नरोत्तम मिश्रा ने सेम्स के कोविड वार्ड का किया निरीक्षण
नरोत्तम मिश्रा ने सेम्स के कोविड वार्ड का किया निरीक्षण|Social Media
मध्य प्रदेश

संक्रमण इंदौर में महानगरों के साथ शुरू हुआ, आज इंदौर बेहतर स्थिति में

गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा गुरुवार सुबह अरबिंदो अस्पताल के कोविड19 केयर सेंटर का निरीक्षण किया और मरीजों से मुलाकात की। इंदौर का रिकवरी रेट पहुंचा 74%, इंदौर में 24 घंटे में आएगी रिपोर्ट।

Mumtaz Khan

इंदौर, मध्य प्रदेश। गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा गुरुवार सुबह सांवेर रोड स्थित अरबिंदो अस्पताल कोविड-19 केयर सेंटर का निरीक्षण किया और मरीजों से मुलाकात की। उन्होंने अस्पताल में भर्ती मरीजों से न सिर्फ हालचाल जाना, बल्कि उन्हें भरोसा दिलाया कि बेफिक्र होकर इलाज कराएं, घबराएं नहीं, हम आपके साथ हैं। कोविड केयर सेंटर के निरीक्षण के दौरान मंत्री श्री मिश्रा ने कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत सभी प्रोटोकॉल एवं आवश्यक मापदंडों का पालन किया। पीपीई किट पहनकर कोविड केयर सेंटर का निरीक्षण किया। तत्पश्चात उन्होंने इंदौर की स्वास्थ्य संबंधी समीक्षा बैठक में हिस्सा लिया। समीक्षा बैठक में सर्वप्रथम उन्होंने कोविड-19 से संबंधित सैंपल टेस्ट की रिपोर्ट 24 घंटे के अंदर पूर्ण करने के निर्देश दिए।

मंत्री श्री मिस्रा ने इस मौके पर कहा कि जो कह रहे थे कि इंदौर चीन के वुहान जैसा हो गया, उन्हें मैं संदेश देना चाहता हूं कि इंदौर, मुंंबई और दिल्ली में करीब-करीब कोरोना का संक्रमण साथ में शुरू हुआ था। अब तीनों की तुलना करने पर आपको खुद ही फर्क समझ आएगा। मैं कोई भाजपा सरकार की तारीफ नहीं कर रहा हूं, लेकिन जहां-जहां भाजपा की सरकार है, हम कोरोना को नियंत्रण में करते चले जा रहे हैं। मैं आलोचना नहीं कर रहा हूं, लेकिन यह सही है कि आज दिल्ली में कोरोनो मरीजों के लिए बेड नहीं हैं, आईसीयू और वेंटीलेटर की उतनी व्यवस्था नहीं है। दिल्ली में रहने वाले हमारे प्रदेश के लोग अब लौटकर यहां आ रहे हैं। दिल्ली जैसे हाल मुंंबई के भी हैं।

रिपोर्ट समय सीमा में मिलना अत्यंत जरूरी :

मंत्री श्री मिश्रा ने आगे कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कोरोना को लेकर 210 घंटे से ज्यादा बैठक ली। इंदौर में अब रिकवरी रेट 74 फीसदी हो गई है। वहीं, प्रदेश में रिकवरी रेट 78 फीसदी हो चुकी है। आज मैंने आदेश दिए हैं कि जांच रिपोर्ट 24 घंटे में आ जानी चाहिए, जिससे मरीज का जल्द से जल्द इलाज शुरू हो सके। सैंपल प्राप्त से रिपोर्ट आने तक का सफर 24 घंटे में पूर्ण हो जाना चाहिए। टेस्ट रिपोर्ट समय सीमा में प्राप्त करना अत्यंत आवश्यक है। क्योंकि टेस्ट रिपोर्ट देरी से प्राप्त होने की स्थिति में पॉजिटिव पाए गए व्यक्ति में संक्रमण बढ़ने का खतरा बना रहता है। साथ ही इलाज प्रक्रिया भी मुश्किल हो जाती है। उन्होंने बताया कि समय पर टेस्ट रिजल्ट प्राप्त होने से मरीज की बीमारी गंभीर रूप नहीं ले पाती और व्यक्ति जल्द स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो पाता है। इंदौर में 80 प्रतिशत बेड खाली हैं।

मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि प्रारंभ में दिल्ली-मुंबई एवं इंदौर के हालात एक जैसे ही थे। तीनों शहरों में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा था। परंतु मध्य प्रदेश सरकार तथा इंदौर जिला प्रशासन ने कड़ी मेहनत से स्थिति संभाली और आज इंदौर में स्थिति नियंत्रित है। इंदौर में आज दिनांक को 80 प्रतिशत बेड खाली हैं। इस दौरान ना केवल इंदौर बल्कि संपूर्ण राज्य ने कैपेसिटी बढ़ाने का कार्य भी किया और आज 2 हजार 574 सक्रिय प्रकरणों के विरुद्ध 20 हजार बेड की क्षमता प्राप्त की है। इसके अतिरिक्त आईसीयू वार्ड, वेंटिलेटर, पीपीई किट, दवा आदि सभी की समुचित मात्रा में उपलब्धता है। कोविड-19 संक्रमित सभी व्यक्तियों का इलाज भी निःशुल्क रूप से कराया जा रहा है। इन सभी प्रयासों का परिणाम है कि, आज इंदौर का रिकवरी प्रतिशत 74 प्रतिशत तक पहुंच गया है। इन संपूर्ण तैयारियों के लिए शासन, प्रशासन तथा शहर वासी बधाई के पात्र हैं।

इंदौर का पॉजिटिविटी रेट कम हुआ है :

