Indore : छेड़छाड़ का आरोप लगाने वाली महिला की मौत, लापरवाही का आरोप
छेड़छाड़ का आरोप लगाने वाली महिला की मौत, लापरवाही का आरोपSocial Media

Indore : छेड़छाड़ का आरोप लगाने वाली महिला की मौत, लापरवाही का आरोप

एमवायएच में डायलिसिस के लिए भर्ती हुई महिला ने चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी पर लगाए थे छेड़छाड़ के आरोप। उस महिला की गत दिनों घर में मौत के बाद एनजीओ ने मीडिया से चर्चा के दौरान गंभीर आरोप लगाए हैं।

इंदौर, मध्यप्रदेश। 28 जुलाई को एमवायएच की पांचवीं मंजिल स्थित 28 वार्ड में डायलिसिस के लिए भर्ती हुई महिला ने अस्पताल के एक कर्मचारी पर एनिमा लगाने के दौरान छेड़छाड़ का गंभीर आरोप लगाया था। बाद इस मामले में महिला ने संयोगितागंज पुलिस में शिकायत भी की थी। इस महिला की गत दिनों घर में मौत हो गई। महिला की मौत के बाद बुधवार को एक एनजीओ ने मीडिया से चर्चा के दौरान गंभीर आरोप लगाए हैं।

एनजीओ के प्रतिनिधियों का कहना है कि महिला द्वारा आरोप लगाए जाने के बाद एमवायएच में उसके इलाज में दिक्कत आ रही थी। हमसे महिला के परिजनों ने संपर्क किया था, इसके बाद एमवायएच अधीक्षक की मदद से महिला को एमवायएच में भर्ती कर इलाज शुरू किया गया था, लेकिन महिला का पूरा इलाज किए बिना उसे डिस्चार्ज कर दिया गया। इलाज के अभाव में महिला की मौत हो गई।

ट्विंकल महिला उत्पीड़न निवारण समिति के पदाधिकारियों ने बुधवार को आरोप लगाया है कि उस घटना के बाद महिला को एमवाय अस्पताल में उचित रुप से इलाज नहीं मिल रहा था। घटना के बाद जब बुजुर्ग महिला पुन: डायलिसिस के लिए एमवायएच में आई तो पहले उसके इलाज से ही मना किया जाता रहा। इसके बाद महिला को इंजेक्शन भी लगाया गया जिसके कारण उसके एक हाथ में सूजन आ गई। बाद में महिला के हाथों में चीरा लगाया गया। समिति की अध्यक्ष रीटा डागरे के मुताबिक महिला उपचार के लिए जब अस्पताल पहुंची तो उन्हें परेशानी आ रही थी उनके स्वजनों ने हमें फोन कर परेशानी भी बताई थी। इसके बाद हमने एमवाय अधीक्षक से चर्चा की। इसके बाद उसका उपचार शुरू हुआ। महिला को अस्पताल प्रशासक ने भर्ती कर उपचार करने के बजाए सोमवार रात को घर भेज दिया। ऐसे में अगले दिन उसकी घर पर ही मौत हो गई। यदि अस्पताल प्रबंधन लापरवाही नहीं कर उसे अस्पताल में भर्ती कर उपचार करता तो उसकी मौत नहीं होती। अब हम महिला को न्याय दिलवाने के लिए कलेक्टर, कमिश्नर व सीएम से शिकायत करेंगे और जरुरी होगा आंदोलन भी करेंगे।

यह कहना है इनका :

मुझे महिला के सिलसिले में कोई भी जानकारी नहीं है। मैं पूरे मामले की जानकारी निकालकर जानकारी दे सकता हूँ।

डॉ. वीपी पांडे, विभागाध्यक्ष, मेडिसिन विभाग, एमवायएच, इंदौर

हां, महिला इलाज के लिए अस्पताल आई थी और मैंने ही एनजीओ के कहने पर महिला को अस्पताल में भर्ती करा, इलाज के लिए संबंधित डॉक्टर्स को निर्देश दिए थे। इसके बाद क्या हुआ इसकी जानकारी मुझे नहीं है और न ही मुझे इस संबंध में अब तक किसी ने कोई शिकायत की है।

डॉ. पीएस ठाकुर, अधीक्षक, एमवायएच

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co