अस्पताल के बाहर मां की गोद में मासूम ने तोड़ा दम
अस्पताल के बाहर मां की गोद में मासूम ने तोड़ा दमSocial Media

जबलपुर में अस्पताल के बाहर मां की गोद में मासूम ने तोड़ा दम, मामले पर कांग्रेस ने सरकार को घेरा

मध्यप्रदेश : कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा- जबलपुर की यह तस्वीर बेहद ह्रदय विदारक है, एक मासूम अस्पताल के बाहर अपनी माँ की गोद में दम तोड़ देता है, क्योंकि ना तो उसे डॉक्टर मिल पाया, ना इलाज मिल पाया।

मध्यप्रदेश। जबलपुर अस्पताल के बाहर एक मासूम बच्चे की मौत हुई है। जानकारी के मुताबिक, समय पर इलाज नहीं मिलने से अस्पताल के बाहर मां की गोद में ही मासूम बच्चे ने दम तोड़ दिया है, यह हृदय विदारक घटना जबलपुर जिले के बरगी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की है। इस मामले को लेकर कांग्रेस ने बीजेपी सरकार को आड़े हाथों लिया है।

कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा-

इस मामले को लेकर मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ ने सरकार पर जमकर निशाना साधा है। कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा- मध्यप्रदेश के जबलपुर के बरगी की यह तस्वीर बेहद ह्रदय विदारक है। एक मासूम बालक स्वास्थ्य केन्द्र के बाहर अपनी माँ की गोद में तड़प-तड़प कर दम तोड़ देता है क्योंकि ना उसे डॉक्टर मिल पाया, ना इलाज मिल पाया।

यह तस्वीरें सरकार के सुशासन, स्वर्णिम प्रदेश, विकास के दावों की पोल खोल रही : कमलनाथ

कमलनाथ ने कहा कि, मध्यप्रदेश के विभिन्न हिस्सों से इस तरह की तस्वीरें निरंतर सामने आ रही है, लेकिन ज़िम्मेदार सिस्टम सुधारने की बजाय, मूकदर्शक बन कर यह सब देख रहे है। यह तस्वीरें शिवराज सरकार के सुशासन, स्वर्णिम प्रदेश, विकास के दावों की पोल खोल रही है। मैं सरकार से मांग करता हूं कि इस मामले की जांच हो, इसके दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो, पीड़ित परिवार की हर संभव मदद हो।

जानिए पूरी खबर :

ये मामला जबलपुर जिले के बरगी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से सामने आया है, यहीं एक मासूम बच्चे को उल्टी-दस्त की शिकायत होने पर परिजन अस्पताल ले गए। लेकिन यहां डॉक्टर नहीं मिले। समय पर इलाज नहीं मिलने से मासूम ने मां की गोद में ही दम तोड़ दिया। परिजनों ने बच्चे की मौत के लिए अस्पताल प्रबंधन को जिम्मेदार ठहराया है।

परिजनों का आरोप- बच्चे की मौत समय पर इलाज ना मिलने के कारण हुई है, क्योंकि जब गंभीर हालत में बीमार बच्चे को इलाज के लिए अस्पताल लाया गया तो वहां पर सिर्फ इलाज के नाम पर एक नर्स मौजूद थी, इस दौरान कोई भी डॉक्टर नहीं था। इधर इस मामले में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा- कलेक्टर से फोन पर बात कर जांच के निर्देश दिए हैं। इस मामले की जांच कर रिपोर्ट मांगी है, जिनकी गलती मिलती है, उनके खिलाफ कार्रवाई करेंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co