एमवायएच सहित अन्य अस्पतालों में नियुक्त होंगे प्रबंधक
एमवायएच सहित अन्य अस्पतालों में नियुक्त होंगे प्रबंधकSocial Media

Indore : एमवायएच सहित अन्य अस्पतालों में नियुक्त होंगे प्रबंधक

इंदौर : लंबे समय से मांग उठ रही है कि सरकारी अस्पतालों के सुचारू संचालन के लिए प्रोफेशनल मैनेजर यानि प्रबंधक की नियुक्ति की जाए, ताकि अस्पतालों में जो अव्यवस्थाएं हैं, उन्हें मैनेज किया जा सके।

इंदौर, मध्यप्रदेश। लंबे समय से मांग उठ रही है कि सरकारी अस्पतालों के सुचारू संचालन के लिए प्रोफेशनल मैनेजर यानि प्रबंधक की नियुक्ति की जाए, ताकि अस्पतालों में जो अव्यवस्थाएं हैं, उन्हें ठीक से मैनेज किया जा सके। वर्तमान में डॉक्टर्स यह काम कर रहे हैं। उन्हें इसका अनुभव न होने के कारण अक्सर सरकारी अस्पतालों की व्यवस्थाएं गड़बड़ा जाती हैं।

इंदौर में सबसे पहले इसको लेकर 2016 में तत्काली सांसद सुमित्रा महाजन और तत्कालीन कमिश्नर संजय दुबे ने की थी, लेकिन अब तक किसी भी बड़े सरकारी अस्पताल में प्रबंधक, सहायक प्रबंधकों की नियुक्ति नहीं हुई थी। पहली बार एमवायएच और उससे संबंद्ध अस्पतालों में प्रबंधकों और सहायक प्रबंधकों की नियुक्ति होने जा रही है।

दो प्रबंधक, चार सहायक प्रबंधी की होगी नियुक्ति :

एमजीएम मेडिकल कॉलेज जल्द ही अस्पताल प्रबंधकों और सहायक अस्पताल प्रबंधकों की नियुक्ति करने जा रहा है। इसके साथ ही कॉलेज प्रशासन भी बायोमेडिकल इंजीनियरों की नियुक्ति करने जा रहा है, क्योंकि कॉलेज के किसी भी अस्पताल में बायोमेडिकल इंजीनियरिंग विशेषज्ञ कार्य को कुशलतापूर्वक करने के लिए नहीं है। कॉलेज प्रशासन इन पदों पर नियुक्तियां करने जा रहा है, क्योंकि वे एमपी ऑनलाइन द्वारा प्रदान की गई मेरिट सूची के आधार पर लोगों के दस्तावेजों की जांच करने जा रहे हैं।एमजीएम मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. संजय दीक्षित के अनुसार प्रक्रिया के चलते एक डिप्टी रजिस्ट्रार, दो अस्पताल प्रबंधक और चार सहायक अस्पताल प्रबंधक जल्द ही नियुक्त किए जाएंगे।डॉ. दीक्षित ने बताया कि अस्पताल प्रबंधकों के पदों पर नियुक्तियां लंबे समय से लंबित थीं और अब उन्हें जल्द ही भर दिया जाएगा। प्रबंधक अस्पतालों की प्रबंधन गतिविधियों को कुशलतापूर्वक करने में मदद करेंगे और बायोमेडिकल इंजीनियर चीजों को और बेहतर बनाने में मदद करेंगे।

अधीक्षक, सीएमओ संभाल रहे है जिम्मेदारी :

विशेष रूप से, अस्पताल प्रशासकों और अस्पताल प्रबंधकों की अस्पतालों को चलाने और डॉक्टरों को प्रशासनिक गतिविधियों से राहत देने के लिए लंबे समय से लंबित मांग थी, ताकि वे मरीजों के इलाज और छात्रों को पढ़ाने पर ध्यान केंद्रित कर सकें। पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने भी अस्पताल प्रशासकों की नियुक्ति की मांग उठाई थी, लेकिन इसकी शुरुआती कुछ योजना बैठकों के बाद से ही इस प्रस्ताव को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया। वर्तमान में अस्पताल प्रबंधन की जिम्मेदारी अस्पताल अधीक्षक और सहायक अधीक्षक के साथ ही ड्यूटी मेडिकल ऑफिसर (सीएमओ) संभाल रहे हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co