किसानों को जल्द से जल्द बीमा कंपनी से मिलेगी राहत, कृषि मंत्री कमल पटेल का बयान
कृषि मंत्री कमल पटेल का बयानSyed Dabeer-RE

किसानों को जल्द से जल्द बीमा कंपनी से मिलेगी राहत, कृषि मंत्री कमल पटेल का बयान

भोपाल, मध्यप्रदेश। एमपी में किसानों की फसलों को हुए नुकसान को लेकर मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल (Kamal Patel) का सामने आया बड़ा बयान।

भोपाल, मध्यप्रदेश। प्रदेश के कई जिलों में लगातार हुई बारिश और ओलों ने किसानों की कमर तोड़ दी है। बारिश और ओलावृष्टि से किसानों की फसलों को हुए नुकसान को लेकर अब मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल का बड़ा बयान सामने आया है। मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल (Kamal Patel) ने कहा कि मौसम में परिवर्तन के कारण ओले गिरने के कारण किसानों कि फसल बर्बाद हुई है।

राज्य के करीब 500 स्थानों पर पिछले दिनों ओले गिरे हैं : कमल पटेल

मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि राज्य के करीब 500 स्थानों पर पिछले दिनों ओले गिरे हैं। फसलों का नुकसान हुआ है। सभी कलेक्टरों को निर्देश दिए गए है नुकसान का सर्वे करें। किसानों को इस नुकसान की 25 फीसदी राशि उन्हें फसल आने के पहले दिला दी जाएगी, ताकि उन्हें समय से राहत पहुंचाई जा सके।

मैं किसानों से निवेदन करता हूँ कि उन्हें घबराने की ज़रूरत नहीं है, सरकार किसानों के साथ खड़ी है।

कृषि मंत्री कमल पटेल

कृषि मंत्री कमल पटेल का ट्वीट- "प्रदेश में बेमौसम बरसात लगातार जारी है कल रात भी प्रदेश के कई जिलों में ओलावृष्टि से फसलों में नुकसान हुआ है। कई जगह खेतों में फसलें पूरी तरह चौपट हो गई हैं, हमने प्रदेश के सभी कलेक्टरों को निर्देशित किया है पीएम फ़सल बीमा योजना के तहत अधिसूचना जारी कर तत्काल सर्वे करवाएं"

वही कृषि मंत्री कमल पटेल ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि मैं कमलनाथ से पूछना चाहता हूँ कि आपकी 50 साल सरकार रही है। आज तक किसानों को क्यों नहीं बीमा दिया गया, हमने हज़ारों करोड़ रु बीमा किसानों को दिया और कमलनाथ कि सरकार में किसानों को एक रुपए का भी बीमा नहीं मिला। कृषि मंत्री कमल पटेल कहा कि मध्य प्रदेश में ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा मार्च से पहले किसानों को मिल जाएगा।

मध्य प्रदेश में ओलावृष्टि से फसलों को हुआ नुकसान

बताते चले कि ओलावृष्टि से कई जिलों में किसानों की फसलें बर्बाद हो गई हैं, इसमें उज्जैन, सागर, शिवपुरी, मंदसौर, छतरपुर, रतलाम, धार और निवाड़ी समेत कई जिले शामिल हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co