Indore : जियो का नेटवर्क ठप होने से वैक्सीनेशन भी हो गया प्रभावित
जियो का नेटवर्क ठप होने से वैक्सीनेशन भी हो गया प्रभावितSyed Dabeer Hussain - RE

Indore : जियो का नेटवर्क ठप होने से वैक्सीनेशन भी हो गया प्रभावित

इंदौर, मध्यप्रदेश : बुधवार को कई घंटों तक रिलांयस जियो का नेटवर्क ठप रहने से न केवल कई लोगों का कारोबार और दिनचर्या प्रभावित हुई बल्कि शहर में टीकाकरण अभियान भी प्रभावित हुआ।

इंदौर, मध्यप्रदेश। बुधवार को कई घंटों तक रिलांयस जियो का नेटवर्क ठप रहने से न केवल कई लोगों का कारोबार और दिनचर्या प्रभावित हुई बल्कि शहर में टीकाकरण अभियान भी प्रभावित हुआ क्योंकि लगभग 50 प्रतिशत केंद्रों में वैक्सीन लगाने पहुंचे लोगों को आनलाइन रजिस्ट्रेशन में दिक्कतों का सामना करना पड़ा। कई केंद्र, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में, बुरी तरह प्रभावित हुए क्योंकि वे कोविन पोर्टल के साथ कनेक्टिविटी प्राप्त करने के लिए जियो के मोबाइल नेटवर्क पर निर्भर थे।

जियो का नेटवर्क डाउन होने से शहर में टीकाकरण का लक्ष्य भी प्रभावित हुआ स्वास्थ्य विभाग लक्ष्य का महज 21 फीसदी ही हासिल कर सका। बुधवार को विभाग ने 70 हजार का लक्ष्य रखा था, लेकिन 15 हजार 514 लोगों को टीका लगाया जा सका।

ऑफलाइन पंजीकरण की देना पड़ी अनुमति :

जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. तरुण गुप्ता ने इस संबंध में कहा कि हां, जियो के नेटवर्क गड़बड़ ने टीकाकरण कार्य को प्रभावित किया था, क्योंकि कई केंद्र मोबाइल इंटरनेट कनेक्शन पर निर्भर थे या डोंगल के माध्यम से कनेक्टिविटी का उपयोग करते थे। हमने बुधवार को शहरी क्षेत्रों में लगभग 130 केंद्र और ग्रामीण क्षेत्रों में 150 केंद्र या टीकाकरण केंद्र स्थापित किए हैं और लगभग 50 प्रतिशत केंद्रों को कनेक्शन मिलने में परेशानी हुई। उन्होंने कहा कि जिन केंद्रों में ब्रॉडबैंड की सुविधा है, उन्हें किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ा, लेकिन दूरस्थ क्षेत्रों के केंद्रों और शहरी क्षेत्रों के कुछ केंद्रों में भी समस्या का सामना करना पड़ा।केवल इंदौर में ही नहीं, बल्कि पूरे रा'य में इसी तरह की स्थिति बनी रही। भोपाल में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ चर्चा के बाद हमने टीकाकरण अभियान को जारी रखने के लिए लाभार्थियों के ऑफ़लाइन पंजीकरण की अनुमति दी।

ऑफलाइन व्यवस्था रास नहीं आई :

लाभार्थियों का ऑफलाइन पंजीकरण करने की 'वाइस पसंद नहीं आई, क्योंकि कई लोगों ने इसके लिए मना कर दिया। कारणऑफ़लाइन पंजीकरण में, लाभार्थियों को तुरंत हीें टीकाकरण प्रमाण पत्र नहीं मिलता है, क्योंकि यह काउइन पोर्टल पर अपडेट किए गए डेटा के बाद प्रमाण-पत्र जनरेट होता है। इस कारण लोगों ने आफलाइन पर भरोसा नहीं किया, क्योंकि शंका थी कि बाद में कहीं उन्हें प्रमाण-पत्र के लिए परेशान न होना पड़ा। इस कारण लोग बिना वैक्सीन लगाए लौट गए। इस कारण भी टीकाकरण के आंकड़े प्रभावित हुए। टीकाकरण अधिकारी डॉ तरुण गुप्ता के कहना था कि बुधवार को सर्व पितृ अमावस्या होने के कारण भी लोग वैक्सीन लगाने नहीं आए क्योंकि कई लोग पूजा-पाठ में लगे हुए थे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.