बीजेपी महिला मोर्चा की प्रदेश मंत्री श्रेष्ठा जोशी
बीजेपी महिला मोर्चा की प्रदेश मंत्री श्रेष्ठा जोशी|Deepika Pal - RE
मध्य प्रदेश

BJP नेत्री ने तोड़ी शब्दों की मर्यादा, हो सकती हैं निष्काषित

इंदौर, मध्यप्रदेश: सोशल मीडिया पर नेताओं के तीखी तरकार के मामले सामने आते रहते हैं, ऐसा ही एक मामला सामने आया। सोशल मीडिया बवाल के बाद की कड़ी कार्रवाई की तलवार नेत्री पर लटकी हुयी है।

Deepika Pal

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। प्रदेश में सोशल मीडिया पर अक्सर नेताओं के बीच किसी ना किसी मुद्दें को लेकर तीखी तकरार के मामले लगातार सामने आते रहते हैं इसके चलते ही व्यावसायिक राजधानी इंदौर में बीजेपी महिला मोर्चा की प्रदेश मंत्री श्रेष्ठा का जोशी सोशल मीडिया पर पोस्ट विवाद और उज्जैन भाजयुमो के मंडल उपाध्यक्ष लखन चौहान को अपशब्द कहने का ऑडियो वायरल होने का मामला बीते दिन सामने आया था, जिस पर पार्टी ने कड़ी कार्रवाई की है। वहीं मंत्री जोशी को एक सप्ताह के भीतर मामले पर स्पष्टीकरण मांगते हुए नोटिस जारी किया है, स्पष्टीकरण नहीं दिए जाने की स्थिति में पार्टी से हटाया जाएगा।

क्या है पूरा मामला :

दरअसल बीते दिन सोशल मीडिया फेसबुक पर भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश मंत्री श्रेष्ठा जोशी और उज्जैन के भाजयुमो के मंडल उपाध्यक्ष लखन चौहान के बीच किसी पोस्ट को लेकर विवाद हो गया था, जिसमें जातिगत विषय पर चल रही चर्चा के दौरान मंत्री जोशी ने टिप्पणी की थी जिस पर उपाध्यक्ष लखन ने तीखी प्रतिक्रिया दी। जिसके बाद दोनों के बीच विवाद इतना बढ़ गया कि, मंत्री जोशी ने किसी व्यक्ति के माध्यम से उपाध्यक्ष को सीधे फोन लगाकर फटकार लगाते हुए कई अपशब्द कहे। जिसके बाद दोनों के बीच हुई बातचीत का ऑडियो वायरल हो गया। दोनों की बहस के लगातार पांच वीडियो वायरल होते ही, बीजेपी गलियारे में बवाल मच गया। इस मामले पर नगर अध्यक्ष से जानकारी मांगी गई तो किसी भी तरह की जानकारी पता ना होने का हवाला देते हुए मामले से पल्ला झाड़ लिया गया। साथ ही कहा कि, उन्होनें ऐसा कोई ऑडियो अब तक नहीं सुना है। वहीं पार्टी नेताओं ने मामले को गंभीर मानते हुए दोनों नेताओं से जानकारी लेने की बात कही थी।

पार्टी ने अनुशासनहीनता मानते हुए की कार्रवाई :

इस मामले पर पार्टी ने भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश मंत्री जोशी के इस रवैये को अनुशासनहीनता के अधीन मानते हुए कड़ी कार्रवाई की। साथ ही जोशी को अस्थायी तौर पर पद से हटाते हुए 7 दिनों के अंदर मामले पर स्पष्टीकरण मांगा है अगर नोटिस के तहत मंत्री जोशी कोई स्पष्टीकरण प्रस्तुत नहीं कर पाती हैं तो उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया जाएगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co