धनकुबेर के.पी. तिवारी की नागपुर में भी करोड़ों की प्रापर्टी
धनकुबेर के.पी. तिवारी की नागपुर में भी करोड़ों की प्रापर्टी|Social Media
मध्य प्रदेश

धनकुबेर ईई के.पी. तिवारी की नागपुर में भी करोड़ों की प्रापर्टी

जबलपुर, मध्य प्रदेश। 5 सितम्बर 2018 में की गई कार्यवाही के बाद मंगलवार को न्यायालय से कोदूप्रसाद तिवारी की संपत्ति को कुर्क करने के आदेश दिए गए, संपत्ति कुर्की आदेश के बाद बढ़ती जा रही अवैध संपत्ति।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

जबलपुर, मध्य प्रदेश। सिवनी जिले में जलसंसाधन विभाग से सेवानिवृत हुए कार्यपालन यंत्री (ईई) कोदूप्रसाद तिवारी की चल-अचल संपत्ति को कुर्क करने के आदेश माननीय न्यायालय द्वारा दिए गए। इसके बाद राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो (ईओडब्ल्यू) की टीम ने कार्यवाही शुरु कर दी। कार्यवाही के दौरान ही यह जानकारी लगी कि कोदूप्रसाद तिवारी की नागपुर में भी करोड़ों रुपए की प्रापर्टी है। जिसका वर्ष 2018 में मारे गए छापे में पता नहीं चल सका। अब ईओडब्ल्यू की टीम नागपुर जाने की तैयारी कर रही है (जहां पर कोदूप्रसाद की संपत्ति का ब्यौरा एकत्र किया जाएगा)।

बताया जाता है कि जलसंसाधन विभाग में कार्यपालन यंत्री के पद पर रहते हुए कोदूप्रसाद तिवारी ने आय से अधिक संपत्ति एकत्र की, जिसकी शिकायत मिलने पर ईओडब्ल्यू की टीम ने जांच करते हुए छापा मारा, जिसमें करोड़ों रुपए की चल अचल संपत्ति का खुलासा हुआ। 5 सितम्बर वर्ष 2018 में की गई कार्यवाही के बाद मंगलवार को न्यायालय से कोदूप्रसाद तिवारी की संपत्ति को कुर्क करने के आदेश दिए गए, इसके बाद ईओडब्ल्यू की टीम सक्रिय हो गई और सतना, कटनी स्थित पेट्रोल पम्प को सील कर दिया गया।

जबलपुर नगर निगम, विकास प्राधिकरण, कलेक्टर व रजिस्ट्रार को संबंधित प्रकरण में जानकारी देते हुए लिखा गया है कि केपी तिवारी व उनके परिवार से संबंधित का क्रय विक्रय न किया जाए। ईओडब्ल्यू की टीम को इलाहाबाद बैंक स्थित लॉकर का पता चला, जब टीम लॉकर खोलने पहुंची। इसके अलावा अधिकारियों को यह भी जानकारी लगी कि कोदूप्रसाद तिवारी की नागपुर में भी करोड़ों रुपए की संपत्ति के बारे में भी पता चला है, ईओडब्ल्यू की टीम जल्द ही नागपुर जाएगी। गौरतलब है कि कोदूप्रसाद तिवारी वर्ष 2014 में सेवानिवृत हुए थे, इसके पहले भी उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामले में जांच हुई थी।

छापे में मिली संपत्ति :

गौरतलब है कि ईओडब्ल्यू द्वारा शिकायत के बाद वर्ष 2018 में दी गई दबिश में जबलपुर में एक बंगला, सतना में दो मकान, भोपाल व जबलपुर में फ्लैट, पैतृक गांव बराकला में आलीशान मकान, 15 लाख रुपए नगद, सोने की सिल्लियां, सोने व चांदी के जेवर, सतना में पेट्रोल पम्प, सतना में प्लाट, 120 एकड़ जमीन, 18 बैंक खाते, 4 बैंकों में लॉकर, एक टाटा सफारी, एक क्रेटा, टेंकर, ट्रेक्टर, सहित अन्य सामान मिला था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co