Raj Express
www.rajexpress.co
 ग्रीन बेल्ट की जमीन पर कॉलोनी निर्माण
ग्रीन बेल्ट की जमीन पर कॉलोनी निर्माण|Gaurav Jain
मध्य प्रदेश

खण्डवा: ग्रीन बेल्ट की जमीन पर कॉलोनी निर्माण

खण्डवा: जमीनों को कब्जे को लेकर कुछ अफसर सफेदपोश भू-माफियाओं का साथ देकर वारे-न्यारे करने में लगे हैं, वहीं कब्रिस्तान क्षेत्र से लगी ग्रीन बेल्ट की जमीन पर कॉलोनियों का निर्माण किया जा रहा है।

Gaurav Jain

राज एक्‍सप्रेस। शहर में कोने-कोने पर जमीनों को कब्जाने वाले भू-माफिया अब अपने रिश्तेदारों के नाम पर भी अवैध रूप से कॉलोनी निर्माण करने में लगे हैं। हैरान कर देने वाली बात है कि, कुछ अफसर भी इस काम में इन सफेदपोश भू-माफियाओं का साथ देकर वारे-न्यारे करने में लगे हैं। शहर के लोहारी नाका कब्रिस्तान क्षेत्र से लगी ग्रीन बेल्ट की जमीन पर एक कॉलोनी को विकसित कर दिया गया। इसके लिए बाकायदा पहले अखबारों में विज्ञापन भी जारी किए गए थे और फिर वहां पर बगैर किसी पूर्णता प्रमाण-पत्र के प्लॉट बेचने की तैयारी भी शुरू कर दी गई है। इस आशय की एक शिकायत पुलिस अधीक्षक कार्यालय में की गई थी, लेकिन कोतवाली पुलिस के द्वारा डेढ़ महीने बाद भी कोई कार्रवाही नहीं की है।

पुलिस अधीक्षक कार्यालय में की गई शिकायत के मुताबिक सिहोर जिले के आष्टा निवासी अंकुर माहेश्वरी पिता अनंतलाल माहेश्वरी ने खण्डवा तहसील व जिला खण्डवा स्थित कृषि भूमि जो कि मास्टर प्लान के अंतर्गत ग्रीन बेल्ट के लिए आरक्षति की गई है। इस भूमि में हरे-भरे वृक्ष होकर शहर खण्डवा के पर्यावरण संरक्षण के उद्देश्य से इसे ग्रीन बेल्ट के लिए आरक्षित किया है। समस्त तथ्यों को ध्यान में होने के बावजूद भी अंकुर माहेश्वरी ने भूमि पर कॉलोनी निर्माण के प्रयोजन से अवैध रूप से भूमि में वृक्षों की कटिंग करके कॉलोनी का निर्माण शुरू कर दिया है। कॉलोनी का निर्माण भी बिना किसी अनुमति के और बाउंड्रीवॉल, पुलिया, ड्रेनेज सड़क इत्यादि का निर्माण भी किया गया।

नगर-निगम ने कहा-एफआईआर हो :

नगर-निगम कमिश्नर खण्डवा द्वारा दिनांक 30 जुलाई 2019 को सिटी कोतवाली के थाना प्रभारी के नाम से एक आवेदन दिया गया है जिसमें कहा गया है कि अवैध कॉलोनाइजर्स अंकुर पिता अनंतलाल माहेश्वरी निवासी आष्टा जिला सिहोर के विरूद्ध 1956 की धारा 292-ग 2 3 के तहत प्राथमिकी दर्ज की जावे। पुलिस को दिए आवेदन में बताया गया है कि अम्बेडकर वार्ड में गोविंद नगर के पीछे नगर निगम खण्डवा क्षेत्र में खण्डवा तरफ मानकर की खसरा क्रमांक 217 के 10 एकड़ रकबे में ग्रीन बेल्ट की भूमि पर बिना अनुमति के अवैध कॉलोनी का निर्माण कराया जा रहा है। साथ ही पुलिया का निर्माण कर भूमि को दो खंडों में विभाजित कर नाले का प्रवाह भी अवरूद्ध कर दिया गया है। पुलिस ने इस मामले में आवेदन के डेढ़ महीने बाद भी एफआईआर दर्ज नहीं की है।

मैं बाहर हूं, नागोरी से बात कर लो-अंकुर माहेश्वरी :

इस संबंध में आष्टा निवासी कॉलोनाइजर अंकुर माहेश्वरी से जब मोबाइल फोन पर सम्पर्क किया गया तो उन्होने कहा कि, मैं बाहर हूं आप मेरे रिलेटिव आनंद नागोरी से चर्चा कर लो। कई बार अंकुर से संपर्क करने पर उनके खिलाफ लगे आरोपों के संबंध में वे कुछ जवाब नहीं दे पाए। इस संबंध में आनंद नागोरी से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा मुझे कोई जानकारी नहीं है और अंकुर माहेश्वरी ने खण्डवा में क्या किया है उसकी भी जानकारी नहीं है। कुल मिलाकर अवैध कारोबार के इन आरोपियों ने पूरे मामले से बचने की कोशिश की।

इनका कहना:

खण्डवा के कमिश्नर ननि हिमांशु सिंह का कहना है कि, आम्बेडकर वार्ड में अंकुर माहेश्वरी निवासी आष्टा द्वारा ग्रीन बेल्ट पर अवैध कॉलोनी विकसित की जा रही है, इस मामले में शिकायत मिली थी। पुलिस थाना कोतवाली में आवेदन दिया है।आवश्यक दस्तावेज प्रस्तुत कर थाने में अविलम्ब एफआईआर कराई जावेगी। वहीं खण्डवा के थाना प्रभारी कोतवाली बीएल मण्डलोई ने कहा कि, पुलिस अधीक्षक कार्यालय से एक आवेदन जांच हेतु आया था उसकी जांच की जा रही है। नगर निगम से कुछ आवश्यक दस्तावेज मंगाए गए हैं। उक्त डाक्यूमेंट मिलते ही संबंधित कॉलोनाइजर पर एफआईआर की जावेगी।