दर्जनों प्रमाण से हुआ महिला का राजफाश।
दर्जनों प्रमाण से हुआ महिला का राजफाश।|Neelesh Singh Thakur – RE
मध्य प्रदेश

इंदौर पुलिस ने किया साक्षी उर्फ समरीन का राजफाश, लोग बोले ये तो वही है

"पशुओं के नाम पर ब्लैकमेल करना इसका पेशा है यह कहना है पुलिस द्वारा राज एक्सप्रेस को उपलब्ध कराए गए वीडियो क्लिप्स में लोगों का। हासिल दस्तावेजों में जालसाजी के सबूत मिले हैं" आप भी देखें

Neelesh Singh Thakur

हाइलाइट्स –

कुत्तों की मसीहा बन ठगने का धंधा!

नोएडा, गाजियाबाद और फिर अब इंदौर

दर्जनों प्रमाण से हुआ महिला का राजफाश!

राज एक्सप्रेस। वीडियो में कुत्तों की मददगार बन पुलिस पर आरोप लगाने वाली टोटल फ्रॉड है। पशुओं के नाम पर ब्लैकमेल करना इसका पेशा है। यह कहना है पुलिस द्वारा राज एक्सप्रेस को उपलब्ध कराए गए वीडियो क्लिप्स में लोगों का। जांच में हासिल दस्तावेजों में भी जालसाजी के सबूत मिले हैं।

क्या है मामला –

दरअसल इंदौर में रहने वाली एक महिला का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुआ था। इस वीडियो में साक्षी शर्मा बताई जा रही महिला ने खुद को लावारिस कुत्तों का मददगार बताते हुए स्थानीय लोगों और तिलक नगर पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए थे।

युवती के वीडियो वाले आरोपों को जानने के लिए इस आर्टिकल पर क्लिक करें -इंदौर : लावारिस कुत्तों का सहारा युवती का दर्द सोशल मीडिया पर क्यों छलका

जमकर लूटी सहानुभूति –

इस वीडियो के वायरल होते ही लोगों ने कुत्तों को अपना बच्चा मानने वाली युवती का जमकर साथ दिया और उसके पक्ष में बातें लिख डालीं। पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी तमाम सवाल उठाए गए।

एकाएक इंदौर की तिलक नगर थाना पुलिस आरोपों की जद में आ गई। हालांकि युवती ने वायरल वीडियो में पुलिस और लोगों पर आरोप तो लगाए लेकिन उसने इस बाबत कोई प्रमाण पेश नहीं किया।

फिर आया पुलिस का वीडियो -

मामले के तूल पकड़ने के बाद सोशल मीडिया यूट्यूब के डेली न्यूज कैप (Daily News Cap) नाम के एक अकाउंट पर तिलक नगर थाना टीआई दिनेश वर्मा ने विभाग का पक्ष रखा। उन्होंने मामले में जो साक्ष्य प्रस्तुत किए उससे सहानुभूति का केंद्र बन रही साक्षी शर्मा का कुछ और ही चेहरा सामने आया।

पुलिस अधिकारी के मुताबिक वीडियो में साक्षी बताई जा रही महिला नाम बदल-बदल कर रहती आई है। उसका नाम साक्षी शर्मा नहीं बल्कि समरीन बानो, पिता दिलशाद सिद्दीकी है। मूल रूप से यह मेरठ की रहने वाली है और कई लोगों को चूना लगा चुकी है। पुलिस का पक्ष जानने वीडियो प्ले करें -

पुलिस के साथ साक्षी उर्फ समरीन बानो के घर पहुंची पीपुल फॉर एनिमल संस्था संचालक प्रियांशु जैन ने भी वीडियो वायरल कर आरोप लगाने वाली साक्षी के आरोपों के निराधार बताया है। वीडियो में देखें -

वो कुत्तों को मारती है! – पुलिस के वायरल वीडियो में पुलिस अधिकारी ने पीड़ित के आरोपों को निराधार और एकतरफा बताकर खारिज कर दिया। पुलिस ने दिन और दिनांक वार कार्रवाई की जानकारी भी पेश की। पुलिस ने चौकीदार रतिराम से लेकर तमाम लोगों के वीडियो को राज एक्सप्रेस के साथ साझा किया है। जिसे हम आप तक पहुंचा रहे हैं। वीडियो में खुद आप देखें क्या है पूरा सच –

मोहल्ले वाले परेशान! – पुलिस अधिकारी का दावा है कि वायरल वीडियो वाली साक्षी शर्मा से मोहल्ले वाले परेशान हैं। पुलिस को लोगों ने बताया है कि वह कुत्तों को मारती है। कुत्ते खुले में घूमते हैं तो लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

एक मकान मालिक सीमा त्रिपाठी बताती हैं कि लोगों को परेशान करना और रुपये ऐंठना इस महिला का पेशा है। जिसकी जांच होनी चाहिए।

हथियार सोशल मीडिया! –

पुलिस अधिकारी ने राज एक्सप्रेस के साथ साक्षी उर्फ समरीन के सोशल मीडिया पर अलग-अलग नाम से बनाए गए अकाउंट के साथ ही पहचान पत्र साझा किए हैं जिनकी पड़ताल की जा रही है। मामला जांच का विषय है। आप भी देखें और निर्णय करें-

पुलिस द्वारा राज एक्सप्रेस को उपलब्ध कराए गए साक्ष्य।

पुलिस द्वारा राज एक्सप्रेस को उपलब्ध कराए गए साक्ष्य।

तिलक नगर थाना पुलिस अधिकारी ने इंदौर की कानून व्यवस्था पर लोगों से दृढ़ विश्वास रखने की अपील की है। पुलिस ने सोशल मीडिया का उपयोग करने वालों से भी कहा है कि आरोप-प्रत्यारोप से जुड़े मामलों में विवेक का उपयोग करें क्योंकि आपकी सहानुभूति का गलत लोग दुरुपयोग कर सकते हैं।

डिस्क्लेमर – आर्टिकल सोशल मीडिया पर प्रचलित वीडियो पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक जोड़े गए हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co