Raj Express
www.rajexpress.co
घूमकर जा रहे राहगीर, तीन पुलों के टूटने से बनी समस्या
घूमकर जा रहे राहगीर, तीन पुलों के टूटने से बनी समस्या|Sudha Choubey - RE
मध्य प्रदेश

छतरपुर: झांसी-खजुराहो हाईवे 48 घंटे से बंद , घूम कर जा रहे राहगीर

छतरपुर, मध्य प्रदेश: राष्ट्रीय राजमार्ग झांसी- खजुराहो 86 पिछले लगभग 48 घंटे से बंद पड़ा है। बारिश के कारण तीन डायवर्सन पुल पानी में बह गए। वाहन चालकों को एक अन्य वैकल्पिक मार्ग से जाना पड़ रहा है।

Pankaj Yadav

हाइलाइट्स :

  • झांसी- खजुराहो 86 पिछले लगभग 48 घंटे से बंद पड़ा है

  • बारिश के कारण तीन डायवर्सन पुल पानी में बह गए

  • वाहन चालकों को हो रही है दिक्कत

राज एक्सप्रेस। राष्ट्रीय राजमार्ग झांसी- खजुराहो 86 पिछले लगभग 48 घंटे से बंद पड़ा है। छतरपुर से झांसी जाने वाले वाहन चालकों को एक अन्य वैकल्पिक मार्ग से होकर गुजरना पड़ रहा है। सभी यात्री बसें भी इसी मार्ग से चल रही हैं, जिससे लगभग 30 किमी का चक्कर अतिरिक्त लगाना पड़ रहा है।

तीन डायवर्सन पुल बह गए पानी में :

गौरतलब है कि, दो दिन पहले हुई जोरदार बारिश के कारण झांसी-खजुराहो फोरलेन निर्माण अंतर्गत बनाए गए तीन डायवर्सन पुल पानी में बह गए थे, जिस कारण यह समस्या सामने आई है।

इस तरह जा रहे यात्री वाहन:

यदि छतरपुर से हरपालपुर या झांसी जाना है, तो वाहनों को छतरपुर से गर्रोली, बड़ागांव, जोरन होते हुए गुजरना पड़ रहा है। आमतौर पर सभी यात्री बसें शनिवार को इसी मार्ग से गुजरीं। झांसी और हरपालपुर से आने वाले वाहनों को भी इसी रूट का इस्तेमाल करना पड़ रहा है।

वाहन चालकों को हो रही है दिक्कत :

सबसे बड़ी दिक्कत उन चार पहिया वाहन चालकों के सामने खड़ी हुई, जिन्हें यह वैकल्पिक मार्ग पता ही नहीं था। वैकल्पिक मार्ग के संबंध में कोई बोर्ड आदि भी नहीं लगाए गए हैं। गौरतलब है कि, पीएनसी कंपनी के द्वारा झांसी-खजुराहो फोरलेन का निर्माण किया जा रहा है। इसी निर्माण कार्य के अंतर्गत अलीपुरा के समीप करारागंज, धरमपुरा और पुतरया गांव के नजदीक बने तीन डायवर्सन पुल पानी में बह गए थे। इन पुलों के बह जाने के कारण वाहन नहीं निकल पा रहे हैं।

इनका कहना :

छतरपुर के जे बालाचन्द्रन, एनएचएआई, का कहना है कि, दो दिन से लगातार पीएनसी कंपनी एवं एनएचएआई के अधिकारी इन पुलों को ठीक करने में जुटे हैं। पानी का बहाव अत्यधिक था, इसलिए अभी यात्री बसों के लिए पूरी तरह सड़क को सुधारा नहीं जा सका है। छोटे वाहन और बाईक सवार यहां से गुजरने लगे हैं।