कमलनाथ
कमलनाथ|Priyanka Yadav - RE
मध्य प्रदेश

रासुका अपराधियों की मूवमेंट पर नाथ ने जताई कोरोना फैलने की आशंका

मध्यप्रदेश में रासुका के बंदियों को इन्दौर से सतना जिले में स्थानांतरित करने के निर्णय पर कमलनाथ ने आश्चर्य व्यक्त किया।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश में तेजी से फैल रहे कोरोना के प्रकोप ने हड़कंप मच हुआ है, वहीं दूसरी तरफ इन्दौर में कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए चुनौतीपूर्ण माहौल में अपनी ड्यूटी को अंजाम देते वक्त स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और पुलिसकर्मियों से कथित दुर्व्यवहार करने वालों को रासुका के तहत गिरफ्तार कर इन्दौर से जबलपुर और सतना की जेलों में भेजा गया था। इन में से कुछ बंदियों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद दहशत फैल गई है।

बता दें कि, लॉकडाउन के बावजूद रासुका के बंदियों को इन्दौर से सतना जिले में स्थानांतरित करने के निर्णय पर मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आश्चर्य व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि इससे तो संक्रमण अन्य जिलों में भी फैलेगा, इन बंदियों को इस इलाके में भेजने का लोग भी विरोध कर रहे हैं। क्योंकि इससे पहले सतना और रीवा जिले में अब तक संक्रमण का कोई मामला नहीं है।

कमलनाथ ने किया ट्वीट-

बड़ा ही आश्चर्यजनक है कि जब प्रदेश में लॉकडाउन है, कई जिलों में कर्फ़्यू है, कई जिलों की सीमाएं सील हैं, कोरोना के संक्रमण को देखते हुए आमजन को भी एक जिले से दूसरे जिले में जाने की इजाज़त नहीं है और ऐसे में इंदौर से रासुका के अपराधियों को सतना भेज दिया गया और वे कोरोना वायरस से संक्रमित निकले। इससे तो कोरोना वायरस का संक्रमण अन्य जिलों में भी फैलेगा।

क्या थी यह शर्मनाक घटना?

आपको बताते चलें कि मध्यप्रदेश के इंदौर में जारी लॉकडाउन के दौरान पुलिसकर्मी से मारपीट और पथराव का मामला सामने आया था। इंदौर में चन्दन नगर में ड्यूटी दे रहे, पुलिस जवान के साथ भीड़ ने मारपीट की और पत्थर बरसाए थे और इसके पहले भी टाट पट्टी बाखल इलाके में लोगों ने डाक्टरों की टीम पर हमला हुआ था। बता दें, कोरोना संक्रमितों की जांच करने ही स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची, इस दौरान लोगों ने उनपर पत्थर बरसाए, स्वास्थ्यकर्मी के साथ पत्थरबाजी जैसी घटना के चलते वे डॉक्टर जैसे-तैसे अपनी जान बचाकर भागे थे। इस मामले में टीम पर हमला मामले में आरोपियों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत केस दर्ज किया गया, दोषियों पर रासुका लगाकर उन्हें जेल भेज दिया गया था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co