Raj Express
www.rajexpress.co
पुलिस को गुमराह करने का मामला
पुलिस को गुमराह करने का मामला| Santosh Shivhare
मध्य प्रदेश

छतरपुर: नाबालिग छात्र की हत्या और पुलिस को गुमराह करने का मामला

छतरपुर, मध्यप्रदेश : टीकमगढ़ जिले के कुड़ीला थाना अंतर्गत ग्राम महूबिया में नाबालिग प्रेमी को मौत के घाट उतार दिया गया।

Santosh Shivhare

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश के छतरपुर टीकमगढ़ जिले के कुड़ीला थाना अंतर्गत ग्राम महूबिया का नाबालिग लड़का छतरपुर में हायर सेकेण्डरी स्कूल क्रमांक 2 में कक्षा 11वीं में अध्ययनरत था। वह गांव में ही पड़ोस में रहने वाली लड़की से प्रेम करता था। लड़की टीकमगढ़ में पढ़ती थी, शायद इन दो नाबालिग प्रेमियों का प्रेम बेटी के परिजनों को नहीं सुहाता रहा इसलिए मौका पाकर नाबालिग प्रेमी को मौत के घाट उतार दिया और अपनी नाबालिग बेटी को डाई पीने का बहाना बनाकर अस्पताल में भर्ती कर दिया।

लड़के के पिता ने बेटी के परिजनों पर हत्या का आरोप लगाया है। उधर पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू की है। कुड़ीला थाना के महूबिया निवासी तुलसीदास राजपूत ने बताया कि उसका बेटा पवन छतरपुर के हायर सेकेण्डरी स्कूल क्रमांक 2 में कक्षा 11 का छात्र था। नया मोहल्ला सुल्तानिया कॉलोनी में रहकर पढ़ाई करता था। दोपहर 2 बजे बेटे की मौत की खबर मिलने पर वे छतरपुर आए। उनके मुताबिक गांव के ही दयाराम, नत्थू, प्रभु, नंदकिशोर राजपूत ने उनके बेटे की हत्या कर दी है।

छतरपुर में हत्या कहां हुई यह अभी खुलासा नहीं हुआ है फिलहाल उनकी सूचना पर पुलिस ने सक्रियता दिखाते हुए पूछताछ शुरू की है। उधर हत्यारोपियों ने लड़की के मुंह पर डाई लगाकर उसे सिखा दिया कि, डॉक्टर को बताए कि डाई पीने से उसकी तबियत बिगड़ गई है, जिससे वह भर्ती होना चाहती है, लेकिन जब ड्यूटी डॉ. विवेकानंद तिवारी ने लड़की की जांच की तो वह पूरी तरह से स्वस्थ थी। हत्यारोपियों ने ही यह कहानी तैयार की थी। मृतक के भाई जाहर राजपूत का आरोप है कि हत्यारोपी आपराधिक प्रवृत्ति के व्यक्ति हैं।

यह है घटना

सूत्र बताते हैं कि पवन का गांव की ही एक 13 साल की लड़की से प्रेम प्रसंग चल रहा था। लड़की टीकमगढ़ में पढ़ती थी। पवन ने उसे छतरपुर बुलाया था। पवन के दोस्त धर्मेन्द्र अनुरागी ने बताया कि पवन लड़की के साथ शुक्रवार सुबह 7 बजे उसके कमरे पर आया और सभी ने एक साथ समोसे खाए इसके बाद वह अपने काम पर निकल गया। दोपहर में लौटने के बाद ज्ञात हुआ कि पवन की मौत हो गई है। पवन के मकान मालिक का कहना है कि पवन रात करीब दो बजे तक कमरे में ही देखा गया इसलिए वह टीकमगढ़ से लड़की को छतरपुर लेकर कैसे आया होगा। कयास यह लगाए जा रहे हैं कि प्रेम-प्रसंग के कारण लड़की टीकमगढ़ से छतरपुर स्वयं आ गई होगी।

मृतक पवन के भाई जाहर राजपूत ने बताया कि दयाराम, नाथूराम तथा नंदकिशोर राजपूत सुबह 5 बजे उसके पास आए थे और उसे छतरपुर ले जाना चाहते थे लेकिन वह खेत पर था इसलिए जाने से मना कर दिया। दोपहर में फिर तीनों लोग उसके पास आए और ले जाने की जिद करते रहे मगर मम्मी ने उनके साथ भेजने से मना कर दिया था। दोपहर के बाद उसे अपने भाई की मौत की खबर मिली।

"सूचना मिली थी कि लड़का और लड़की ने जहर खा लिया है जिससे लड़के की मौत हो गई और लड़की अस्पताल में भर्ती है। लड़की ने बताया कि उसे भी पवन ने जहर खिलाया था। मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद जो तथ्य सामने आएंगे उस आधार पर कार्यवाही होगी"

विनायक शुक्ला, टीआई, सिविल लाईन, छतरपुर

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्रामचैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।