इंदौर : केमिस्ट्री और फिजिक्स के मुकाबले मैथ्स लगा कठिन

स्टूडेंट्स के अनुसार ओवर ऑल पेपर को देखा जाए तो यह मध्यम से कठिन स्तर का था, लेकिन पिछले वर्ष की तुलना मे यह कुछ आसान रहा। कुछ स्टूडेंट्स ने कहा केमिस्ट्री के प्रश्न आसान से मध्यम लेवल के थे।
इंदौर : केमिस्ट्री और फिजिक्स के मुकाबले मैथ्स लगा कठिन
केमिस्ट्री और फिजिक्स के मुकाबले मैथ्स लगा कठिनRaj Express

इंदौर, मध्य प्रदेश। देशभर के 23 आईआईटी व अन्य संस्थानों मेंं एडमिशन के लिए जेईई एडवांस का आयोजन रविवार को कम्प्यूटर आधारित मोड में किया गया। परीक्षा सुबह 9 से दोपहर 12 और दोपहर 2.30 से शाम 5.30 बजे तक ली गई। स्टूडेंट्स के अनुसार ओवर ऑल पेपर को देखा जाए तो यह मध्यम से कठिन स्तर का था, लेकिन पिछले वर्ष की तुलना में यह कुछ आसान रहा। कुछ स्टूडेंट्स ने कहा केमिस्ट्री के प्रश्न आसान से मध्यम लेवल के थे। फिजिक्स भी ठीक-ठाक रहा लेकिन मैथ्स के पोर्शन काफी कठिन लगे। मैथ्स में कैल्कुलस से 5-6 प्रश्न थे।

दो शिफ्ट में परीक्षा :

परीक्षा के लिए शहर में 15 केंद्र बनाए गए। करीब दो हजार स्टूडेंट्स ने इन केंद्रों पर दो शिफ्ट में परीक्षा दी। आईआईटी इंदौर और आईआईटी दिल्ली के ऑब्जर्वर्स ने पूरे समय परीक्षा केंद्रों पर नजर बनाए रखी। स्टूडेंट्स की एंट्री के समय कोरोना गाइडलाइन का पूरा ध्यान रखा गया। परिसर में एंट्री से पहले स्टूडेंट्स के हाथों को सेनेटाइज किया गया, इसके बाद थर्मल स्क्रीनिंग की गई। परीक्षा हॉल में भी दूरी का विशेष ध्यान रखा गया। परीक्षा हॉल में केवल प्रवेश पत्र, पहचान पत्र सहित अन्य जरुरी कागजात, मास्क और सेनेटाइजर ले जाने की अनुमति रही।

ऐसा रहा पेपर :

फिजिक्स में लगभग सभी प्रश्न 11वीं और 12वीं कक्षा से पूछे गए। वहीं कुछ स्टूडेंट्स ने यह भी कहा कि फिजिक्स काफी लेंदी था। कुछ चैप्टर्स जैसे रोटेशन, वर्क पॉवर एनर्जी, मैग्नेटिज्म आदि से काफी ज्यादा प्रश्न पूछे गए थे। कंटिन्यूटि और डिफरेंशिएबिलिटी, एप्लीकेशन ऑफ डेरिवेटिव से भी प्रश्न पूछे गए थे। दो प्रश्न थ्री डी जियोमेट्री से थे। वहीं केमिस्ट्री में कुछ प्रश्न ऑर्गेनिक केमिस्ट्री की तुलना इनऑर्गेनिक एंड फिजिकल केमिस्ट्री पर थे।

एक्सपर्ट व्यू :

कुल प्रश्नों की संख्या 54, लेकिन पेपर-1 के कुल अंक 186 से इस साल 198 कर दिए गए हैं। कम्प्यूटर बेस्ड टेस्ट में स्टूडेंट्स के पास विकल्प था कि वे विकल्प पर अपनी प्रतिक्रिया बदल सकते थे। स्टूडेंट्स प्रश्न को रिव्यू के लिए मार्क कर सकते थे साथ ही वे सेव करने अगले प्रश्न पर जा सकते थे। कोरोना महामारी को देखते हुए जेईई एडवांस 2020 के आयोजन में पूरे दिशा-निर्देश का पालन किया गया। परीक्षा केंद्रों में प्रवेश से पहले स्टूडेंट्स की थर्मल स्क्रीनिंग हुई।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co