Raj Express
www.rajexpress.co
नौकरी दिलाने के नाम लाखों हड़पे
नौकरी दिलाने के नाम लाखों हड़पे |Social Media
मध्य प्रदेश

जबलपुर: फर्जीवाड़ा! नौकरी दिलाने के नाम लाखों हड़पे

जबलपुर, मध्य प्रदेश : शहर में सेना का कैप्टन बनकर युवक-युवतियों को राइट टाउन स्टेडियम में ट्रेनिंग दे रहे युवक अभय रजक उर्फ सोनू को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। शहर में सेना का कैप्टन बनकर युवक-युवतियों को राइट टाउन स्टेडियम में ट्रेनिंग दे रहे युवक अभय रजक उर्फ सोनू को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। अभय रजक ने युवक-युवतियों को ट्रेनिंग देने के बाद नौकरी लगवाने के नाम पर लाखों रुपए भी हड़पे, यहां तक कि दो युवक-युवतियों को सेना में नौकरी लगने का लैटर तक दे दिया। पुलिस ने आरोपी अभय रजक के पास से सेना की आईडीए यूनिफार्म सहित अन्य सामान बरामद किया है।

पुलिस के अनुसार

ग्राम नोनी शहपुरा भिटौनी निवासी सोनू रजक पिता भूरा रजक उम्र 30 वर्ष ने छापर रामपुर गोरखपुर में एक किराए का मकान लिया। जहां पर वह सेना की यूनिफार्म पहनकर आता-जाता रहा, जिसके चलते आसपास के लोग उसे सेना का अधिकारी समझने लगे, इस बात का फायदा उठाते हुए सोनू लोगों को आकर्षित करता रहा। क्षेत्र के ही एक युवक सचिन राजपूत उम्र 30 वर्ष को चर्चा के दौरान सोनू रजक ने कहा कि, वह सेना में कैप्टन है और ट्रेनिंग देता है, यदि कोई अपना हो तो उसे नौकरी भी दिला देता है। सोनू रजक की बातों में आकर सचिन रजक सहित अन्य युवक-युवतियों ने फर्जी कैप्टन से संपर्क किया।

रुपए लेकर प्रशिक्षण देना शुरु कर दिया

जिस पर सोनू ने युवक-युवतियों से रुपए लेकर राइट टाउन स्टेडियम में प्रशिक्षण देना शुरु कर दिया। सेना में नौकरी लगने के नाम पर युवक-युवती नियमित रुप से ट्रेनिंग में जाते रहे। इस बीच दो युवक-युवतियों को फर्जी कैप्टन ने सेना में ज्वाइनिंग का लैटर तक दे दिया। लम्बा समय बीतने के बाद भी जब नौकरी नहीं मिली तो उन्हे सोनू पर संदेह होने लगा, कुछ ने सोनू से पूछताछ शुरू की, इसके बाद सोनू भाग गया।

गोरखपुर थाना में शिकायत की

सोनू के अचानक गायब होने पर पीड़ित युवक सचिन रजक ने गोरखपुर थाना में शिकायत की। जिस पर पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर सोनू की सरगर्मी से तलाश शुरु कर दी और उसे शहपुरा स्थित नोनी गांव से गिरफ्तार कर लिया पुलिस ने सोनू के पास से सेना की यूनिफार्म, आईडी, जैक राइफल्स के बैच सहित अन्य सामान बरामद कर पूछताछ शुरू कर दी है। सोनू रजक ने युवक-युवतियों को अपने जाल में फंसाने के लिए उन्हे महू जिला इंदौर में सेना के एरिया में ले जाकर एक दो दिन तक घुमाया है। जिससे युवक-युवतियों को यकीन हो गया कि उन्हे सोनू रजक नौकरी दिला देगा।

ये हुए ठगी के शिकार:

सेना के फर्जी कैप्टन सोनू रजक ने सचिन राजपूत से 10 हजार रुपये, आशा ठाकुर से 6 हजार, अर्चना ठाकुर से 6 हजार, अश्विनी पटेल 3 हजार, आयुषी अग्रवाल 25 सौ, आरती कोल 25 सौ, मुस्कान रजक 3 हजार, शोभना पटेल 30 हजार, सेजल पटेल 5 हजार, राकेश मेहरा 7 हजार, आदर्श यादव 4 हजार, शुभम पटेल 30 हजार, बंटी राजपूत 20 हजार, सत्यम सेन 22 हजार व सोहेल पटेल 7 हजार रुपये लिए हैं।