कृषि मंत्री कमल पटेल ने कृषि कानून को लेकर की मीडिया से चर्चा, कही ये बात
कृषि मंत्री कमल पटेल ने कृषि कानून को लेकर की मीडिया से चर्चाDeepika Pal-RE

कृषि मंत्री कमल पटेल ने कृषि कानून को लेकर की मीडिया से चर्चा, कही ये बात

इंदौर, मध्यप्रदेश: भाजपा के कृषि मंत्री कमल पटेल ने आज मीडिया के समक्ष चर्चा की। यह प्रेस कांफ्रेंस रेसिडेंसी कोठी पर आयोजित हुई।

इंदौर, मध्यप्रदेश। वैश्विक महामारी कोरोना का संकटकाल नए साल के आगाज़ के बाद भी जहां अब तक बरकरार वहीं दूसरी तरफ किसान बिल को लेकर मुद्दा थमने का नाम नहीं ले रहा है इस बीच ही आज यानि सोमवार को भाजपा के कृषि मंत्री कमल पटेल ने आज मीडिया के समक्ष चर्चा की। यह प्रेस कांफ्रेंस रेसिडेंसी कोठी पर आयोजित हुई।

मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कही बात

इस संबंध में, बयान देते हुए मंत्री कमल पटेल ने कहा कि, किसान कानून को लेकर कुछ लोग भ्रम फैला रहे हैं। ये लगातार अंबानी-अडानी की रट लगाए बैठे हैं। क्या ये छह साल में पैदा हुए हैं। ये नेहरू जी के समय से हैं। साथ ही कहा कि, इस कानून से बेहतर यह होगा कि, अब हमारे युवा खेती करेंगे, फैक्ट्री लगाकर बिचौलियों को हटाते हुए सीधा निर्यात करेंगे। यह कानून किसानों के हित में है, इसलिए किसान इसका समर्थन कर रहा है।

किसान हमारे देश की है रीढ़ - मंत्री कमल पटेल

इस संबंध में आगे कहा कि, आत्मनिर्भर भारत के लिए किसानों का आत्मनिर्भर होना जरूरी है। इसलिए मोदी सरकार ने कृषि कानून में संशोधन किए। जहां किसान इस देश की रीढ़ है। जहां यदि यह मजबूत नहीं होगा तो देश मजबूत नहीं होगा। विपक्ष को घेरते हुए कहा कि, जो किसानों को गुमराह कर रहे हैं, उसने यही कहना है कि उन्होंने तो 55 सालों में किसानों का भला किया नहीं। माेदी सरकार कर रही है तो अड़ंगे क्यों डाल रहे हो। वहीं बताया कि, इस कानून के बाद 2022 तक किसानों की आय दोगुनी होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co