प्रदेश के कैदियों को मिली टेलीफोन की सुविधा
प्रदेश के कैदियों को मिली टेलीफोन की सुविधा|Syed Dabeer-RE
मध्य प्रदेश

कैदियों के लिए खुशी की खबर, परिवार से बात करने मिलेगी यह सुविधा

मध्यप्रदेश में कोरोना संकटकाल के बीच पैरोल बढ़ने के बाद कैदियों के लिए एक और खुशी की खबर, यूँ करेंगे परिवार से बात।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। देशभर में खतरनाक कोरोना वायरस के कहर से अस्थिर बनी हुई है। लगातार बढ़ते कोरोना वायरस के मरीजों को देखते हुए लॉकडाउन 4 की अवधि भी बढ़ाई गई है जिससे स्थिति में सुधार हो सके है, इसी बीच कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव व रोकथाम के लिए जेलों के बंदियों को भी कई तरह की सुविधा दी जा रही है।

प्रदेश के कैदियों को मिली टेलीफोन की सुविधा

मिली जानकारी के मुताबिक कोरोना संकटकाल के चलते मध्यप्रदेश में जेल में बंद कैदियों से मिलने पर रोक लगी है। इस संकट में कोई भी रिश्तेदार और परिवार के लोग जेल में बंदी से नहीं मिल सकते हैं, इस दौरान मध्य प्रदेश जेल प्रशासन ने नया तरीका अपनाया है कि जिससे उनका परिवार एक दूसरे से जुड़ नहीं सके।

आपको बता दें कि प्रदेश के जिलों में टेलीफोन की सुविधा करवाई गई है जिससे कैदी अपने घर वालों से बात कर सकें, बता दें कि जेल में बंद कैदियों से ना मिलने पर परिवार में बड़ी परेशानी हो रही है इस दौरान ये सुविधा की गई है इस सुविधा से कैदी अपने परिवारों से बात कर सकते हैं।

प्रदेश के महानिदेशक संजय चौधरी का कहना

कोरोना संकट में यह सुविधा निशुल्क उपलब्ध करवाई गई है आपको बता दें कि फोन की उपलब्धता के साथ कैदियों के लिए ये भी खुशी की बात है कि पहले जहां 3 घंटे फोन पर बात करने की अनुमति थी लेकिन अब से 6 घंटे कर दिया गया है वही रिचार्ज में सामने आया है कि कैदी फोन पर बात करने पर काफी अच्छा महसूस कर रहे हैं।

आपको बताते चलें कि मध्यप्रदेश में कोरोना लॉकडाउन की आफत सबकी सजा बनी हुई है। वहीं संकटकाल में कोरोना से बचाव के लिए अवधि बढ़ने का लाभ बन्दियों व कैदियों को मिला, मध्यप्रदेश जेल विभाग में बन्दियों की पैरोल बढ़ाने को लेकर आदेश जारी किया था कोरोना वायरस के चलते जेलों में भीड़ कम करने के लिए जेल विभाग में बन्दियों की पैरोल (छुट्टी) बढ़ाई, और 4 महीने यानि 120 दिन हुई थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co