सिंगरौली: पत्ता संग्रह में मौसम की बाधा, लगातार बंद रही खरीदी
सिंगरौली: पत्ता संग्रह में मौसम की बाधा, लगातार बंद रही खरीदीPrem N Gupta

सिंगरौली: पत्ता संग्रह में मौसम की बाधा, लगातार बंद रही खरीदी

जिले में 15 व 16 मई को दो दिन ही पत्ते की खरीद की गई पर इसके बाद से मौसम खराब होने के कारण खरीद रूक गई और श्रमिक काम नहीं मिलने की चिंता में हैं।

सिंगरौली। जिले में वन विभाग ने 15 मई से तेंदूपत्ता की खरीद शुरू कर दी। इससे जिले में बड़ी संख्या में श्रमिकों को रोजगार का सहारा मिल गया है। वन विभाग ने निर्धारित समय निकलने के बाद 15 मई से तेंदूपत्ते की खरीद तो शुरू कर दी मगर अब इसमें मौसम बाधा बन गया। जिले में लगातार वर्षा के कारण गुरुवार को पांचवें दिन भी खरीद बंद रही। इससे श्रमिकों को चिंता सताने लगी है। जिले में 15 व 16 मई को दो दिन ही पत्ते की खरीद की गई पर इसके बाद से मौसम खराब होने के कारण खरीद रूक गई और श्रमिक काम नहीं मिलने की चिंता में हैं।

वन विभाग इस वर्ष जिले में एक लाख 70 हजार मानक बोरा तेंदूपत्ता की शासन के लिए खरीद करेगा। पिछले वर्ष भी जिले से इतनी ही संख्या में पत्ता की खरीद की गई थी। इस प्रकार जिले में इस वर्ष खरीद का कोटा पूर्ववत ही रहेगा।

बताया गया कि शासन के निर्देश पर वन विभाग ने जिले में 15 मई से ग्राम समितियों के मार्फ़त तेंदूपत्ता की खरीद की प्रक्रिया शुरू कर दी। हालांकि पूर्व में 10 मई से खरीद किया जाना तय किया गया था मगर मौसम अनुकूल नहीं होने तथा पत्ते की उपलब्धता कम होने के अनुमान के आधार पर इसे रोक दिया गया। इस प्रकार पूर्व में तय तिथि से पांच दिन बाद अब 15 मई से पत्ते की खरीद शुरू की गई है। यह सूचना मिलने के।बाद से ही श्रमिक परिवारों ने जंगल का रुख अपना लिया और अब अधिकतर समय सुनसान रहने वाले जंगल में पत्ता श्रमिक व उनके परिवार के लोगों की मौजूदगी के कारण चहल-पहल बढ़ गई है।

इस बीच बताया गया कि, 'शुरुआत के पहले दो दिन में जिले के सभी 75 संग्रह केन्द्रों पर पत्ते की आवक शुरू हो गई है। हालांकि खरीद की शुरुआत के दौरान जिले में वर्षा व तूफान के कारण इसमें बाधा भी सामने आ रही है। वर्षा व तूफान से पत्ता जमीन पर गिर जाने से उसकी गुणवत्ता प्रभावित होती है। इसलिए श्रमिक वर्षा के बाद कम संख्या में इसका संग्रह कर पाते हैं तथा केन्द्रों पर पत्ते को सुखाए जाने में भी परेशानी रहती है। इस प्रकार पत्ता संग्रह के दौरान मौसम बिगड़ने से श्रमिक व पत्ता संग्रह समितियां दोनों को बाधा से जूझना पड़ता है।'

यहां जिले में भी खरीद शुरू होने के दिन से ही मौसम श्रमिकों का साथ नहीं दे रहा। इसका नतीजा है कि सोमवार को तीसरे दिन से ही जिले में पत्ते की खरीद रोक देनी पड़ गई और दो दिन काम करने के बाद तीसरे दिन से सभी श्रमिकों को काम बंद रखना पड़ा। वन विभाग के अधिकारी सूत्रों ने बताया कि रविवार को जिले में सभी जगह वर्षा व तूफान के कारण सोमवार को सभी संग्रह केन्द्रों पर खरीद रोकनी पड़ी। अब मौसम साफ रहने के आगामी दिन से फिर खरीद की जाएगी।

अधिकारी सूत्रों ने बताया कि, 'वर्षा के कारण पत्ता गीला हो जाने से उसे सूखने में सामान्य से अधिक समय चाहिए। इसलिए मौसम बिगड़ने के बाद कई बार खरीद कुछ समय के लिए रोकी जाती है। अब माना जा रहा है कि रविवार या सोमवार से फिर संग्रह केन्द्रों पर तेंदूपत्ता की खरीद होगी। इस दौरान मौसम सामान्य नहीं रहता तो श्रमिकों को इससे अधिक समय तक विभाग की हरी झंडी का इंतजार करना पड़ सकता है। बताया गया कि तय व्यवस्था के अनुसार पत्ते की खरीद 30 मई तक ही होगी।'

वन विभाग इस वर्ष जिले से एक लाख 70 हजार मानक बोरा पत्ते की खरीद करेगा। इसके लिए विभाग ने 75 तेंदूपत्ता संग्रह समितियों को अधिकृत किया है। इन समितियों के स्तर पर जिले की माडा व चितरंगी तहसील में ही अधिकतर संग्रह केंद्र स्थापित किए गए हैं। जिले में इन दोनों तहसीलों के जंगल से ही लगभग समूचा तेंदूपत्ता संग्रह होता है। वैसे खरीद शुरू होने से इससे जुदे श्रमिक वर्ग को राहत अवश्य मिली है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co