सीहोर में आयोजित सामूहिक विवाह समारोह में बोले सीएम- 'हमारी सरकार सबसे पहले गरीबों के लिए है'
सीहोर में आयोजित समारोह में बोले सीएमSocial Media

सीहोर में आयोजित सामूहिक विवाह समारोह में बोले सीएम- 'हमारी सरकार सबसे पहले गरीबों के लिए है'

सीहोर, मध्यप्रदेश : सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सामूहिक विवाह समारोह का शुभारंभ कन्या पूजन एवं दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस दौरान सीएम शिवराज ने कही ये बातें...

सीहोर, मध्यप्रदेश। आज मध्यप्रदेश के सीहोर जिले के नसरूल्लागंज में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना अंतर्गत सामूहिक विवाह समारोह आयोजित किया गया, यहां पहुंचकर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सामूहिक विवाह समारोह का शुभारंभ कन्या पूजन एवं दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने सामूहिक विवाह समारोह में दूल्हों पर पुष्प वर्षा कर उनका आत्मीय स्वागत किया है।।

सीहोर में आयोजित मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के अंतर्गत आयोजित सामूहिक विवाह समारोह

मेरे बेटे-बेटियों, यह कार्यक्रम मैं दिल से, अंतरात्मा से करता हूं : CM

इस समारोह में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि, मेरे बेटे-बेटियों, यह कार्यक्रम मैं दिल से, अंतरात्मा से करता हूं ताकि शादी ब्याह किसी को बोझ ना लगे। मेरी बेटियों, सदैव खुश रहो। बाबुल की दुआएं लेती जा, तुझको सुखी संसार मिले, मायके की कभी न याद आये, ससुराल में इतना प्यार मिले, यही शुभकामनाएं और आशीर्वाद देता हूं।

हमारी सरकार सबसे पहले गरीबों के लिए है, गरीब और जनजातीय भाई-बहनों का कल्याण हमारी प्राथमिकता है।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

आगे सीएम शिवराज ने कहा कि, एक बात मैं बड़े गर्व से कहता हूं कि मेरी सरकार एक नहीं, अनकों योजनाएं गरीबों के कल्याण के लिए चला रही है। मैंने तय किया है कि बेटियों की शादी में 55 हजार रुपए खर्च करेंगे। शादी में गृहस्थी का पूरा सामान दे रहे हैं। साथ ही 11 हजार रुपए का चेक भी दे रहे है।

  • भारतीय जनता पार्टी की सरकार अनेक योजनाएं चला रही है, जिससे समाज के अनेक वर्गों का कल्याण हो रहा है, अब 55 हजार रुपये बेटियों के विवाह पर खर्च करने का हमने फैसला किया है।

  • मेरे बच्चों तुम्हारा मेडिकल, इंजीनयरिंग, आईआईएम जैसी उच्च शिक्षा के लिए कॉलेज में एडमिशन मिलने पर तुम्हारी फीस तुम्हारे माता-पिता नहीं, तुम्हारा मामा शिवराज भरवायेगा।

  • जनजातीय समाज के कल्याण के लिए हमने पेसा एक्ट लागू करने का फैसला किया है। सामुदायिक वन प्रबंधन का अधिकार जनजातीय भाई और बहनों को दे रहे हैं। मामा की सरकार आपकी भलाई और कल्याण के लिए है। इसके लिए कोई कसर न पहले छोड़ी है और न ही आगे छोड़ेंगे

  • वनों में रहने वाले आदिवासी भाई और बहन एवं वन समिति व ग्राम समिति के लोग जितनी भी इमारती लकड़ी कटेगी उसकी 20 प्रतिशत राशि आपको मिलेगी। तेंदूपत्ता की तुड़ाई में 250 रुपए से बढ़ाकर 300 रुपए प्रति सौ गड्डी करने का फैसला हमने किया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co