सिंधिया को घर में घेरने की रणनीति
सिंधिया को घर में घेरने की रणनीति|Raj Express
मध्य प्रदेश

कमलनाथ पहले शहर में घूंमेंगे फिर लक्ष्मीबाई की प्रतिमा पर करेंगे माल्यार्पण

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ग्वालियर आ रहे हैं वे शहर में रुककर सामाजिक संगठनों से चर्चा करने के साथ ही हर उस विधानसभा जहां उप चुनाव होना है वहां के दावेदारों से बात करेंगे।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। उप चुनाव को लेकर कांग्रेस ग्वालियर से शंखनाद करने जा रही है। 12 सितंबर को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ग्वालियर आ रहे है जो दो दिन तक शहर में रुककर सामाजिक संगठनों से चर्चा करने के साथ ही हर उस विधानसभा जहां उप चुनाव होना है वहां के दावेदारों से बात करेंगे। भाजपा ने जिस तरह से तीन दिन तक सदस्यता अभियान चलाया था उसका भी जवाब दिया जा सकता है और संभावना जताई जा रही है कि कमलनाथ के समक्ष कुछ नाराज भाजपा के लोग कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं।

कमलनाथ के क्षेत्र में जनता के बीच न जाने के आरोप भाजपा लगातार लगाती रही है उसका जवाब देने के लिए अब वह ग्वालियर की धरती से उप चुनाव का शंखनाद करने आ रहे हैं। 12 सितंबर को कमलनाथ दो दिन के लिए आ रहे हैं जिसको लेकर अंचलभर के कांग्रेसी जोरदार तैयारी कर रहे हैं। कांग्रेस सूत्र का कहना है कि 12 सितंबर को जब कमलनाथ एयरपोर्ट पर उतरेगें तो उनके साथ हजारों की संख्या में गाड़ियों का काफिला होगा जिससे यह संदेश देने की कोशिश करेगें कि सिंधिया के गढ़ में अब सेंध लग चुकी है। एयरपोर्ट से वाहनों के काफिले के साथ कमलनाथ पहले शहरभर में परिक्रमा लगाकर एक माहौल तैयार करने का प्रयास करेंगे उसके बाद लक्ष्मीबाई की प्रतिमा पर माल्र्यापण करेंगे। अब सामाजिक संगठन व दावेदारों से किस स्थान पर चर्चा करेंगे इसका लिए स्थान चिन्हित तो कर लिया गया है, लेकिन फायनल नहीं किया गया है।

सिंधिया को घर में घेरने की रणनीति :

कांग्रेस सरकार गिराने के बाद कांग्रेसी सिंधिया पर लगातार हमला कर रहे हैं और सिंधिया को उनके ही घर में घेरने की भी रणनीति बना ली है। यही कारण है कि ग्वालियर अंचल मेें बाहर से अभी तक कई कांग्रेसी आ चुके हैं और लगातार सिंधिया पर हमला कर चुके हैं। उप चुनाव के प्रचार प्रसार के लिए कमलनाथ भी ग्वालियर से शुरूआत करने 12 सितंबर को ग्वालियर आ रहे हैं और यहां आकर सिंधिया के हर सवाल का जवाब देने के साथ ही यह भी बताने की कोशिश करेगें कि अंचल में कांग्रेस सिंधिया के कारण नहीं बल्कि कांग्रेस के कारण सिंधिया की राजनीति चमक रही थी। यही कारण है कि कमलनाथ के आने पर उनके साथ हजारों की संख्या में वाहनों की संख्या होने एवं अंचलभर से लोगों को लाने की जिम्मेदारी कांग्रेसियो को दे दी गई है और वह इस काम में जुट भी गए है। 12 सितंबर को कमलनाथ दोपहर 12 बजे ग्वालियर आ जाएगे उसके बाद वह पहले सैकड़ा वाहनों के काफिले के साथ शहर में निकलेगें उसके बाद लक्ष्मीबाई की समाधि पर पहुंचकर माल्र्यापण करेंगे। शाम को विभिन्न सामाजिक संगठन के लोगों से चर्चा करेगें और रात्रि विश्राम करने के बाद 13 सितंबर को अंचल के उन विधानसभा क्षेत्रों के लोगों से अलग-अलग मिलेगें जहां उप चुनाव होना हैं। इस मुलाकात के दौरान कमलनाथ दावेदारो को लेकर फीडबैक लेने का काम कर फायनल तौर पर प्रत्याशियों का ऐलान जल्द कर देगें।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co