कमलनाथ का बयान- मध्यप्रदेश में दिन-प्रतिदिन गहराता जा रहा है बिजली का संकट
कमलनाथ का बयानSocial Media

कमलनाथ का बयान- मध्यप्रदेश में दिन-प्रतिदिन गहराता जा रहा है बिजली का संकट

भोपाल, मध्यप्रदेश : कांग्रेस नेता कमलनाथ ने बयान देते हुए कहा- कोयले की कमी के कारण बिजली उत्पादन भी प्रभावित हो रहा है लेकिन सरकार सच्चाई स्वीकारने को तैयार नहीं है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। देश में बिजली संकट गहराता नजर आ रहा है, राज्यों में बिजली के संकट को देखते हुए बिजली में कटौती शुरू हो गई है जिससे लोगों को भारी परेशानी हो रही है, इस बीच बिजली संकट को लेकर कांग्रेस नेता कमलनाथ का बयान सामने आया है, कमलनाथ ने बयान देते हुए कही ये बात...

कमलनाथ का बयान-

आज कांग्रेस नेता कमलनाथ ने बयान देते हुए फिर MP सरकार पर करारा तंज कसा है, कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा- प्रदेश में दिन-प्रतिदिन बिजली का संकट गहराता जा रहा है, ग्रामीण क्षेत्रों में स्थिति भयावह होती जा रही है, शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में अघोषित बिजली कटौती जारी है, कोयले की कमी के कारण बिजली उत्पादन भी प्रभावित हो रहा है लेकिन सरकार सच्चाई स्वीकारने को तैयार नहीं है।

मध्यप्रदेश कांग्रेस ने ट्वीट कर लिखा -

प्रदेश में बिजली संकट-

कमलनाथ सरकार-

- 100 में 100 यूनिट बिजली

- बिजली बिलों में कमी

- अघोषित कटौती बंद

- 24 घंटे निर्बाध आपूर्ति

शिवराज सरकार-

- 2000 से 10000 तक बिल

- 4 से 10 घंटे की कटौती

- कोयला संकट बढ़ा

- अंधेरे में मध्यप्रदेश।

कोयला संकट से अघोषित बिजली कटौती- जब कोयला ख़रीदना था, विधायक ख़रीद रहे थे। हर तरफ़ छाया अंधकार, यही तो है बीजेपी सरकार।

एमपी कांग्रेस

कांग्रेस नेता कमलनाथ का आरोप-

कल ही पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट करते हुए कहा था- प्रदेश में कई-कई घंटे बिजली ग़ायब है, जिससे भीषण गर्मी के इस दौर में जनता परेशान हो रही है, पानी का भी संकट गहराता जा रहा है। वहीं कांग्रेस नेता कमलनाथ ने आरोप लगाया था कि सरकार द्वारा अभी भी झूठे आंकड़े पेश कर बिजली संकट, जल संकट और कोयले के संकट को नकारा जा रहा है। सरकार इस दिशा में तत्काल आवश्यक सभी कदम उठाकर जनता को राहत प्रदान करे, प्रदेश की जनता को कोयला संकट,बिजली की माँग व आपूर्ति एवं जलसंकट पर वास्तविकता व सच्चाई बताये।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.