झाबुआ पुलिस ने पेश की संवेदनशीलता की मिसाल
झाबुआ पुलिस ने पेश की संवेदनशीलता की मिसाल|Priyanka Yadav-RE
मध्य प्रदेश

महामारी से बड़ी मानवता, पुलिस की सेवा बनी मिसाल

कोरोना के खिलाफ जंग के बीच पुलिस पीड़ित मानवता की भी सेवा कर रही है, झाबुआ पुलिस ने पेश की संवेदनशीलता की मिसाल।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस संकट और लॉक डाउन की स्थिति बनी हुई है वहीं मध्यप्रदेश में कोरोना संकटकाल के समय जनमानस के बीच पुलिस का एक नया रूप उभरकर सामने आया है। वह रूप है पीड़ित मानवता की सेवा का। झाबुआ पुलिस ने आज ऐसी ही मिसाल पेश की है।

जानिए क्या है पूरी बात

वाकया यूँ है गुजरात के अमरेली जिले से श्रमिकों को लेकर अलीराजपुर की ओर जा रही एक बस आज सुबह लगभग 11 बजे झाबुआ जिले के पिटोल कोरोना चेक नाके पर जाँच के लिए रोकी गई। पिटोल चेक पोस्ट पर जब अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में अन्य पुलिस कर्मी बस यात्रियों के दस्तावेजों की जाँच कर रहे थे तब पता चला कि बस में बैठी एक महिला प्रसव पीड़ा से परेशान है। पुलिस ने झाबुआ जिले के ग्राम बाड़ी निवासी श्रीमती पातली बाई पत्नी दीपू की परेशानी को समझकर तत्काल बस को खाली कराया। साथ ही मौके पर मौजूद स्वास्थ्य दल की महिला चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मियों को बुलाकर बस में ही उसका सुरक्षित प्रसव कराया।

झाबुआ पुलिस ने पेश की संवेदनशीलता की मिसाल

आपको बता दें कि प्रसव के बाद पुलिस द्वारा महिला को मेडीकल टीम की देख रेख में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पिटोल में भर्ती करवाया गया, जहाँ जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ हैं। झाबुआ पुलिस द्वारा दिखाई गई इस संवेदनशीलता की जिले भर में प्रशंसा हो रही है। बता दें कि देश में जहाँ कोरोना के चलते लोगों को घर में लाकडाउन होने के बाद कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था वही कोरोना वॉरियर्स का जज्बा नहीं सेवा को ही माना कर्तव्य।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co