कांग्रेस की सरकार गिरने में कमलनाथ का अहंकार जिम्मेदार- विजयवर्गीय

इंदौर, मध्य प्रदेश : कमलनाथजी की सरकार गिरना उसमें कमलनाथजी का अंहकार जिम्मेदार है और दिग्विजयिंसह की राजनैतिक चतुराई जिम्मेदार है।
कांग्रेस की सरकार गिरने में कमलनाथ का अहंकार जिम्मेदार- विजयवर्गीय
कांग्रेस की सरकार गिरने में कमलनाथ का अहंकार जिम्मेदार- विजयवर्गीयSocial Media

इंदौर, मध्य प्रदेश। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाश विजवर्गीय ने इंदौर में चर्चा के दौरान कहा कि मप्र में 28 सीटों में विधानसभा के चुनाव है। मेरे एक बयान पर काफी चर्चा हुई थी कि यदि दिल्ली इशारा करेगी तो सरकार गिर सकती है, उस वक्त कांग्रेस में कमलनाथजी के खिलाफ आक्रोश भी शुरू हो गया था और कुछ लोगों ने हमसे संपर्क भी किया था लेकिन राष्ट्रीय नेतृत्व ने इशारा किया कि नहीं, हमें इस सरकार को काम करने देना चाहिए और प्रजातंत्र का सम्मान करना चाहिए। अभी सरकार कमलनाथजी की सरकार बदली तो इसमें भारतीय जनता पार्टी की कोई भूमिका नहीं है। कमलनाथजी की सरकार गिरना उसमें कमलनाथजी का अंहकार जिम्मेदार है और दिग्विजयिंसह की राजनैतिक चतुराई जिम्मेदार है।

श्री विजयवर्गीय ने कहा कि कमलनाथ सरकार ने किसानों से वचन पत्र में वादा किया था कि आपका कर्ज माफ कर दिया जायेगा और राहुल बाबा ने कहा था कि अगर हमारी सरकार बनने के 10 दिन के अंदर अगर कर्ज माफ नहीं हुआ तो हम मुख्यमंत्री बदल देंगे। उनकी सरकार भी बन गई और 15 माह बीत गये थे किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ और उसमें भी शर्ते लगा दी थी कि सीमित कर्ज माफ करेंगे और वह भी नहीं किया। महिलाओं से कहा था कि हम आपके हमारी सरकार बनने पर समूह ऋण माफ कर देंगे, वे भी नहीं किये। बेरोजगार युवाओं से कहा था कि हम आपकी नौकरी की व्यवस्था करेंगे और यदि नहीं कर सके तो आपको हर महिना 4 हजार रूपये बेरोजगारी भत्ता दिया जायेगा, वह भी बेरोजगारों को नहीं दिया गया। दुग्ध व्यापारियों को 5 रूपये प्रति लीटर बोनस देंगे वह भी नहीं दिया।

अन्य मुद्दों पर चर्चा करते हुए श्री विजयवर्गीय ने कहा कि देश में एक ऐतिहासिक निर्णय हुआ धारा 370 हटाना यह कोई चोरी छुपे नहीं हुआ है और जब ये लगाई गई थी उस समय डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने इसका विरोध किया था और देशभर के जनसंघ के कार्यकर्ताओं ने जम्मू कश्मीर की जेलों को भर दिया था। तब से लेकर आज तक धारा 370 को हटाने के लिये प्रयास किये जब जाकर ये धारा 370 हटी थी। आज एक नेता ये कह दिया कि मैं तिरंगे को हाथ नहीं लगाउंगी, उन्हीं की पार्टी के नेताओं ने विरोध किया और श्रीनगर की गलियों में घूमे। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में हत्याओं का दौर जारी है नवरात्रि में हमारे 5 कार्यकर्ताओं की हत्या की गई और दशहरे के दिन एक कार्यकर्ता की हत्या हुई जिसमें बंगाल सरकार ने कोर्ट के आदेश के बाद भी पोस्टमार्डन नहीं होने दिया, बंगाल सरकार के पास कोई संवेदना नहीं है, इसके लेकर बंगाल में आक्रोश व्याप्त है। इस दौरान वरिष्ठ भाजपा नेता बाबूसिंह रघुवंशी, गोविन्द मालू, उमेश शर्मा, आलोक दुबे और मुकेश जरिया उपस्थित थे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co