत के अवैध कारोबार के कारण अधिकारियों और नेताओं की बल्ले-बल्ले है।

Subodh Tripathi

राज एक्सप्रेस। देश भले ही मंदी के दौर से गुजर रहा हो लेकिन छतरपुर जिले में इन दिनों रेत के अवैध कारोबार के कारण अधिकारियों और नेताओं की बल्ले-बल्ले है। रेत माफियाओं ने चंदला और गौरिहार क्षेत्र को रणभूमि बना रखा है। यहां के कई रेत डंप जिनका काम सिर्फ रेत का संग्रहण है उनसे कारखाने की तरह रेत बाहर आ रही है। बिना ईटीपी के धड़ल्ले से चल रहा रेत का यह कारोबार भाजपा-कांग्रेस नेताओं, पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों की मिलीभगत से बेरोकटोक जारी है।

भूरागढ़, बेनीपुर डंप से बिना ईटीपी के चल रहा कारोबार चंदला क्षेत्र के मवई घाट इलाके में स्थित भूरागढ़ ओर बेनीपुर डंप के संचालकों के पास ईटीपी नहीं है लेकिन उन्होंने बड़े नेताओं और स्थानीय खनिज विभाग के दबाव से एक पड़ोसी डंप की इटीपी हासिल कर ली है। अब इस अवैध ईटीपी के जरिए भूरागढ़ और बेनीपुर की रेत को वैधानिक बनाया जा रहा है। इसी तरह रामपुर क्षेत्र में भी कई नेताओं के अवैध डंप चल रहे हैं तो वहीं केन नदी से अवैध तरीके से बालू निकालने का काम भी जोरों पर है।