भोपाल : आधी सीटों पर कांग्रेस ने नए चेहरों पर लगाया दांव

भोपाल, मध्य प्रदेश : उपचुनाव - कांग्रेस ने 14 सीटों पर ऐसे प्रत्याशी जो पहली बार लड़ रहे हैं विधानसभा का चुनाव।
भोपाल : आधी सीटों पर कांग्रेस ने नए चेहरों पर लगाया दांव
आधी सीटों पर कांग्रेस ने नए चेहरों पर लगाया दांवSyed Dabeer Hussain - RE

भोपाल, मध्य प्रदेश। बहुमत के लिए संघर्ष करते भाजपा और कांग्रेस के लिए उपचुनाव प्रतिष्ठा का सवाल बना हुआ है। खासकर कांग्रेस की बात करें तो इस पार्टी द्वारा आधी सीटों पर ऐसे उम्मीदवारों पर दांव आजमाया जा रहा है, जो पहली बार विधानसभा का चुनाव लड़ रहे हैं।

मध्यप्रदेश में 28 सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव में भाजपा ने जहां दल बदल कर आए 25 सीटों पर कांग्रेस के पूर्व विधायकों को टिकट दिया है। वहीं कांग्रेस ने आधी सीटों पर नए चेहरों पर दांव आजमाया है। 14 सीटें ऐसी हैं जहां कांग्रेस उम्मीदवारों का पहला चुनाव होगा। यह ऐसे उम्मीदवार हैं जिनमें कोई मंडी अध्यक्ष रहा है तो फिर किसी ने जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जीता है। कोई ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष रहा तो किसी ने जिले के अध्यक्ष की कमान संभाली है। इनमें से अभी तक विधानसभा का चुनाव किसी ने नहीं लड़ा है।

कारण साफ है कि पार्टी की ओर से इन सीटों पर जमीनी कार्यकर्ताओं को तवज्जो दी गई है। बदनावर में 65 साल के कमल सिंह पटेल अपना पहला चुनाव लड़ रहे हैं। तीन बार के विधायक राजवर्धन सिंह दत्तीगांव से उनका सीधा मुकाबला है। गुजराती राजपूत कहे जाने वाले कमल सिंह पटेल 13 साल तक ब्लॉक कांग्रेस के अध्यक्ष रहे हैं। यहां बता दें कि कमल सिंह लंबे समय तक यहां राज्यवर्धन के लिए काम करते रहे हैं। सांची में मंत्री और भाजपा उम्मीदवार प्रभुराम चौधरी का मुकाबला कांग्रेस के नए चेहरे मदनलाल चौधरी से होने जा रहा है। चौधरी मंडी अध्यक्ष के अलावा जिला पंचायत सदस्य रहे हैं, लेकिन विधानसभा की रणभूमि में उनका यह पहला अनुभव होगा। हाटपिपलिया में भी पूर्व विधायक राजेंद्र सिंह के बेटे राजवीर सिंह बघेल कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में भाजपा के मनोज चौधरी के सामने पहली बार चुनावी मैदान में हैं। सुवासरा सीट पर भाजपा उम्मीदवार हरदीप सिंह डंग को कड़ी टक्कर देने के लिए कांग्रेस ने युवा राकेश पाटीदार को टिकट दिया है। सामाजिक और पिछड़े वोटरों का गणित लगाते हुए कांग्रेस ने हरदीप सिंह डंग के सामने राकेश को टिकट देकर मुकाबले को रोचक बनाने की कोशिश की है। राकेश पाटीदार स्थानीय स्तर पर ही लंबे समय से पार्टी का काम करते रहे हैं।

पार्टी के सर्वे में नए चेहरे ही उतरे हैं खरे :

जानकारों की मानें तो कांग्रेस द्वारा कराए गए सर्वे में इन 14 सीटों पर नए चेहरे ही खरे उतरे हैं। जोरा में पंकज उपाध्याय पहला चुनाव लड़ रहे हैं। मुरैना में जिस राकेश मावई को टिकट दिया है, उनका भी है पहला चुनाव है। यहां पर राकेश का मुकाबला भाजपा के रघुराज सिंह कंसाना से हो रहा है। इसी प्रकार ग्वालियर में भाजपा के मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर से कांग्रेसी के सुनील शर्मा का पहली बार मुकाबला होने जा रहा है। अशोकनगर में पूर्व विधायक और भाजपा उम्मीदवार जजपाल सिंह जज्जी से कांग्रेस की आशा दोहरे पहली बार चुनाव मैदान में मुकाबला करेंगी। अनूपपुर में भाजपा उम्मीदवार बिसाहूलाल सिंह का मुकाबला भी कांग्रेस के नए उम्मीदवार और पहली बार चुनाव लड़ रहे विश्वनाथ सिंह कुंजाम से हो रहा है। मांधाता और नेपानगर जैसी सीट पर भी कांग्रेस ने जमीनी कार्यकर्ता को तवज्जो देते हुए उन्हें पहली बार चुनाव मैदान में उतारा है।

राज्य की बड़ा मलहरा सीट इस समय चर्चाओं में :

कांग्रेस ने बड़ा मलहरा सीट पर सभी कयासों पर विराम देते हुए युवा साध्वी राम सिया भारती को मैदान में उतारकर सभी को चौंका दिया। पहले माना यह जा रहा था कि इस सीट पर भी कांग्रेस किसी स्थानीय जमीनी कार्यकर्ता को जातिगत समीकरण के हिसाब से टिकट देगी, लेकिन ऐन वक्त पर रामसिया को टिकट मिलने से विरोध के स्वर उभरे थे। कार्यकर्ताओं की पीड़ा यह थी कि जिसने कभी पार्टी का काम ही नहीं किया उसे आखिर कैसे चुनाव मैदान में उतार दिया गया। हालांकि अब कांग्रेस का दावा है कि क्षेत्र में कोई विरोध नहीं है। भाजपा की तरह बूथ लेवल से लेकर पन्ना प्रभारी यहां नियुक्त कर दिए गए हैं, जो पूरी ताकत से काम कर रहे हैं। प्रवचनकर्ता रामसिया भी पहली बार चुनाव लड़ रही हैं। उनका मुकाबला भाजपा उम्मीदवार प्रद्युम्न सिंह लोधी से होने जा रहा है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co