कोविड- केयर सेंटर के निरीक्षण के पश्चात डॉ मिश्रा ने जिले में सुरक्षा एवं स्वास्थ्य संबंधी व्यवस्थाओं की बैठक में हिस्सा लिया। इस दौरान जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट भी उपस्थित थे। साथ ही इंदौर संभाग आयुक्त डॉ पवन शर्मा, आईजी ाी विवेक शर्मा, कलेक्टर मनीष सिंह, नगर निगम कमिश्नर प्रतिभा पॉल, जिला पंचायत सीईओ रोहन सक्सेना, एमजीएम मेडिकल कॉलेज की डीन डॉक्टर ज्योति बिंदल अन्य अधिकारीगण एवं चिकित्सक उपस्थित थे। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री डॉ मिश्रा ने इंदौर के नवीनतम आंकड़ों की जानकारी ली। कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि इंदौर का पॉजिटिविटी रेट कम हुआ है, जो लगभग 6.6 प्रतिशत तक आ गया है। साथ ही संक्रमण का वार्ड में फैलाव भी बहुत कम हो गया है। शहर में केवल 1 वार्ड ऐसा है जहां 15 से ज्यादा एक्टिव प्रकरण हैं। संपूर्ण जिले में एक्टिव प्रकरणों की संख्या भी लगातार कम हो रही है। उन्होंने बताया कि करीब 125 लोग होम आइसोलेशन में रखे गए हैं।नरोत्तम मिश्रा ने सेंपलिंग के संबंध में भी जानकारी ली। जिसके संबंध में संभागायुक्त डॉ पवन शर्मा ने बताया कि, जिले में करीब 1700 से 1900 टेस्ट किए जा रहे हैं। साथ ही 7 नई ट्रूनेट मशीन भी प्राप्त हुई हैं, जिसके कारण टेस्टिंग क्षमता और भी बढ़ जाएगी।

इंदौर में 80 प्रतिशत बेड खाली :

मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि प्रारंभ में दिल्ली-मुंबई एवं इंदौर के हालात एक जैसे ही थे। तीनों शहरों में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा था। परंतु मध्य प्रदेश सरकार तथा इंदौर जिला प्रशासन ने कड़ी मेहनत से स्थिति संभाली और आज इंदौर में स्थिति नियंत्रित है। इंदौर में आज दिनांक को 80 प्रतिशत बेड खाली हैं। इस दौरान ना केवल इंदौर बल्कि संपूर्ण राज्य ने कैपेसिटी बढ़ाने का कार्य भी किया और आज 2 हजार 574 सक्रिय प्रकरणों के विरुद्ध 20 हजार बेड की क्षमता प्राप्त की है। इसके अतिरिक्त आईसीयू वार्ड, वेंटिलेटर, पीपीई किट, दवा आदि सभी की समुचित मात्रा में उपलब्धता है। कोविड-19 संक्रमित सभी व्यक्तियों का इलाज भी निशुल्क रूप से कराया जा रहा है। इन सभी प्रयासों का परिणाम है कि, आज इंदौर का रिकवरी प्रतिशत 74 प्रतिशत तक पहुंच गया है। इन संपूर्ण तैयारियों के लिए शासन, प्रशासन तथा शहर वासी बधाई के पात्र हैं।

अनलॉक के बाद भी अपराध में आई है कमी :

मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा में इंदौर में कानून व्यवस्था की समीक्षा भी की। समीक्षा के दौरान आईजी विवेक शर्मा ने बताया कि, एक जून से अनलॉक के बाद हर तरह के अपराधों में कमी आई है। जिसका श्रेय पहले से की गई तैयारियों को जाता है। उन्होंने बताया कि अनलॉक के बाद से करीब 960 स्थाई वारंटी को गिरफ्त में लिया है। साथ ही आम्र्स एक्ट के तहत भी रिकॉर्ड कार्यवाही की गई है, जिसमें बड़ी संख्या में अवैध हथियारों को पकड़ा गया है। चाकूबाजी की घटनाओं के साथ मोबाइल चोरी, चैन खींचने आदि में भी त्वरित कार्यवाही कर संबंधित को गिरफ्तार किया गया है।

मैं इस ट्वीट से काफी आहत हुआ :

पूर्व मंत्री जीतू पटवारी के पांच पुत्री वाले ट्वीट बयान को लेकर कहा कि मैं उस ट्वीट से काफी आहत हुआ। यहां शक्ति के रूप में दुर्गा जी की पूजा होती है, पैसे के रूप में लक्ष्मी जी और विद्या के रूप में सरस्वती जी की पूजा होती है। इस प्रकार की टिप्पणी निंदनीय है। पटवारी ने प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया था कि पुत्र के चक्कर में 5 पुत्री पैदा हो गई, नोटबंदी, जीएसटी, महंगाई, बेरोजगारी, मंदी, पर अभी तक 'विकास' पैदा नहीं हुआ।

तबलीगी जमात से फैला इंदौर, प्रदेश में कोरोना :

मंत्री श्री मिश्रा ने कहा कि फरवरी से मार्च के बीच इंदौर और प्रदेश में कोरोना संक्रमण फैला है। इसमें अहम भूमिका तबलीगी जमात के लोगों की रही है, जिनका इस दौराना जाना-आना लगा हुआ था। तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने इस तरफ ध्यान नहीं दिया। इस कारण इंदौर और प्रदेश में कोरोना संक्रमण फैला। उल्लेखनीय है कि कांग्रेसी भाजपा पर आरोप लगाते रहे हैं कि भाजपा प्रदेश में सरकार बनाने में लगी हुई थी, इस कारण लॉकडाउन देर से किया गया और कोरोना संक्रमण की तरफ ध्यान भी नहीं दिया गया, इस कारण प्रदेश और देश में कोरोना संक्रमण फैला।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co