Madhya Pradesh : सप्ताह में सातों दिन खुलेंगे कोविड वैक्सीनेशन केंद्र
सप्ताह में सातों दिन खुलेंगे कोविड वैक्सीनेशन केंद्रसांकेतिक चित्र

Madhya Pradesh : सप्ताह में सातों दिन खुलेंगे कोविड वैक्सीनेशन केंद्र

प्रदेश के शत-प्रतिशत लक्षित व्यक्तियों को दिसंबर माह अंत तक कोविड-19 वैक्सीन की दोनों डोज लगाने के लिए रणनीति बनाई गई है। सप्ताह के सातों दिन कोविड-19 टीकाकरण केंद्र पर टीकाकरण किया जा रहा है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। प्रदेश के शत-प्रतिशत लक्षित व्यक्तियों को दिसंबर माह अंत तक कोविड-19 वैक्सीन की दोनों डोज लगाने के लिए रणनीति बनाई गई है। सप्ताह के सातों दिन कोविड-19 टीकाकरण केंद्र पर टीकाकरण किया जा रहा है। कोविड टीकाकरण महा-अभियान 10, 17, 24 नवंबर और 04 दिसम्बर को संचालित किया जाएगा। कोरोना वैक्सीन से शेष रहे लोगों और दूसरी डोज से शेष रहे लोगों को चिन्हित कर उन्हें टीकाकरण केंद्र तक पहुंचाने और उनका टीकाकरण सुनिश्चित कराने के लिये सभी विभागों के अधिकारी-कर्मचारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। प्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए किए गए नवाचारों को देखते हुए शत-प्रतिशत व्यक्तियों का टीकाकरण करवाने में कारगर नवाचार और रणनीति को अपनाने के लिए भी कहा गया।

तैयार की गई रणनीति में सभी विभागों के अधिकारी-कर्मचारियों से कहा गया है कि कोविड-19 टीकाकरण के लिए व्यवस्थित ढंग से ऐसे प्रयास करें, जिससे टीका लगवाने से कोई भी व्यक्ति वंचित नहीं रहे। इसके लिए ऐसे लोगों को चिन्हित कर उनकी सूची तैयार की जाए, जिन्होंने एक भी टीका नहीं लगवाया है। इसके बाद एक टीका लगवा चुके व्यक्तियों की सूची बनाई जाए। कोविड टीके की दोनों डोज लगवाने वाले व्यक्तियों की भी सूची बनाई जाये। सभी व्यक्तियों को चिन्हित करने के लिए निवास स्थान छोड़ चुके अथवा अपने निवास स्थान से अन्य स्थान के लिए पलायन करने वाले परिवारों की सूची भी बनाई जाए। कोविड-19 टीकाकरण का प्रतिरोध करने वाले परिवारों को चिन्हित कर उनकी भी सूची तैयार की जाएगी।

परिवारों का चिन्हांकन कर टीकाकरण करवाने में आशा कार्यकर्ता, सहायिका, स्व-सहायता समूह, ग्राम पंचायत के सचिव, रोजगार सहायक, कोटवार, पटवारी, शिक्षक, शासकीय उचित मूल्य दुकानों के सेल्समेन, मनरेगा के मजदूर, सहकारिता संस्थाओं के सदस्य, वन-रक्षक समिति के सदस्य और उनके परिवार को दायित्व सौंपा गया है। यह सभी विभागवार योजना बनाकर शत-प्रतिशत व्यक्तियों को पहला और दूसरा डोज लगवाना सुनिश्चित करेंगे।

सभी विभागों के मैदानी अमले को दी गई जिम्मेदारी :

पात्र व्यक्तियों को शत-प्रतिशत वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने के लिए विभागवार दायित्व दिए गए हैं। स्कूल और महाविद्यालय के विद्यार्थियों को उनके परिवार को वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाने के लिए जागरूक और प्रेरित करने का दायित्व दिया गया है। गर्भवती महिलाओं और धात्री माताओं का टीकाकरण करवाने का कार्य महिला-बाल विकास विभाग की आंगनबाड़ी और आशा कार्यकर्ता करेंगी। राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना और ग्रामीण आजीविका मिशन के स्व-सहायता समूह द्वारा श्रमिकों और उनके परिवारों का टीकाकरण सुनिश्चित किया जाएगा। सुदूर वन क्षेत्र में रहने वाले व्यक्तियों का वन-रक्षक और वन समितियों द्वारा टीकाकरण करवाना सुनिश्चित किया जाएगा। परिवहन विभाग बस-स्टॉप और वाहनों के माध्यम से टीकाकरण संबंधी जन-जागरूकता बढ़ाने में सहयोग करेगा। एनसीसी और स्काउट गाइड के छात्र-छात्राएं वैक्सीनेशन का प्रतिरोध करने वाले परिवारों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करेंगे।

टीकाकरण को प्रोत्साहित करने वाले सफलतम प्रयास :

टीकाकरण की रणनीति में टीकाकरण के लिए प्रेरित करने वाले सफलतम प्रयासों को रेखांकित किया गया है। एक स्थान पर हुए ऐसे प्रयासों को अन्य स्थानों पर अपनाने के लिए भी कहा गया है। इन सफलतम प्रयासों में आगर जिले में कृषि मण्डी पर वैक्सीनेशन केंद्र की स्थापना, जिन व्यक्तियों का टीकाकरण होना बाकी है, उनकी सूची स्व-सहायता समूह आदि के सहयोग से ग्राम पंचायत में लगाना, भोपाल जिले में दुकानदारों और उनके कर्मचारियों द्वारा ग्रामीण क्षेत्र के बाजार में विशेष ग्रामसभा कर दूसरी डोज लगवाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिये फुली वैक्सीनेटेड मॉर्केट डिक्लेयर करने जैसे नवाचार शामिल हैं। इसी प्रकार दतिया जिले में शिक्षकों द्वारा वैक्सीनेशन के लिए टेलीफोन से संपर्क, डिंडोरी में धान के खेतों पर टीकाकरण केंद्र बनाना, हरदा में महाविद्यालय के विद्यार्थियों को मैं कोरोना वालेंटियर हूं के रूप में नामांकित किया जाना, टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित करने सार्थक लाइट एप, झाबुआ में साथिया शीर्षक से विशेष ग्रुप बनाकर उसके माध्यम से टीकाकरण के लिए लोगों को प्रेरित करने जैसे नवाचार भी अपनाने को कहा गया है।

कलेक्टर प्रतिदिन करेंगे समीक्षा :

शत-प्रतिशत व्यक्तियों के कोविड-19 टीकाकरण की प्रगति की कलेक्टर्स प्रतिदिन समीक्षा करेंगे। ऐसे स्थान, जहां कम टीकाकरण हुआ है, वहां का संबंधित जिला कलेक्टर, जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी भ्रमण कर आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करेंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co