महिला जागरूकता अभियान 'सम्मान' का शुभारंभ, कार्यक्रम में सीएम ने कही ये बात
महिला जागरूकता अभियान 'सम्मान' का शुभारंभSocial Media

महिला जागरूकता अभियान 'सम्मान' का शुभारंभ, कार्यक्रम में सीएम ने कही ये बात

भोपाल, मध्यप्रदेश : आज मुख्यमंत्री शिवराज द्वारा महिला अपराध उन्मूलन में समाज की सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश-स्तरीय महिला जागरूकता अभियान “सम्मान” का किया गया शुभारंभ।

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कन्यापूजन कर महिला जागरूकता कार्यक्रम “सम्मान” का शुभारंभ किया, बता दें कि मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में जन जागरुकता अभियान 'सम्मान' का शुभारंभ पुलिस बैंड द्वारा 'मध्यप्रदेश गान' की प्रस्तुति के साथ किया गया। कार्यक्रम में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सम्मान अभियान के अंतर्गत सृजित 23 पोस्टर्स की पुस्तिका का विमोचन तथा इस अभियान की शुभंकर 'गुड्डी' का अनावरण किया।

मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से की बात

इस कार्यक्रम में बीच मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी से की बात, सागर की बाई धानक ने सीएम से संवाद करते हुये बताया कि मैं अपने खेत में हंसिये से तिली काट रही थी। दोपहर में तीन लोग आये और एक बेटी को मारने की कोशिश करने लगे। वो अपने दो बच्चों के साथ मेरी तरफ आई। मैंने अपने बेटे के साथ मिलकर उस बेटी की जान बचाई, वहीं छिंदवाड़ा के रोशन विश्वकर्मा ने बताया कि पता चला कि छोटी बेटी से गलत काम हुआ था। आरोपी भालपानी के जंगल में भाग गया था। घटना के तीसरे दिन मुझे अचानक वो जंगल में मिल गया। मुझे पता था कि गलत काम हुआ है इसलिये मैंने सूचना पुलिस को दी।

सीएम शिवराज को सतना की मुन्नी बाई कौल ने बताया कि मानसिक रूप से कमजोर एक 13 वर्षीय बालिका को अपहरण के केस में अपने घर में सुरक्षा दी। मुन्नी बाई ने बताया कि वो बच्ची रोने लगी इसलिये मेरे मन में विचार आया कि बच्ची के साथ कुछ अनहोनी न हो जाये इसलिये मैंने उसे अपने घर में रखा। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के मनोज गायकवाड़ ने 12 साल की बच्ची को बचाया। उन्होंने बताया कि मैं ऑटो चलाता हूं, रात में मेरे पास एक बच्ची आई और बोली, मुझे स्टेशन जाना है। उसने हरियाणा के किसी लड़के को फोन लगाया। तब मुझे शक हुआ कि लड़की गलत हाथों में जा रही है और पुलिस को बताया।

शिवराज ने ट्वीट कर कहा

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि, जहां मां-बहनों-बेटियों को सम्मान और इज्जत से देखा जायेगा देवता वहीं रहेंगे, पिछले दिनों अप्रैल से लेकर दिसंबर तक जो लगातार प्रयास हुये उनके परिणाम दिख रहे हैं। महिला अपराधों में 15 प्रतिशत तक कमी आई है। मैं पुलिस के अफसरों को, निष्ठावान हमारे साथियों का अभिनंदन करता हूं, वही आगे कहा कि बेटी पढ़े लिखे इसलिये स्कूल जाने के लिये साइकिल योजना, स्कूल की यूनिफॉर्म, मिड डे मील, गांव की बेटी योजना, कन्या विवाह योजना कार्यक्रमों की सीरीज है। गरीब बहनों के लिये हमने तय किया कि जन्म के पहले संबल योजना में 4 हजार और बच्चे के जन्म के बाद 12 हजार रुपये दिये जायेंगे।

हमारा अभियान समाज की मानसिकता बदलने का अभियान: सीएम

सीएम बोले कि हमारा अभियान समाज की मानसिकता बदलने का अभियान है, नये काम सिर्फ सरकार और पुलिस का नहीं है। बेटियों की सुरक्षा और सम्मान के लिये समाज की मानसिकता बदलनी पड़ेगी, मैंने पुलिस प्रशासन को सख्त निर्देश दिए हैं कि मेरे प्रदेश की बेटियों को गायब करने वालों को बर्बाद करके छोड़ना है। मप्र की विधानसभा ने सबसे पहले ये कानून बनाया कि अगर बेटियों के साथ बलात्कार होंगे तो अपराधियों को फांसी की सजा सुनाई जायेगी।

बेटियों पर फब्तियां कसने, धक्का देने, छेड़छाड़ करने वालों के विरुद्ध समाज को डटकर खड़ा होने की जरूरत है। हमारी सरकार मूकदर्शक नहीं रहेगी। ऐसे अपराधियों को हम पूरी तरह से नेस्तनाबूद करने के लिए संकल्पित हैं।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co