इंदौर : जगमोहन वर्मा भाजपा में लौटे, नामांकन वापस लेंगे

इंदौर, मध्य प्रदेश : भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता जगमोहन अंतत: वापस भाजपा में लौट आए। इससे भाजपा के प्रत्याशी तुलसी सिलावट को चुनाव मैदान में राहत मिलेगी।
इंदौर : जगमोहन वर्मा भाजपा में लौटे, नामांकन वापस लेंगे
जगमोहन वर्मा भाजपा में लौटे, नामांकन वापस लेंगेSocial Media

इंदौर, मध्य प्रदेश। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता जगमोहन अंतत: वापस भाजपा में लौट आए। पालदा क्षेत्र में हम्माल संघ और उद्योगपतियों के विवाद में नाराज हुए जगमोहन वर्मा ने कुछ दिनों पूर्व पार्टी छोड़ने के साथ ही सांवेर विधानसभा उप चुनाव में शिवसेना के टिकट पर चुनाव लड़ने की घोषणा की थी। भाजपा नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे और विधायक आकाश विजयवर्गीय के मनाने पर भी नहीं मानने वाले वर्मा रविवार को भाजपा विधायक सांवेर चुनाव प्रभारी रमेश मेंदोला की बात मान पुनः भाजपा में लौट आए। साथ ही चुनाव से नामांकन वापस लेने पर भी राजी हो गए। इससे भाजपा के प्रत्याशी तुलसी सिलावट को चुनाव मैदान में राहत मिलेगी।

रविवार को भाजपा के नाराज नेता जगमोहन वर्मा विधायक रमेश मेंदोला, आकाश विजयवर्गीय, भाजपा प्रदेश प्रवक्ता उमेश शर्मा, संभागीय मीडिया प्रभारी आलोक दुबे भाजपा नेता रामदास गर्ग आदि वर्मा के निवास पर पहुंचे। नेताओं की उपस्थिति में श्री वर्मा की भाजपा में वापसी का ऐलान किया। भाजपा नेताओं ने पुष्प हार भाजपा का दुपट्टा पहना कर स्वागत किया। इस अवसर पर मीडिया से चर्चा में जगमोहन जी ने हजारों वोटों की मार्जिन से सांवेर चुनाव में भाजपा की जीत का दावा भी किया। उन्होने कहा भाजपा मेरी मां है। विधायक सांवेर विधानसभा चुनाव प्रभारी मेंदोला ने कहा कि जगमोहन वरिष्ठ नेता है। भाजपा संगठन को उनके मार्गदर्शन की आवश्यकता है उनकी वापसी सांवेर में भाजपा की ऐतिहासिक विजय सुनिश्चित करेगी।

भाजपा नेता वर्मा की नाराजी हम्मालों की खड़ी कराई की व्यवस्था बंद होने से थी। जिससे पालदा क्षेत्र के 5 हम्माल संघ को नुकसान हो रहा था। इस मामले में मजदूरों की मांग को लेकर उचित समय पर उचित निराकरण कर दिया जाने के आश्वासन के बाद वे मान गए। वर्मा ने पुन: भाजपा में आने पर कहा कि पार्टी मेरी माँ है और माँ से बच्चे नाराज भी होते हैं लेकिन जब माँ के साये में रहकर हम अपना जीवन यापन करते हैं राजनीति करते हैं तो उसको तो नहीं भूला जा सकता है और जब परिवार के लोग ये कहते हैं कि आपकी बात मानी जायेगी तो फिर माँ को छोड़ने का सवाल ही नहीं पैदा होता है। वर्मा ने मीडिया से कहा कि वो बीजेपी में शामिल हो गए और अब वो सांवेर उपचुनाव में दाखिल किए नामांकन को वापस लेंगे। वहीं अब वो बीजेपी प्रत्याशी को जिताने के लिये मेहनत करेंगे। नाम वापसी के पहले बीजेपी के डैमेज कंट्रोल के बाद बीजेपी प्रत्याशी तुलसी सिलावट को राहत मिलेगी क्योंकि सांवेर में जीत वर्मा के चुनाव मैदान में आने से भाजपा के वोट बैंक में सेंध लगती। सूत्रों के अनुसार श्री वर्मा ने पालदा क्षेत्र सहित पांच जगहों पर बंद पड़ी खड़ी कराई व्यवस्था को शुरू करने की बात मानने पर ही भाजपा का साथ दिया है। लेकिन जिस खडी कराई का विरोध भाजपा के नेता और उद्योगपति ही कर रहे थे। उसी खड़ी कराई व्यवस्था को फिर से प्रारंभ करवाने की सहमति देना किसके हित में होगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co