Raj Express
www.rajexpress.co
छात्रों की सदस्यता अभियान
छात्रों की सदस्यता अभियान|Social Media
मध्य प्रदेश

एबीवीपी और एनएसयूआई में सदस्यता अभियान और वर्चस्व की लड़ाई

कटनी, मध्य प्रदेश : छात्रों की सदस्यता अभियान को लेकर एबीवीपी परिषद के कार्यकर्ताओं ने एनएसयूआई का विरोध करते हुए उन्हें कॉलेज कैंपस से बाहर निकल जाने के लिए जोर बनाया।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश के कटनी जिले में छात्रों की सदस्यता अभियान को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और एनएसयूआई टकराव तब शुरू हुआ जब एनएसयूआई के छात्रों ने कटनी गर्ल्स कॉलेज में सदस्यता अभियान की शुरुआत की इस दौरान अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने एनएसयूआई का विरोध करते हुए उन्हें कॉलेज कैंपस से बाहर निकल जाने के लिए जोर बनाया हालात यह थे कि, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने कटनी कोतवाली में फोन करके मौके पर पुलिस बुला ली, पुलिस की समझाईश के बाद दोनों गुटों को अलग-अलग किया गया ।

लेकिन मामला यहां भी नहीं थमा दूसरे दिन फिर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के लोग सड़कों पर नजर आए, इस बार के सदस्यता अभियान का विरोध जोरों से देखने को मिला । खास बात यह है कि, एनएसयूआई के सदस्यों ने अनुमति लेने के बाद सदस्यता अभियान की शुरुआत की, एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने कॉलेज गेट के बाहर स्टाल लगा कर जैसी ही सदस्यता अभियान शुरू किया वैसे ही अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने विरोध करना शुरू किया।

वर्चस्व की लड़ाई
वर्चस्व की लड़ाई
Social Media

विरोध इस हद तक पहुंचा कि एबीवीपी के कार्यकर्ता सड़क जाम कर रोड पर बैठ गए, काफी देर बाद मौके पर पहुंचे सिटी एसपी ने समझाइश देकर जाम खुलवाया, इधर एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं के मुताबिक उन्होंने परमिशन लेने के बाद सदस्यता अभियान शुरू किया था ताकि, कॉलेज में पढ़ने वाली छात्राओं को हो रही परेशानियों को दूर किया जा सके। वहीं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की छात्राओं ने एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं पर आरोप लगाते हुए कहा है कि, यह महिला कॉलेज है लिहाजा यहां पुरुषों का प्रवेश वर्जित है खासतौर पर यहां 100 मीटर के दायरे में किसी भी पुरुष को किसी भी तरह के कार्यक्रम चलाने की अनुमति नहीं मिलती है ।

ऐसे में कॉलेज के प्रिंसिपल ने मनमानी कर एनएसयूआई के छात्रों को कैंपस गेट पर सदस्यता अभियान की परमिशन दी है, जो सिरे से गलत है जब तक प्रिंसिपल इस मामले पर हस्तक्षेप नहीं करेंगी यह लोग सड़क जाम कर इसी तरह से विरोध प्रदर्शन करते रहेंगे, यहां तो प्रदेश में सरकार बदली है तो कांग्रेस से संबंधित एनएसयूआई को मजबूत करने की कवायद भी शुरू हो गई है लेकिन भारतीय जनता पार्टी के अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद इतनी आसानी से एनएसयूआई को जमीन पर पैर जमाने नहीं देना चाहती। यह सिर्फ वर्चस्व की लड़ाई है जिसमें पिछले 2 दिन से तमाशा देखने को मिल रहा है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।