कमल पटेल
कमल पटेलSocial Media

कमल पटेल के निर्देश- प्रदेशभर में किसानों की फसल की तुलाई बड़े इलेक्ट्रॉनिक तोल कांटे से होगी

मध्यप्रदेश। कृषि मंत्री कमल पटेल भारतीय जनता पार्टी के किसान मोर्चा के आयोजित सम्मेलन में शामिल हुए, इस सम्मेलन में कमल पटेल ने किसानों को उनके अधिकारों की अलख जगाते हुए ये बात...

मध्यप्रदेश। प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल (Kamal Patel) अक्सर अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहते हैं। इस बीच अब कृषि मंत्री कमल पटेल भारतीय जनता पार्टी के किसान मोर्चा के आयोजित सम्मेलन में शामिल हुए, इस सम्मेलन में कमल पटेल ने किसानों को उनके अधिकारों की अलख जगाते हुए ये बातें कही है।

कमल पटेल ने दिए निर्देश-

भारतीय जनता पार्टी के किसान मोर्चा के आयोजित सम्मेलन (किसान पंचायत) में कमल पटेल ने निर्देश देते हुए कहा है कि, प्रदेश में सभी वेयरहाउसो में बड़े इलेक्ट्रॉनिक तोलकांटे से तुलाई के आदेश दिए है और अगर किसी भी वेयरहाउस पर फसल खरीदी की तुलाई की इस कांटे से नहीं की गई तो संबंधित को सस्पेंड कर दिया जाएगा।

कमल पटेल ने किसानों से पूछा-

इसके बाद कृषि मंत्री कमल पटेल ने किसानों से पूछा कि, आपकी ग्रीष्मकालीन मूंग की फसल प्रति क्विंटल किस दाम पर बेच रहे थे। इस पर किसानों ने जवाब दिया कि तीन से चार हजार प्रति क्विंटल व्यापारी को बेच रहे थे। तभी मंत्री ने तपाक से प्रश्न पूछा कि सरकार ने जब घोषणा की है कि आप की फसल सरकार समर्थन मूल्य पर खरीदेगी, तब आप से व्यापारियों ने क्या रेट पर मूंग खरीदी का ऑफर दिया, तो किसानों ने बोला कि 5 हजार से 5 हजार 500 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से।

वहीं उन्होंने किसानों को बताया कि किसानों की फसल का 25 क्विंटल खरीदी का आदेश कांग्रेस की मनमोहन सरकार के समय का है, लेकिन जब हमारी सरकार बनी। शिवराज सिंह मुख्यमंत्री बने और मैं कृषि मंत्री तब इस खरीदी लिमिट को बढ़ाकर 40 क्विंटल किया गया है।अभी ग्रीष्मकालीन मूंग 25 क्विंटल के हिसाब से खरीदी जा रही है, लेकिन दो-तीन दिन में इसके आदेश 40 क्विंटल खरीदने के हो जाएंगे। कृषि मंत्री ने पूछा कि आज की स्थिति में सरकार का समर्थन मूल्य खरीदी 7275 है तो आप बताइए आपको प्रति क्विंटल पर 3000 प्रति क्विंटल का लाभ हो रहा है। छोटे किसान जैसे कि जिनके पास 1 एकड़ है उनको 18000, जिनके पास 2 एकड़ है उनको 36000 का ज्यादा फायदा हो रहा है। इसके लिए कमल पटेल ने PM मोदी, केंद्रीय कृषि मंत्री और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री का किसानों की ओर से आभार माना।

बता दें, किसानों को खेती किसानी करते हुए इस बात का एहसास ही नहीं होता है कि उनकी फसल की खरीदी का उचित मूल्य क्या है और उन्हें व्यापारी क्या दाम दे रहा है। इस बीच आयोजित सम्मेलन (किसान पंचायत) में कमल पटेल ने किसानों से कुछ सवाल किए। जिसका उत्तर वहां पर मौजूद किसान भाई नहीं दे पाए, इसके बाद किसान नेता एवं कृषि मंत्री कमल पटेल ने उनको बताया कि फसल का वाजिब दाम क्या है और क्यों सरकार उनकी फसल को समर्थन मूल्य पर खरीद रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co