मुख्यमंत्री सहित पूरे भाजपा के कुनबे का झूठ हुआ उजागर: मिश्रा

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : मध्यप्रदेश विधानसभा के एक दिवसीय सत्र में सरकार ने एक प्रश्न के लिखित जवाब में किसान कर्जमाफी की बात स्वीकारी है तो अब माफी मांगे जनता से।
मुख्यमंत्री सहित पूरे भाजपा के कुनबे का झूठ हुआ उजागर: मिश्रा
मुख्यमंत्री सहित पूरे भाजपा के कुनबे का झूठ हुआ उजागर: मिश्राSocial Media

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। प्रदेश में किसानों की कर्जमाफी को लेकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान सहित उनके राजनैतिक कुनबे द्वारा फैलाई गई भ्रम की लकीरों के स्पष्ट हो जाने के बाद मुख्यमंत्री सहित भाजपा के शीर्ष नेतृत्व प्रदेश की जनता से मांफी मांगें। यह बात प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी (ग्वालियर-चंबल संभाग) के.के. मिश्रा ने कही।

मिश्रा ने कहा कि सोमवार को आहूत मध्यप्रदेश विधानसभा के एक दिवसीय सत्र में सरकार ने एक प्रश्न के लिखित जवाब में यह स्वीकार किया है कि 26.58 लाख किसानों का कर्ज माफ हुआ है। सरकार का यह जवाब समूची शिवराज सरकार और भाजपा के महाझूठ को उजागर करने के लिये पर्याप्त है। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आर्थिक रूप से जर्जर प्रदेश की कमान संभालने के बाद 26 लाख से अधिक किसानों का कर्ज माफ कर न केवल अपनी वचनबद्धता का निर्वहन किया बल्कि दूसरी किश्त के रूप में 1 लाख रुपए की कर्जमाफी के आदेश भी जारी कर दिये थे। शेष किसानों की कर्जमाफी भी निकट भविष्य में होना तय थी, किंतु सत्ता के लोभी भाजपा ने कमलनाथ सरकार को गिराकर एक अक्षम्य राजनैतिक अपराध किया है, जिसकी कीमत आसन्न उपचुनाव में उसे चुकानी होगी।

मिश्रा ने कहा कि अफसोस तो इस बात का है कि जिस सरकार ने कल प्रदेश विधानसभा में 26.58 लाख किसानों के कर्जमाफी की बात स्वीकारी है, उसके दूसरे ही दिन उसी सरकार के मुखिया ने मंगलवार को किसान क्रेडिट कार्ड से संबंधित कार्यक्रम में किसानों की कर्जमाफी को लेकर कमलनाथ सरकार पर कर्जमाफी नहीं करने का वही पुराना राग अलापा, इसे क्या समझा जाये? मिश्रा ने मुख्यमंत्री से पूछा है कि आखिरकार उन्होंने महाझूठ बोलने की उपाधि किस विश्वविद्यालय से अर्जित की है, उसे सार्वजनिक करें।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co