Indore : आठ नए डेंगू के मरीज मिले, सौ के करीब पहुंचा आंकड़ा
आठ नए डेंगू के मरीज मिले, सौ के करीब पहुंचा आंकड़ासांकेतिक चित्र

Indore : आठ नए डेंगू के मरीज मिले, सौ के करीब पहुंचा आंकड़ा

इंदौर : शहर में लगातार नए डेंगू के मरीज मिल रहे हैं। मंगलवार को 8 नए मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। इस प्रकार अब तक 95 लोगों में डेंगू की पुष्टि हो चुकी है और एक मरीज की डेंगू से मौत हो चुकी है।

इंदौर, मध्यप्रदेश। शहर में लगातार नए डेंगू के मरीज मिल रहे हैं। मंगलवार को 8 नए मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। इस प्रकार अब तक 95 लोगों में डेंगू की पुष्टि हो चुकी है और एक मरीज की डेंगू से मौत हो चुकी है। शहर में तेजी से डेंगू के मरीज बढ़ रहे हैं। जिस संख्या में शहर में डेंगू के मरीज हैं, उस हिसाब से आंकड़ा बहुत कम सामने आ रहा है।

शहर का शायद ही ऐसा कोई अस्पताल होगा, जहां डेंगू के मरीज भर्ती होकर इलाजरत न हों। स्वास्थ्य विभाग उन्हीं लोगों में डेंगू मानता है, जिनका एलाइजा टेस्ट हुआ हो, वो भी एमजीएम मेडिकल कॉलेज की माइक्रोबायलाजी लैब में, रेपिड टेस्ट में जिन मरीजों में डेंगू की पुष्टि होती है, उसे तब तक डेंगू का मरीज नहीं माना जाता, जब तक उसका एलाइज टेस्ट पॉजिटिव न आए।

पूरे शहर में फैल चुका है डेंगू :

शहर में तेजी से डेंगू और वायरल ने पैर पसार लिए हैं। वहीं मलेरिया के मरीज भी सामने आ रहे हैं। डेंगू फैलने का एक बड़ा कारण तेज बारिश न होना भी बताया जा रहा है। इसी के कारण मौसमी बीमारी वायरल और अन्य जलजनित बीमारियां फैल रही हैं। शहर के निजी और सरकारी अस्पतालों के साथ ही निजी क्लीनिक में बड़ी संख्या में डेंगू के लक्षण वाले मरीज इलाज के लिए आ रहे हैं। डॉक्टर सीबीसी (कम्पलिट ब्लड काउंट) टेस्ट करा रहे हैं, डेंगू की जांच मरीज में ज्यादा लक्षण दिखने पर करा रहे हैं। सीबीसी में यदि प्लेटलेट काउंट कम आता है, तो फिर डेंगू की जांच कराई जा रही है। वहीं बड़ी संख्या में लोग टाइफाइड का शिकार भी हो रहे हैं। 10 मरीजों की टाइफाइड की जांच हो रही है, तो उसमें 2 मरीजों में इसकी पुष्टि हो रही है। वहीं सीबीसी रिपोर्ट में यदि व्हाइट ब्लड सेल (डब्ल्यूबीसी) बढ़े होते हैं, तो यह माना जा रहा है कि मरीज में वायरल है। इसलिए ज्यादातर डॉक्टर सीबीसी की रिपोर्ट के आधार पर ही मरीजों का इलाज कर रहे हैं।

घर के आसपास जल जमाव न होने दें :

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया है कि डेंगू बीमारी के प्रति सभी नागरिक सचेत रहें। उन्होंने डेंगू से बचाव के लिए नागरिकों से अपील की है कि अपने घरों के आसपास साफ सफाई रखें। कहीं पर भी पानी इकठ्ठा नहीं होने दें। बरसात में मलेरिया/डेंगू रोग फैलता है, जिसमें मरीज को ठंड लगकर बुखार आता है। प्राय: बरसात के दिनों में जल जमा हो जाता है जो खेत, तालाब, गड्ढे, खाई, घर के आसपास रखे हुए टूटे-फूटे डब्बे, पुराने टायर, पशु के पानी पीने का होद इत्यादि में होता है। इस प्रकार के भरे हुए पानी में प्राय: मच्छर के लार्वा पैदा होते है, जो बाद में मच्छर बनकर रोग फैलाते है। मलेरिया से बचाव हेतु घर के आसपास जल जमा न होने दे। रूके हुए पानी में मिट्टी का तेल या जला हुआ ऑईल डालें। कूलर, फूलदान, फ्रिज ट्रे आदि को सप्ताह में एक बार अवश्य साफ करें। सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें। कीटनाशक का छिड़काव करवायें, मलेरिया रोग हो जाने पर खून की जांच अवश्य करायें एवं चिकित्सक की सलाह से पूर्ण उपचार लें।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co