Raj Express
www.rajexpress.co
हाथियों ने किसान के आशियाने को ढहाया
हाथियों ने किसान के आशियाने को ढहाया|Afsar Khan
मध्य प्रदेश

जंगली हाथियों ने किसान के आशियाने को ढहाया

खेत में लगी फसल भी हाथियों के झुण्ड ने की तबाह परिवार जनों ने भाग कर बचाई जान, बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व नेशनल पार्क के पनपथा बीट में जंगली हाथियों का झुण्ड कहर बन किसानों के खेतों को तहस-नहस कर रहे हैं

Afsar Khan

उमरिया। बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व नेशनल पार्क के पनपथा बीट में इन दिनों जंगली हाथियों का झुण्ड कहर बन किसानों के खेतों को तहस-नहस कर रहे हैं, जिस कारण किसान भारी परेशानियों की पीड़ा से उभर नही पा रहे, खबर है कि पनपथा रेंज अंतर्गत ग्राम सजवाही में किसानों द्वारा धान की फसल खेतों में लगाई गई थी, अचानक शुक्रवार की शाम करीब तीन दर्जन भर जंगली हाथियोंं का झुण्ड खेतों में जा घुसा और सारे खेतों में लगी धान की फसल को नष्ट कर दिया।

घर हुआ खंडहर किसानों द्वारा हाथियों को भगाने की कोशिश की गई, लेकिन हाथियों ने किसानों को ही खदेड़ दिया और करीब दर्जन भर पीड़ित किसानों ने जानकारी देते हुए बताया कि खेत मे लोट-पोट कर जंगली हाथियों ने मौज मस्ती की और पास में ही बने ननचू बैगा के कच्चे मकान को हाथियों के झुंड ने धक्का मार कर खंडहर में तब्दील कर दिया। भाग कर बचाई जान बांधवगढ़ में लगभग 40 हाथियों का डेरा है, जिसमें बांधवगढ़ के अलावा उड़ीसा, झारखण्ड सहित छत्तीसगढ़ के भी उत्पाती हाथी है,

पार्क से जुड़े सूत्रों की माने तो क्षेत्र में मचाया गया उत्पात इन्हीं हाथियों का है, ननचू बैगा के घर को तबाह करने के साथ ही इन हाथियों ने घर के अंदर रखे अनाज को भी नहीं छोड़ा और उसे भी खा लिया, हाथियों द्वारा मचाये जा रहे उत्पात के बाद ननचू बैगा का परिवार घर छोड़ भाग खड़ा हुआ तब उनकी जान बच सकी। साथ ही हाथियों के झुण्ड ने बाड़ी में लगे केले के दर्जनों पेड़ सहित अन्य फलदार वृक्षों को भी नही छोड़ा।

आर्थिक सहायता की गुहार: ग्रामीणों ने तत्काल मदद के लिए वन अमले को सूचना दी, देर से पहुंचे स्थानीय वन कर्मियों ने ग्रामीणों की मदद लेकर किसी कदर टीन बजाके व पटाखे फोड़ जंगली हाथियों के झुंड को जंगल की तरफ खदेड़ा, लेकिन किसानों के खेत का नुकसान देखने मौके पर कोई भी जिम्मेदार वन अधिकारी नहीं पहुंचे।

ग्रामीणों की मांग है कि शासन-प्रशासन द्वारा हुए नुकसान का अवलोकन कर आर्थिक क्षतिपूर्ति दी जाये, जिससे एक बार फिर किसान की जिंदगी पटरी पर आ सके।