सुप्रीम कोर्ट का फैसला
सुप्रीम कोर्ट का फैसला|Social Media
मध्य प्रदेश

सुप्रीम कोर्ट: गुजरात दंगों के दोषी अब प्रदेश में करेगें समाज सेवा

जबलपुर, मध्यप्रदेश: 18 साल पुराने गुजरात के गोधरा दंगों के दोषियों को मिली जमानत, जिसके साथ अब समाज सेवा के कार्यों में दोषी निभाएगें भूमिका।

Deepika Pal

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। 18 साल पुराने गुजरात के गोधरा दंगों के दोषियों को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया है जिसके साथ अब फैसले के तहत दोषी जमानत मिलने के बाद समाज की सेवा में अपनी भूमिका निभाएगें। बीते दिन इन दोषियों में से 6 दोषी पुलिस की सुरक्षा में इंदौर पहुंचे। कोर्ट के फैसले के अनुसार दोषियों को गुजरात से बाहर रखना जरूरी है इसके लिए मध्यप्रदेश के जबलपुर, इंदौर में रहकर समाज सेवा करेंगे।

नर्मदा कुंभ में निभाएगें भूमिका

बता दें कि, बीते महीने सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात दंगों के मामले में 15 दोषियों को उम्रकैद के बाद जमानत दी थी जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने इन दोषियों को जमानत पर छोड़ दिया है। जिसके बाद अब 24 फरवरी को शुरू होने वाले नर्मदा कुंभ में कार्यकर्ता के तौर पर कार्य करेंगे। कोर्ट के निर्देशों के अनुसार ये लोग सामाजिक/सामुदायिक सेवाओं, ध्यान और आध्यात्मिक कार्यक्रमों में अपनी भूमिका निभाएगें। जिसमें से 6 दोषी फिलहाल सोमवार को इंदौर पहुंचे, वह इंदौर के बाहरी इलाके खंडवा रोड पर एक मंदिर में रह रहे हैं। इस समय वह मंदिर की सफाई और जूते के स्टालों सहित दूसरी सेवाओं में लगे हुए हैं। बता दें कि, 24 फरवरी से 3 मार्च तक होने वाले जबलपुर के गौरीघाट पर नर्मदा कुंभ में आयोजित कार्यक्रम में सेवा करेगें।

18 साल पहले हुई थी घटना :

बता दें कि, 2002 में गुजरात के आणंद में गोधरा हत्याकांड की घटना हुई थी जिसमें 15 दोषियों को सजा सुनाते हुए उम्रकैद दी गयी थी, जिसके बाद अब इस पर सुप्रीम कोर्ट ने 15 दोषियों को जमानत पर छोड़ा है।

इंदौर के अस्पतालों में भी करेंगे सेवा :

इस संबंध में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने बताया कि, अगले कुछ दिनों में कुछ दोषियों को इंदौर के एमवाय अस्पताल या अन्य अस्पतालों में भी सेवाओं के लिए भेजा जाएगा। साथ ही बताया कि, जबलपुर आए दोषियों ने पहले मंदिर का फर्श साफ किया और बाद में उसे पानी से धोया। जिसके बाद में उन्होंने मंदिर में भोजन करने वालों के बर्तन धोए। इसके साथ ही वे नर्मदा कुंभ के अलावा स्वच्छ भारत अभियान में वृद्धाश्रम में स्वयंसेवकों के रूप में काम कर, अस्पतालों में उन रोगियों की देखभाल भी करेंगे। साथ ही इन्हें स्मार्ट सिटी के तहत अपनी पसंद का काम करने में मदद भी दी जाएगी। फिलहाल इनकी पहचान सुरक्षा कारणों के चलते छुपाई जा रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co